राजस्थान के श्रीगंगानगर की रहने वाली डेंटिस्ट मोनिका रावण ने साल 2015 में अपना करियर बदलने का फैसला किया और बौलीवुड एक्ट्रैस बनने की ठानी. उनकी फिल्म वन डे जस्टिस डिलिवर रिलीज हो चुकी है. हाल ही में हमने उनसे एक खास बातचीत की है जिसमें डा. मोनिका ने दावा किया है कि वह बतौर एक्ट्रैस अपने करियर को काफी एन्जौय कर रही हैं. पेश है उनसे हुई एक्सक्लूसिव बातचीत के अंश..

अपनी अब तक की यात्रा को किस तरह से देखती हैं?
– मैं श्रीगंगानगर, राजस्थान की रहने वाली हूं. यहां पर अभी भी लोग दकियानूसी है. वहां पर पढ़ाई के अलावा कुछ और करने के बारे में सोचते ही नही हैं. वहां एक ही सोच है कि लड़का इंजीनियर बनेगा, लड़की डौक्टर बनेगी. राजस्थान में माता पिता अपने बच्चे की कुछ ज्यादा ही केयर करते हैं. इसीलिए वह अपने बच्चों से वही काम करवाना पसंद करते हैं जो उन्हे ज्यादा सुरक्षित नजर आता है. इसी के चलते मैं ने बीडीएस की डिग्री हासिल कर डेन्टिस्ट बनीं और मैंने श्री गंगानगर में अपना हौस्पिटल खोला. जबकि मैं बचपन से डांस सीखती रही हूं. डाक्टरी करते समय मुझसे लोग कहा करते थे कि मुझे फिल्मों में हीरोईन बनना चाहिए. मैंने हौस्पीटल खोलने के बाद फिर से डांस व गिटार बजाना सीखना शुरू किया. 2014 में मुझसे किसी ने कहा कि मैं एक पंजाबी फिल्म के लिए औडीशन दे दूं, तो अपने पिता को मनाकर उनके साथ औडीशन देने चली गई. अमृत पाल व कई दूसरे कलाकारों के साथ पंजाबी फिल्म ‘‘आजादी द फ्रीडम’’ की. उसके बाद मैं वापस अपने हौस्पीटल नहीं जा पाई. इस पंजाबी फिल्म को काफी पसंद किया गया. उसके बाद मैंने कई पंजाबी म्यूजिक वीडियो किए. फिर कुछ राजस्थानी फिल्म ‘‘ट्रक ड्राइवर’ की, पर राजस्थानी फिल्म अब तक रिलीज नही हो पाई. इसके बाद मैं मुंबई आ गई और 2017 में मैने हिंदी फिल्म ‘‘विराम’’ की, जिसमें उर्मिला महंता, नरेंद्र -हजया भी थे. टीसीरीज के ‘अर्जियां’ सहित कई म्यूजिक एल्बम किए. उसके बाद टीवी पर ‘बनो धीत’ का कैम्पेन किया. कैंसर अवेयरनेस कैंपेन किए. पंजाबी म्यूजिक अल्बम भी किए. अब मेरी फिल्म ‘वन डे जस्टिस डिलिवर’’ रिलीज हो रही है.

ये भी पढ़ें- TV की इस खूबसूरत एक्ट्रेस के साथ रोमांस करेंगे आयुष्मान खुराना

 

View this post on Instagram

 

#onedayjusticedelivered

A post shared by Monika Ravan (@monikaravan) on

फिल्म ‘‘वन डे जस्टिस डिलिवर’’ क्या है?
– मैं इसे क्राइम थ्रिलर फिल्म मानती हूं, जिसमें देश की कानून व्यवस्था पर कुछ सवाल उठाए गए हैं. मैंने इसमें टाइटल ट्रैक किया है. यह मेरे लिए अहम है.  मुझे अनुपम खेर व ईशा गुप्ता के साथ स्क्रीन शेअर करने का अवसर मिला.

