लेखक- शैलेंद्र कुमार ‘शैल’

25वर्षीय अंजलि यादव 22 मई, 2019 को अपने कमरे में कुरसी पर अकेली बैठी गहन चिंतन में डूबी हुई थी. वह सिद्धार्थनगर जिले के मोहाना थाना स्थित गौहनिया बाजार में विजय कुमार के मकान में पहली मंजिल पर रहती थी. अंजलि और उस की सहकर्मी मित्र खुशबू सिद्धार्थनगर के कंचनपुर प्राइमरी पाठशाला में एक साथ पढ़ाती थीं. चूंकि उन दिनों विद्यालय में ग्रीष्मकालीन छुट्टियां हो गई थीं. इसलिए छुट्टियां होते ही खुशबू अपने घर चली गई थी. अंजलि भी अपने घर जाने की तैयारी में थी.

अंजलि उत्तर प्रदेश के जालौन जिले के कठौद थाना क्षेत्र के हुसेपुरा सुरई की रहने वाली थी. वह सिद्धार्थनगर में रह कर नौकरी करती थी. 22 दिसंबर, 2017 को उस की पहली तैनाती सिद्धार्थनगर जिले के गौहनिया प्राइमरी पाठशाला में हुई थी. सरकारी अध्यापिका बन कर अंजलि संतुष्ट नहीं थी. क्योंकि उस ने अपने जीवन के लिए इस से भी बड़ा लक्ष्य तय किया था. वह लक्ष्य था आईएएस अधिकारी बनने का. अपनी धुन की पक्की अंजलि विद्यालय से कमरे पर आने के बाद एग्जाम की तैयारी करती थी.

बहरहाल, 22 मई को अंजलि अपने कमरे में अकेली थी. उसे अकेली देख कंपनी देने के लिए मकान मालिक की दोनों बेटियां रिया और सीमा उस के कमरे में आ गईं. वैसे भी जब वह अकेली होती थी, रिया और सीमा अकसर उसे कंपनी देने उस के पास आ जाया करती थीं. उस दिन भी दोनों बहनें उसे कंपनी देने कमरे में आई थीं.

बातोंबातों में कब 2-3 घंटे बीत गए, उन्हें पता ही नहीं चला. शाम साढ़े 3 बजे के करीब रिया और सीमा अपने कमरे में लौट आईं तो अंजलि फिर अकेली रह गई थी. एक घंटे बाद यानी शाम साढ़े 4 बजे के करीब अंजलि के कमरे से धुएं का तेज गुबार आसमान की ओर उठा तो उसे देख कर पासपड़ोस के लोग हैरान रह गए. कुछ ही देर में मौके पर सैकड़ों लोग जमा हो गए. अचानक घर के बाहर लोगों की भीड़ जुटते देख रिया और सीमा हैरान रह गईं. वे यह नहीं समझ पा रही थीं कि अचानक इतने लोग उन के घर के बाहर क्यों जमा हुए हैं. लेकिन जल्दी ही दोनों हकीकत समझ गईं. क्योंकि बाहर खड़े लोग आगआग चिल्ला रहे थे. पड़ोस के 8-10 लोग पहली मंजिल पर अंजलि यादव के कमरे तक पहुंचे. उन के साथ रिया और सीमा भी थीं. लोगों ने देखा कि उस के कमरे के बाहर दरवाजे पर ताला लगा हुआ था. उन्होंने किसी तरह ताला तोड़ कर दरवाजा खोला.

ये भी पढ़ें–  1 करोड़ की फिरौती ना देने पर ले ली प्रौपर्टी डीलर की 

कमरा खुलते ही भीतर का हृदयविदारक दृश्य देख कर सभी स्तब्ध रह गए. अंजलि की लाश पंखे से लटक रही थी. वह बुरी तरह जल चुकी थी. यह देख कर रिया और सीमा गश खा कर फर्श पर गिर गईं. उन्हें यह देख कर गहरा सदमा पहुंचा कि अभी थोड़ी देर पहले तीनों ने एक साथ बैठ कर घंटों बातें की थीं और अब ऐसे कैसा हो गया.

