ऐसे इश्तिहार देने वाले बाबाओं का दावा होता है कि वे किसी की भी बड़ी से बड़ी परेशानी को चुटकी बजाते ही हल कर सकते हैं. वे खुद को तंत्र विद्या में माहिर तांत्रिक बताते हैं. इश्तिहारों के जरीए वे घर बैठे लोगों तक आसानी से पहुंच जाते हैं.

हैरानी की बात तो यह है कि लोग इन के इस छलावे में आ भी जाते हैं. वे इन्हें फोन करते हैं, अपनी परेशानियां सुनाते हैं, कई बार तो ये ढोंगी बाबा

उन्हें फोन पर ही ऊलजुलूल सुझाव देते हैं या अपने शिविर या कहें दफ्तर में बुलाते हैं.

इन बाबाओं के पास अकसर लोग औलाद पाने की आस में ही जाते हैं और इस परेशानी से बचने के लिए या तो बाबा औरत को बहलाफुसला कर सैक्स करते हैं या फिर उसे बेहोश कर के बलात्कार.

महाराष्ट्र की एक वारदात है. खुद को ‘भगवान का दूत’ कहने वाले 45 साल के ऐसे ही एक ढोंगी के पास एक औरत पहुंची. उस औरत ने जब बाबा को अपनी परेशानी बताई तो वह उसे एक कमरे में ले गया. वहां औरत के ऊपर गंगाजल छिड़का गया और उसे नींद की दवा दी गई.

दवा का असर होने लगा तो बाबा और उस के एक नंगधड़ंग साथी ने उस औरत को यहांवहां छूना शुरू कर दिया और बाद में ढोंगी बाबा ने उस का बलात्कार किया.

इस मामले पर वकील रंजना का मानना है कि पीडि़त औरतों द्वारा ऐसे ढोंगियों के खिलाफ किसी तरह की कोई कार्यवाही की मांग नहीं की जाती है क्योंकि उन्हें समाज का डर तो होता ही है, साथ ही इस बात का भी डर होता है कि कहीं उन के पति उन्हें छोड़ न दें.

औलाद के नाम पर बलात्कार ही केवल एक अपराध नहीं है जो ये ढोंगी करते हैं, बल्कि पूजापाठ और कष्टों को मिटाने के नाम पर लोगों को लूटना, बलि चढ़वाना और टोनाटोटका करना भी इन का पेशा है.

ऐसे ही 2 बाबाओं में मोहम्मद आसिफ और मोहम्मद ताहिर के नाम भी शुमार हैं. हैदराबाद के इन 2 ढोंगियों ने लिबर्टी प्लाजा नाम की इमारत में अपना औफिस खोल कर लोगों को ठगने का बड़ा ही अच्छा इंतजाम कर रखा था.

ज्योति नाम की एक औरत इन के पास अपनी पारिवारिक समस्या के हल के लिए आई. इन दोनों ने उस से कहा कि उस के घरपरिवार पर बुरी ताकतों का साया है, साथ ही यह भरोसा भी दिया कि उन के द्वारा किए गए टोनेटोटके से यह साया पूरी तरह से हट जाएगा.

ये भी पढ़ें- इलाज का बहाना, दैहिक शोषण जारी

नासमझी के चलते ज्योति ने अपने गहने और 50,000 रुपए इन ढोंगियों की झोली में ला कर रख दिए. पैसे और जेवर ले कर ये ढोंगी वहां से खिसक लिए, जबकि ज्योति अपना माथा पीटती रह गई.

मौडर्न बाबा

इन तांत्रिकों और वशीकरण करने वाले बाबाओं ने अपना लैवल बहुत ज्यादा बढ़ा लिया है, अब केवल अखबार, पत्रिकाएं व पोस्टर ही ऐसा जरीया नहीं हैं जिन के द्वारा ये अपना कारोबार फैला रहे हैं, बल्कि अब इन की वैबसाइट भी बनने लगी हैं.

ऐसी ही एक वैबसाइट पर लिखा हुआ था, ‘कहीं न हो काम, हम से पाएं समाधान, लवमैरिज, सौतन, दुश्मन से छुटकारा, निराश प्रेमी संपर्क करें…’

सरस सलिल विशेष

इस वाक्य को पढ़ कर जो पहला सवाल जेहन में आता है, वह यह है कि क्या सचमुच इन बेतुकी बातों पर लोग यकीन करते होंगे?

इस सवाल का जवाब पाने में ज्यादा देर नहीं लगी. नालासोपारा इलाके में फेक बाबा, सांईं के भेष में बलात्कारी और

2 भाइयों ने बलि चढ़ाया परिवार जैसी घटनाएं पढ़ कर तो यकीन हो गया है कि भारत में अंधविश्वासियों की कमी नहीं है.

मुद्दा यह नहीं है कि ये पाखंडी बाबा बन कर ये सब अपराध क्यों कर रहे हैं, बल्कि मुद्दा यह है कि लोग इन्हें ये अपराध करने ही क्यों दे रहे हैं?

ढोंगियों से बचें

इन ढोंगियों पर उंगली उठाने से पहले इन के पास जाने वाले लोगों की गलती को बड़ा मानना ज्यादा बेहतर होगा. आखिर ये वही लोग हैं जो निर्मल बाबा के ‘लाल चटनी से समोसा खाने के बजाय हरी चटनी से खाइए, सभी परेशानियां ठीक हो जाएंगी’ जैसे उपदेशों पर यकीन करते हैं.

बात वहीं आ जाती है कि बचाव क्या है? तो बचाव यही है इन ढोंगियों के चंगुल से दूर रहना. घर में, दफ्तर में या आपसी रिश्तों में जो कष्ट हैं, उन का हल आप को अपनी खुद की समझदारी से मिलेगा, किसी के टोनेटोटके से नहीं. औलाद न होने की कई वजहें हो सकती हैं और विज्ञान में उन के उपाय भी हैं. इन बाबाओं के पास जा कर कोई भभूत खा कर या बलात्कार का शिकार हो कर बच्चा पाना कोई समाधान नहीं है.     द्य

कानून है आप के साथ

द्य आईपीसी की धारा 416 : धोखाधड़ी करने पर किसी भी शख्स को एक साल तक की जेल या जुर्माना भरना पड़ सकता है

या दोनों.

द्य आईपीसी की धारा 420 : इस कानून के तहत अगर कोई आदमी किसी की निजी जायदाद से जुड़ी कोई धोखाधड़ी करता है तो उसे 7 साल तक की जेल व जुर्माना भरना पड़ सकता है.

ये भी पढ़ें- सिरकटी लाश ने पुलिस को कर दिया हैरान

द्य इस के अलावा धोखाधड़ी और ठगी के लिए धारा 420, 508 और साधारण कानून के आधार पर इन पाखंडियों को जेल पहुंचाया जा सकता है.

द्य पाखंडियों द्वारा बलात्कार या कत्ल जैसी वारदातों को अंजाम दिया जाता है तो उसी के मुताबिक आईपीसी की धाराएं लागू होंगी.

Tags:
COMMENT