बहू बिन दहेज के आती है तो उसे घर के रिश्तों में प्यार व अपनत्व की जगह अकसर कड़वाहट ही मिलती है. नीलम की भी यही कहानी थी, लेकिन हर कहानी का अंजाम वैसा नहीं होता जैसा हम सोचते हैं.