खैर, मौके पर ही भीड़ में से किसी ने 100 नंबर पर फोन कर के घटना की सूचना पुलिस कंट्रोलरूम को दे दी. चूंकि यह इलाका मोहाना थानाक्षेत्र के अंतर्गत आता है, इसलिए पुलिस कंट्रोलरूम द्वारा यह सूचना मोहाना थाने को दे दी गई.

पुलिस भी कुछ नहीं समझ पाई

यह खबर मिलते ही थानाप्रभारी अंजनी राय पुलिस टीम के साथ गौहनिया बाजार स्थित मौके पर जा पहुंचे. क्राइम सीन देख कर थानाप्रभारी और अन्य लोग भौचक रह गए. बुरी तरह जली अंजलि की लाश पंखे से झूल रही थी. उस के गले में लोहे की तार और पैर में जंजीर बंधी हुई थी. जंजीर तख्त के पटरे के ऊपर बने सुराख में बंधी थी. तख्त से सटे कमरे में गैस सिलेंडर रखा था और किचन में लाल रंग के 2 बैग रखे थे.

थानाप्रभारी ने इस की जानकारी एसपी डा. धर्मवर सिंह और एएसपी मायाराम वर्मा को दे दी. सूचना पा कर दोनों अधिकारी भी मौके पर पहुंच गए. उन्होंने भी घटनास्थल का बारीकी से मुआयना किया. थोड़ी देर बाद एफएसएल की टीम भी वहां आ गई. टीम ने वहां से सबूत जुटाए.

जांच करने के दौरान हैरान करने वाली यह बात सामने आई कि गैस सिलेंडर अंजलि के कमरे में कैसे पहुंचा? जबकि उसे किचन में होना चाहिए था. फिर उस के सामान से भरे 2 बैग किचन में क्यों रखे गए? जबकि बैग उस के कमरे में होने चाहिए थे.

परिस्थितियों से यह संकेत मिल रहे थे कि उस कमरे में अंजलि के अलावा कोई और भी था, जो उसे बेहद करीब से जानता रहा होगा और उस की पहुंच उस के कमरे तक रही होगी. पते की बात तो यह थी कि अंजलि के कमरे तक पहुंचने के लिए घर के मुख्यद्वार से हो कर जाना होता था. ऐसे में कोई था तो कातिल घटना को अंजाम दे कर आसानी से बाहर कैसे चला गया था. उसे किसी ने देखा तक नहीं, यह बात बेहद चौंकाने वाली थी.

एसपी डा. धर्मवीर सिंह और एएसपी मायाराम वर्मा ने मकान मालिक विजय कुमार से घटना से संबंधित पूछताछ की. विजय ने बताया कि इस बारे में उन्हें कुछ पता नहीं, लेकिन उन की दोनों बेटियां रिया और सीमा अंजलि के साथ लंबा समय बिताती थीं. उन से जरूर कोई जानकारी मिल सकती है.

विजय कुमार ने अपनी दोनों बेटियों को बुला लिया. उस समय वे एकटक फर्श पर नजरें गड़ाए उसे ही देखे जा रही थीं. लग रहा था जैसे दोनों किसी गहरे सदमे में हों, उन्हें होश ही न हो. अधिकारियों ने उन से अंजलि की जिंदगी से जुड़े कुछ सवाल पूछे, लेकिन वे दोनों न तो कुछ बोल पाईं और न ही बता पाईं. उस के बाद पुलिस ने पड़ोसियों से घटना के बारे में जानकारी करनी चाही, लेकिन वे कुछ नहीं बता सके.

सरस सलिल विशेष

लाश और मौके की स्थिति देख कर यही अनुमान लगाया जा रहा था कि अंजलि की हत्या कर के हत्यारे ने उस के शव को पंखे से लटका दिया होगा. यह हत्या है या आत्महत्या, इस सच का पता पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद लग सकता था.