पर इस तरह फिल्म में महज एक गाना या छोटे किरदार निभाने से करियर आगे जा
सकता है?
– मैं स्टार डौटर नहीं हूं. मैंने किसी फिल्मी परिवार में जन्म नहीं लिया है. इसलिए जो भी मौका मिले,उसे पकड़ लेना चाहिए. हर मौका ईश्वर देता है. मेरे लिए यह बड़ा मौका है. मैने पहले भी हीरोईन के तौर पर पंजाबी, राजस्थानी सिनेमा के अलावा हिंदी फिल्म ‘विराम’ कर चुकी हूं. इसके अलावा अभी भी हीरोइन यानी कि लीड एक्ट्रैस के तौर पर फिल्म कर रही हूं. मैं अपने कदम पीछे लेने में यकीन नही करती.

ये भी पढ़ें- आखिर क्यों नेहा धूपिया और अंगद बेदी से नाराज हैं 

स्टार डौटर न होने का खामियाजा आपको भुगतना पड़ रहा है?
– मैं किसी भी स्टार बेटी के खिलाफ नहीं हूं. मै ये नहीं कहती कि उनकी जिंदगी बहुत आसान है. बल्कि हम सभी को यहां मेहनत कर दर्शकों के बीच अपनी पहचान बनानी पड़ती है. मैं अपने करियर को एन्जौय कर रही हूं. आज भी मुझे औडीशन देने में मज़ा आता है. मुझे मुंबई की सड़कों और कौन सही व कौन गलत है, यह जानने में दो साल का वक्त लग गया.

अपने संघर्ष को लेकर क्या कहेंगी?
– मेरा यहां कोई गौड फादर नहीं है. तो मैने औडीशन देकर ही फिल्में पाईं है. मेरा तीन साल का संघर्ष बहुत आसान नहीं रहा. पर मैं लक्की रही कि मुझे सही लोग ही मिले.

इसके बाद क्या कर रही हैं?
– मैं एक सुपर नेचुरल पावर पर आधारित फिल्म कर रही हूं, पर इसका नाम व अन्य विस्तृत जानकारी फिलहाल अभी नहीं दे पाउंगी. एक मराठी फिल्म में हीरोइन बनकर आने वाली हूं.

ये भी पढ़ें- अब अपने नए गाने से सभी का दिल लूटेंगी सपना चौधरी

आप फिल्मों से जुड़ने की इच्छुक लड़कियों से क्या कहना चाहेंगी?
– मैं तो पूरे देश के हर माता पिता से कहना चाहूंगी कि वे अपने बच्चों की प्रतिभा को पहचानें और बच्चे की प्रतिभा को पहचान कर उसी दिशा में उसे आगे भेजने के लिए प्रोत्साहित करें. मुझे अपने डौक्टरी पेशे के प्रति गर्व है. मैं सम्मानित महसूस करती हूं कि मैं डेन्टिस्ट हूं, भले ही मैं अभिनय कर रही हूं मगर यदि मैंने डौक्टरी की पढ़ाई में जो समय लगाया, वह समय बौलीवुड में संघर्ष करने में बिताए होते, तो शायद आज किसी अन्य मुकाम पर होती.

शौक?
– नई-नई भाषाएं सीखना और डांस करना.

किस तरह के किरदार निभाना चाहती हैं?
– फिलहाल मैं इस मुकाम पर नही हूं कि मैं अपनी पसंद लोगों पर थोप सकूं. मेरे पास जो औफर आते हैं, उसमें से जो बेहतर होता है वे स्वीकार कर लेती हूं. मेरा मकसद अपनी हर फिल्म के माध्यम से समाज को एक अच्छा संदेश देना होता है. फिल्म ‘वन डे जस्टिस डिलिवर’ से सभी लोगों को अच्छा संदेश मिलेगा. मुझे गंदा संदेश देने वाले या एडल्ट वेब सीरीज नहीं करनी है.

Tags:
COMMENT