तमिलनाडु में मुख्यमंत्री की कुरसी के लिए अच्छा तमाशा चला और शायद यह अभी कई महीने चलेगा. महारानी जयराम जयललिता की मृत्यु की खबर सुनते ही कुछ के सपने जाग गए और उन में से एक शशिकला हैं जो वर्षों से अविवाहित जयललिता के साथ साए की तरह रह रही थीं. जयललिता की मृत्यु के बाद उन का सारा पैसा और पार्टी के विधायकों की पोलपट्टी शशिकला के हाथों में आ गई और वे मुख्यमंत्री बनने के सपने देखने लगीं.

वे मुख्यमंत्री बन जातीं पर फिर उन पर जयललिता के साथ 65 करोड़ रुपए की बेईमानी के मामले में चल रहे मुकदमे की सुप्रीम कोर्ट में आखिरी फैसले की तारीख आ गई. इसलिए 3 बार कठपुतली बने मुख्यमंत्री पन्नीर सेल्वम ने विद्रोह करना शुरू कर दिया था. अब जब सुप्रीम कोर्ट ने शशिकला को 4 साल की सजा और 10 साल तक चुनाव न लड़ने की शर्त लगा दी है, पन्नीर सेल्वम के इरादे कुछ और हो गए हैं. वे अपना दावा ठोकने लगे हैं जबकि शशिकला के समर्थक अपना.

अम्मा और चिनम्मा के नाम पर चल रही राजनीतिक ड्रामेबाजी देश के लोकतंत्र की असल पोल खोलती है. हमारा चुनाव आयोग खासे निष्पक्ष चुनाव तो करा लेता है पर हमारी जनता अभी भी नहीं जानती कि शासकों के चुनाव में कैसी सावधानी बरतनी चाहिए कि केवल कर्मठ, सेवाभावी, जनहित के बारे में सोचने वाले नेता सत्ता में आएं. लगभग हर राज्य में चुनावों से जो जीतता है वह क.ालिखपुता होता है जिस का उद्देश्य जनता की समस्याएं दूर करना नहीं, अपने लिए व्यक्तिगत साम्राज्य खड़ा करना होता है.

आगे की कहानी पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें

सरस सलिल

डिजिटल प्लान

USD4USD2
1 महीना (डिजिटल)
  • अनगिनत लव स्टोरीज
  • पुरुषों की हेल्थ और लाइफ स्टाइल से जुड़े नए टिप्स
  • सेक्सुअल लाइफ से जुड़ी हर प्रॉब्लम का सोल्यूशन
  • सरस सलिल मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • समाज और देश से जुड़ी हर नई खबर
सब्सक्राइब करें

डिजिटल प्लान

USD48USD10
12 महीने (डिजिटल)
  • अनगिनत लव स्टोरीज
  • पुरुषों की हेल्थ और लाइफ स्टाइल से जुड़े नए टिप्स
  • सेक्सुअल लाइफ से जुड़ी हर प्रॉब्लम का सोल्यूशन
  • सरस सलिल मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • समाज और देश से जुड़ी हर नई खबर
सब्सक्राइब करें
और कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करें...