पुलिस ने मौके की काररवाई निपटा कर लाश पोस्टमार्टम के लिए जिला अस्पताल भिजवा दी. उस के बाद पुलिस ने घटना की जानकारी उस के पिता अजय कुमार यादव को देते हुए उन्हें जल्दी पहुंचने के लिए कह दिया.

बेटी अंजलि की आकस्मिक मौत की सूचना मिलते ही घर में कोहराम मच गया. अंजलि की मां सावित्री देवी और छोटी बहन मनोरमा का रोरो कर बुरा हाल था. गांव वाले भी अंजलि की मौत की खबर सुन कर स्तब्ध थे. यकीन नहीं हो पा रहा था कि जो खबर उन्होंने सुनी, वह सच है. अंजलि थी ही ऐसी व्यवहारकुशल कि कोई भी उस की मौत को सच मानने के लिए तैयार ही नहीं था.

बहरहाल, बेटी की मौत की खबर मिलते ही अजय यादव अपने शुभचिंतकों को साथ ले कर जालौन से सिद्धार्थनगर चल दिए. उन के साथ में उन की छोटी बेटी मनोरमा भी थी. सिद्धार्थनगर पहुंच कर अजय यादव सीधा मोहाना थाने पहुंचे. उस समय शाम के 6 बज रहे थे.

इधर अंजलि की सहकर्मी और सहेली खुशबू को भी पुलिस ने फोन कर के सिद्धार्थनगर बुला लिया था ताकि उस की मौत की गुत्थी जल्द से जल्द सुलझाई जा सके. थानाप्रभारी अंजनी राय ने अजय यादव, उन की बेटी मनोरमा से पूछताछ की.

अजय यादव ने कहा, ‘‘अंजलि बेहद खुशदिल और नेक किस्म की निडर लड़की थी. वह तो सपने में भी मौत को गले लगाने की बात नहीं सोच सकती थी. जरूर उस की हत्या की गई है. वह कई दिनों से परेशान सी थी. पूछने पर कुछ बताती भी नहीं थी.’’

‘‘पापा सच कह रहे हैं,’’ बात काटती हुई मनोरमा बीच में बोली, ‘‘दीदी, वाकई कुछ दिनों से परेशान थीं.’’

‘‘किस बात को ले कर परेशान थीं?’’ थानाप्रभारी ने मनोरमा से सवाल किया.

ये भी पढ़ें- एटीएम तोड़ो, मालामाल हो जाओ…!

‘‘मैं ने इस बारे में दीदी से बात की थी. वह कुछ बताने को तैयार ही नहीं थीं. बस इतना कह रही थीं कि घर आने पर सारी बातें बताऊंगी. इतना कहने के बाद वह रोने लगी थीं. घटना वाले दिन शाम 4 बजे दीदी से मेरी बात हुई थी. उस समय वह कुछ ज्यादा ही परेशान लग रही थीं और फोन पर रो भी रही थीं. उस के बाद तो…’’ कह कर मनोरमा रो पड़ी.

मुकदमा हुआ दर्ज

थानाप्रभारी ने उसे प्यार से चुप कराया. तब तक मृतका की सहेली खुशबू भी वहां आ गई. पुलिस ने उस से भी पूछताछ की. तीनों से पूछताछ करने के बाद थानाप्रभारी अंजनी राय ने अजय यादव की तरफ से अज्ञात के खिलाफ आत्महत्या के लिए उकसाने का मुकदमा दर्ज कर लिया.

यह बात 22 मई, 2019 की है. मुकदमा दर्ज करने के बाद पुलिस जांच में जुट गई. पुलिस ने अंजलि के मोबाइल नंबर की काल डिटेल्स निकलवाई. काल डिटेल्स में एक नंबर ऐसा मिला, जिस पर अंजलि की अकसर लंबीलंबी बातें होती थीं.

