पैसों का लेनदेन हत्या का सबब प्रारंभ से रहा है कहावत भी है कि जर जोरू और जमीन के कारण ही सारे अपराध घटित होते हैं. छत्तीसगढ़ के दुर्ग जिला में दो किन्नरों में पैसे की लेनदेन को लेकर मामला इतना आगे बढ़ गया एक ने अपने दूसरे साथी किन्नर को चाकू से गोद गोद कर मार डाला.

बच्चा तस्करी के आरोप में पूर्व मे गिरफ्तार किन्नर (थर्ड जेंडर) छाया उर्फ सोनू की हत्या  की गुत्थी  छत्तीसगढ़ की दुर्ग  पुलिस ने 24 घंटे में ही सुलझा ली. आरोपी कागज किन्नर, उर्फ शंकर बुद्धे, पिता गंगा राम बुद्धे, उम्र 30 ने अपना जुर्म कबूल करते हुए स्वीकार किया कि  उसने पैसों के लेन देन के कारण अपनी साथी किन्नर छाया को मौत के घाट उतार दिया था.

ये भी पढ़ें- इश्क की फरियाद: भाग 2

छत्तीसगढ़ के दुर्ग जिला के पुलिस कप्तान विवेक शुक्ला (आई पी एस) ने  हमारे संवाददाता को बताया कि आरोपी और मृतक छाया एक ही मोहल्ले में रहते थे. घटना वाले दिन आरोपी ने छाया को घर पर रात का खाना खाने के लिए बुलाया. पहले तो दोनों ने खूब  शराब पी, इसके बाद ब्लेड और चाकू से वार कर उसने छाया की हत्या कर दी.

किन्नर काजल के अनुसार  छाया ने दो साल पहले करीब 70 हजार रुपए उससे उधार लिए थे. वह मांगने पर भी बहुत  दिनों से वह पैसे नहीं दे रही थी. इसी बात को लेकर विवाद हुआ और उसने तैश में आकर  छाया  की हत्या कर दी.रविवार 29 सितम्बर की सुबह किन्नर छाया की लाश राजीव नगर के तालाब के निकट  झाडिय़ों के पास बारदाने  मे लिपटी मिली थी.

शराब पिलाया और मार डाला

इस जघन्य हत्याकांड पर पुलिस की तत्परता से हालांकि पर्दा जल्दी उठ गया. मगर जो घटनाक्रम घटित हुआ है वह कई मायने में चौंकाने वाला है. घटना के दिन छाया को काजल ने अपने आवास पर बुलाया और खूब खाने पीने आवा भगत की व्यवस्था की, उसका आशय यह था कि या तो छाया उसके उधार लिए सतर  हजार रुपये बोलो लौटा दें,  खा पीकर प्रसन्न हो जाए या फिर वह इतना शराब पिला देगी की छाया होश में ना रहे और वह अपना बदला ले ले.

ये भी पढ़ें- इश्क की फरियाद: भाग 1

खूब आवभगत के बाद भी जब छाया ने काजल को रुपए देने से मना कर दिया तो काजल ने छाया की हत्या को दे अंजाम दिया.

जांच अधिकारी सुरेश ध्रुव ने बताया के हत्या गला रेत कर की गई थी. पेट में आधा दर्जन वार करने के निशान भी पुलिस को मिले थे. सबसे  बड़ी  बात मृतक किन्नर के हाथ भी बंधे हुए थे.पुलिस को शक था कि आरोपी ने पहले किन्नर के हाथ बांधे उसके बाद हत्या को अंजाम दिया .हत्या के बाद लाश पहले कपड़े में लपेटा गया और बारदाने  में डालकर फेंक दिया गया.

मृतक पर था बच्चा चोरी का गंभीर आरोप

नगर निरीक्षक एवं इस प्रकरण के जांच अधिकारी सुरेश ध्रुव ने बताया पहले पुलिस इस हत्या को किन्नरों के दो गुटों के बीच रंजिश मान कर जांच करती रही . पुलिस ने 2 किन्नर समेत 4 संदेहियों को हिरासत में लेकर उनसे पूछताछ भी की थी . यहां महत्वपूर्ण तथ्य यह भी है कि गया नगर निवासी किन्नर छाया बच्चा तस्करी के आरोप में पखवाड़े भर जेल में रहने के बाद 12 दिन पहले जमानत पर रिहा हुई थी.

ये भी पढ़ें- हुस्न के जाल में फंसा कर युवती ने ऐंठ लिए लाखों

मृतक किन्नर छाया उर्फ सोनू पर डेढ़ साल के बच्चे की तस्करी का आरोप है. कोतवाली पुलिस ने उसके खिलाफ बच्चा तस्करी का प्रकरण दर्ज किया था. फर्जी गोद नामा की आड़ में बच्चा तस्करी के खुलासे के बाद छाया को पुलिस ने 1 सितंबर को गया नगर के झंडा चौक से उसके किराए के घर से गिरफ्तार किया था। उसके पास से डेढ़ साल का बच्चा मिला था. किन्नर ने बच्चे को उसकी मां मोना सागर के हमेशा नशे की हालत मे रहने के कारण, रायगढ़, छत्तीसगढ़ से उठा लाने की पुलिस में स्वीकारोक्ति की थी.

कहानी सौजन्य – मनोहर कहानियां

Tags:
COMMENT