जांच में वह नंबर अंजलि के साथ विद्यालय में पढ़ाने वाले शिक्षक राकेश कुमार यादव का निकला. दोनों के रिश्तों के बारे में जब पुलिस पड़ताल की गई तो चौंकाने वाले तथ्य खुल कर सामने आए. अंजलि यादव और राकेश कुमार यादव के बीच काफी समय से मधुर संबंध थे.

दोनों एकदूसरे से प्यार करते थे और जल्द ही शादी करने वाले थे. यह बात अंजलि के घर वाले, उस की सहेली खुशबू और विद्यालय के अन्य शिक्षक जानते थे. पुलिस ने जब यह बात मृतका के पिता अजय यादव को बताई तो उन्होंने कहा कि इस बारे में उन्हें सारी बातें पता हैं.

उन्होंने पूरे विश्वास के साथ कहा कि उन की बेटी की मौत में उसी शिक्षक का हाथ है, जिस से वह प्यार करती थी. उस से सख्ती से पूछताछ की जाए तो मामला सामने आ जाएगा. काल डिटेल्स और अन्य जांच के बाद यह मामला प्रेम में धोखा मिलने के रूप में सामने आया.

काल डिटेल्स और मृतका के पिता अजय कुमार यादव के बयान के आधार पर पुलिस ने शिक्षक राकेश कुमार यादव को 26 मई, 2019 को उस के घर से गिरफ्तार कर लिया.

राकेश देवरिया के थाना कोतवाली सदर स्थित गांव चकरवाधुस पनसरही का मूल निवासी था और मोहाना में किराए का कमरा ले कर रहता था. ग्रीष्मकालीन अवकाश होने की वजह से वह अपने घर चला गया था.

पूछताछ में उस ने पुलिस के सामने यह बात तो कबूल कर ली कि वह और अंजलि एकदूसरे से प्यार करते थे लेकिन उस की मौत में मेरा कोई हाथ नहीं है. मुझे नहीं पता कि अंजलि ने किस वजह से मौत गले लगाई या उस की किस ने हत्या की. मैं निर्दोष हूं.

पुलिस ने राकेश की एक नहीं सुनी. चूंकि अजय यादव ने उस के खिलाफ रिपोर्ट लिखवाई थी, इसलिए पुलिस ने राकेश को गिरफ्तार कर के जेल भेज दिया. चूंकि अध्यापक राकेश यादव खुद को निर्दोष बता रहा था, इसलिए यह मामला हत्या और आत्महत्या के बीच उलझ कर रह गया था.

पुलिस गुत्थी को सुलझाने में जुटी हुई थी. जब तक पुलिस गुत्थी को सुलझाने का प्रयास करती है, तब तक कहानी को आगे बढ़ाने के लिए अंजलि की निजी जिंदगी की डायरी के पन्नों को पलटते हैं.

25 वर्षीय अंजलि यादव मूलरूप से उत्तर प्रदेश के जालौन जिले के थाना कठौद के हुसेपुरा सुरई की रहने वाली थी. उस के पिता अजय कुमार यादव किसान थे. उन के पास 8 बीघा जमीन थी.

उन के परिवार में पत्नी सावित्री के अलावा 5 बेटियां मनीषा, बेबी, रूपाली, अंजलि और मनोरमा थीं. खेती के अलावा अजय की हुसेपुरा सुरई बाजार में दवाई की दुकान थी. इस तरह वह इतना कमा लेते थे, जिस से उन की गृहस्थी मजे से चल रही थी.

अंजलि अध्यापिका नहीं कुछ और बनना चाहती थी

बेहद समझदार और सुलझे अजय यादव ने कभी बेटा और बेटियों में फर्क महसूस नहीं किया था. वह भले ही गांव में रहते थे, लेकिन बच्चों को संस्कार देने में कभी पीछे नहीं हटे. बच्चों को सामाजिक मानमर्यादा का पाठ पढ़ाना तो जैसे उन की दैनिक क्रियाओं में शामिल था.

यही वजह थी कि उन की पांचों बेटियां बेहद संस्कारी और गुणी निकलीं. पांचों बेटियां पढ़ने में होशियार थीं, जिन में चौथे नंबर की बेटी अंजलि और बहनों से ज्यादा समझदार थी.

अंजलि का सपना बड़े हो कर कलेक्टर बनने का था यह सपना उस ने सिर्फ खुली आंखों से देखा ही नहीं था बल्कि वह उसे सच करने के लिए रातदिन कमरतोड़ मेहनत करती थी. उसी तैयारी के बीच उस की शिक्षा विभाग में नौकरी लग गई. उस ने यह नौकरी यह सोच कर जौइन कर ली कि यहां से मिलने वाली सैलरी से उस के और मातापिता के खर्च पूरे हो सकेंगे और वह समय मिलने पर प्रशासनिक सेवा परीक्षा की तैयारी भी करती रहेगी.

सितंबर, 2017 में अंजलि की सिद्धार्थनगर के गौहनिया में पहली तैनाती हुई थी. चंचल और चुलबुली अंजलि ने थोड़े ही समय में विद्यालय के सभी शिक्षकों को अपना बना लिया था. उस का बच्चों को पढ़ाने का तरीका भी अलग था. वह बच्चों को हंसाते गुदगुदाते हुए पढ़ाती थी. उस की इस कलात्मक और अनोखी शैली से बच्चे जल्द ही अपना पढ़ाई का काम पूरा कर लेते थे.

बच्चे तो बच्चे, शिक्षक राकेश कुमार यादव भी अंजलि के खुशमिजाज का मुरीद था. अंजलि कब आंखों के रास्ते उस के दिल में उतर आई, उसे पता ही नहीं चला. जब पता चला तो अंजलि उस की कमजोरी बन चुकी थी. कहने का मतलब यह है कि राकेश अंजलि की खूबसूरती पर फिदा था और उस से प्यार करने लगा था.

यह बात अंजलि को पता नहीं थी कि कोई उस का दीवाना बना हुआ है, जो उस पर जान छिड़कता है. वैसे भी अंजलि ऐसीवैसी युवती नहीं थी जो सामाजिक दायरों को लांघे. उसे तो बस अपने काम से मतलब था.

सरस सलिल विशेष

शिक्षक राकेश कुमार यादव अंजलि से उम्र में काफी बड़ा था और शादीशुदा भी. लेकिन खुद को उस ने कुंवारा बताया था. धीरेधीरे अंजलि को राकेश के चाहत भरे इरादों का पता चल गया. तब उस ने राकेश से साफसाफ कह दिया कि उसे प्यार जैसी बातों में अभी कोई दिलचस्पी नहीं है. वह उसी लड़के से शादी करेगी, जिस से उस के मांबाप करना चाहेंगे.

अंजलि की यह बात राकेश को बुरी नहीं लगी, बल्कि उसे उस पर और भी प्यार उमड़ आया था. अंजलि की एक खास सहेली खुशबू थी, वह अपने दिल की हर बात उसी से शेयर करती थी. उस ने उसे यह भी बता दिया था कि राकेश उस पर फिदा है.

राकेश ने जब देखा कि उस की दाल नहीं गल रही है तो उस ने उस की सहेली खुशबू को पटा कर उसे सीढि़यां बनाया. राकेश ने खुशबू से अंजलि तक अपने प्यार का पैगाम भिजवा दिया.

खुशबू ने अंजलि के सामने राकेश की ऐसी जोरदार वकालत की कि उस ने राकेश के प्यार को स्वीकृति दे दी. पते की बात यह थी कि राकेश ने खुशबू से भी अपने शादीशुदा होने की बात छिपा ली थी. खुशबू के जरिए राकेश और अंजलि एकदूसरे के करीब आए. दोनों ही एकदूसरे से प्रेम करने लगे थे.

राकेश अंजलि का पहला प्यार था. उस का प्रेम निश्छल और पाकीजा था. वह उसे जीजान से प्यार करने लगी थी. जबकि राकेश शातिर और छलिया था. उसे अंजलि से नहीं बल्कि उस के गोरे बदन से प्रेम था. वह सिर्फ उस के जिस्म का भूखा था और जिस्मानी रिश्ता बना कर उसे छोड़ देना चाहता था.

इस के लिए वह किसी भी हद तक जाने को तैयार था. उस ने उस के सामने शादी का प्रस्ताव रखा तो अंजलि उस के इस प्रस्ताव को ठुकरा नहीं सकी और शादी के लिए हां कर दी. इधर अंजलि के मांबाप ने उस की शादी झांसी के एक इंजीनियर के साथ पक्की कर दी थी. यह बात अंजलि को तब पता चली जब उसे गोदभराई की तारीख बताई गई. यह सुन कर अंजलि को झटका लगा. अपने प्यार की बात वह मांबाप से बताने ही वाली थी कि उसे अपनी शादी तय होने की खबर मिल गई.

ये भी पढ़ें-  जस्टिस फौर ट्विंकल

राकेश ने धोखा किया था अंजलि के साथ

अंजलि अपनी शादी तय होने वाली बात राकेश को बताने ही जा रही थी कि उसे राकेश के शादीशुदा होने की बात पता चली. यह जान कर अंजलि को बड़ा दुख हुआ. अपने साथ होने वाले इस धोखे की बात पता चलते ही अंजलि टूट सी गई और परेशान रहने लगी. उसे राकेश से ऐसी उम्मीद नहीं थी कि वह उसे इतना बड़ा धोखा दे सकता है.

प्यार में धोखा खाने के बाद अंजलि टूट सी गई थी. फरवरी, 2019 में उस की गोदभराई थी. गोदभराई में अंजलि घर आई तो जरूर थी, लेकिन उसे इस शादी से कोई खास दिलचस्पी नहीं थी. शादी को ले कर जो उत्साह उस के चेहरे पर होना चाहिए था, वह नदारद था. इसे मांबाप के साथ उस की बहनों ने भी महसूस किया था. खैर, गोदभराई की रस्म पूरी होने के बाद 5 मई, 2019 को अंजलि की शादी की तारीख पक्की हुई थी. इत्तफाक से उस तारीख पर चुनाव होना था, इसलिए शादी की तारीख आगे बढ़ा दी गई. गोदभराई की रस्म पूरी होने के बाद अंजलि नौकरी पर लौट आई थी.

प्यार में धोखा खाने के बाद अंजलि का मन किसी काम में नहीं लग रहा था. वह हमेशा उदास रहती थी. अंजलि को अकेली या उदास देख कर उस के मकान मालिक की दोनों बेटियां रिया और सीमा उस के पास जा कर बैठ जाती थीं. दोनों के आ जाने से अंजलि का मन लग जाता और थोड़ा समय अच्छे से कट जाया करता था.

20 मई, 2019 को स्कूलों में 45 दिन का ग्रीष्मकालीन अवकाश हुआ. छुट्टी होते ही विद्यालय के सभी अध्यापक अपनेअपने घर चले गए. अंजलि की सहेली खुशबू भी अपने घर आ गई थी. अंजलि ने भी 22 मई को घर जाने की तैयारी कर ली थी.

21 मई, 2019 के दिन अंजलि के कमरे पर कई लोग आतेजाते रहे. दोपहर बाद जब अंजलि काम से फारिग हुई तो रोज की तरह रिया और सीमा उस के कमरे में चली गईं. तीनों बैठ कर घंटों इधरउधर की बातें करती रहीं. साढ़े 3 बजे के करीब दोनों बहनें अपने कमरे में वापस लौट आई थीं.

क्या रहस्य बन कर रह जाएगी अंजलि की मौत

रिया और सीमा के वहां से जाने के बाद अंजलि के पास उस की छोटी बहन मनोरमा का फोन आया था. वह उस से पूछ रही थी कि विद्यालय में छुट्टियां हो गई हैं, घर कब आ रही हो. उस ने छोटी बहन से कहा कि आज शाम को घर के लिए रवाना होऊंगी.

इस के बाद अंजलि फोन पर ही रोने लगी. मनोरमा ने उस से रोने की वजह पूछी तो उस ने फोन पर कुछ नहीं बताया. बस इतना ही कहा कि घर आने के बाद सब बताऊंगी. इस के बाद फोन कट गया. इस के ठीक आधे घंटे बाद रहस्यमय तरीके से अंजलि के कमरे से धुएं का बड़ा गुबार उठा. बाद में रहस्यमय तरीके से पंखे से झूलती उस की लाश मिली.

बहरहाल, मोहना पुलिस की करतूत से बेसिक शिक्षा अधिकारी राम सिंह भी आहत हैं. बीएसए राम सिंह ने आरोप लगाया कि मंगलवार 21 मई को जब घटना की जानकारी हुई तो वह शाम करीब 6 बजे गौहनिया स्थित अंजलि यादव के कमरे पर पहुंचे. वहां मौजूद एक दरोगा ने उन्हें नीचे ही रोक दिया. जब उन्होंने परिचय दिया तब जा कर परिसर में बैठने की अनुमति दी गई. एसपी डा. धर्मवीर सिंह से बात करने के बाद उन्हें कमरे में जाने दिया गया.

वहां पर 5 पुलिस वाले बैठे हुए थे. शव के गले में लोहे का तार बंधा हुआ था. पैर जंजीर से बांधा गया था. सवाल यह है कि अगर अंजलि को आत्महत्या करनी थी तो उस ने गला व पैर क्यों बांधा था. फिर उस ने दरवाजे पर बाहर ताला कैसे लगा लिया.

इस सवाल का जवाब पुलिस के पास नहीं था. सवाल सुन कर पुलिस का बस इतना ही कहना था कि पुलिस हत्या और आत्महत्या दोनों पहलू पर जांच कर रही है. इस के लिए स्वाट टीम को भी लगा दिया गया है. महिला पुलिस भी अलग से जांच कर रही है. दोषियों को किसी कीमत पर बख्शा नहीं जाएगा.

उधर 24 मई, 2019 को राज्य महिला आयोग की सचिव अंजू चौधरी ने शिक्षिका अंजलि यादव कांड का संज्ञान लिया. आयोग की टीम ने गौहनिया बाजार स्थित घटनास्थल का निरीक्षण किया. पूरे मामले को संदिग्ध मानते हुए महिला आयोग ने प्रदेश सरकार से उच्चस्तरीय जांच करने की अनुशंसा की.

आयोग की सचिव अंजू चौधरी ने पहले दिन से ही इस मामले को आत्महत्या मानने पर पुलिस विभाग को आड़े हाथों लिया. उन्होंने फोन पर परिजनों से बात की और उन्हें न्याय दिलाने का आश्वासन दिया.

खैर, अंजलि की मौत पूरी तरह रहस्य बन कर रह गई है. उस ने आत्महत्या की या किसी ने उस की हत्या कर के आत्महत्या का रूप दिया, पुलिस दोनों पहलुओं से जांच कर रही है.

ये भी पढ़ें– आशिक बन गया ब्लैकमेलर

अंजलि से राकेश के प्रेम संबंध थे, यह सच था. उस ने उसे धोखा दिया, यह भी सच था. पुलिस ने राकेश को अंजलि को आत्महत्या के लिए प्रेरित करने के आरोप में जेल भेज दिया. शायद पुलिस ने यह इसलिए किया होगा कि जनाक्रोश को शांत किया जा सके.

कथा लिखे जाने तक पुलिस अंजलि कांड की गुत्थी को सुलझाने में जुटी हुई थी. क्या पुलिस इस गुत्थी को सुलझा पाएगी, यह अभी कहा नहीं जा सकता. द्य

—कथा में रिया और सीमा परिवर्तित नाम है. कथा पुलिस सूत्रों पर आधारित

(कहानी सौजन्य मनोहर कहानी)

Tags:
COMMENT