सरस सलिल विशेष

कभी कभी अचानक ही ऐसी बात हो जाती है, जो सोच से परे है. ऐसी ही एक पुरानी घटना का जिक्र पुनीत के एक दोस्त राजेश ने किया.

राजेश तकरीबन 40 साल बाद पुनीत से मिला था. उन दिनों वह एक जहाज में अफसर था और जहाज के साथ भारत से बाहर जाया करता था. जहाज भारत से निर्यात होने वाली चीजें विदेश ले जाता और वापसी में आयात होने वाली चीजें लाता था.

राजेश कालेज से निकल कर जहाज पर नयानया ट्रेनिंग अफसर लगा था. उस का जहाज मुंबई से आस्ट्रेलिया जाता था और रास्ते में मद्रास (अब चेन्नई), कोचीन (अब कोच्चि), सिंगापुर, मलयेशिया, श्रीलंका से भी सामान लाद लेता था, फिर आस्ट्रेलिया के अलगअलग बंदरगाहों से होता हुआ भारत आता था.

राजेश शाकाहारी था और सिगरेट या शराब भी नहीं छूता था. सागर की लहरों पर जबरदस्त उछाल, जिसे रोलिंग व पिचिंग कहते हैं, के चलते उसे वहां के माहौल में ढलने में कुछ हफ्ते लगे. जहाज पर दूसरी सु़विधाओं के साथ अफसरों को केबिन भी दिया जाता था.

राजेश का जहाज श्रीलंका, सिंगापुर, मलयेशिया होता हुआ आस्ट्रेलिया के पश्चिमी पोर्ट (बंदरगाह) फ्रीमैंटल यानी पर्थ पहुंचा.

राजेश सिंगापुर, मलयेशिया या श्रीलंका से बिलकुल प्रभावित नहीं था, क्योंकि उन दिनों वे विकसित नहीं थे, पर आस्ट्रेलिया का एक खास आकर्षण उस के मन में शुरू से था और पर्थ शहर तो उसे बड़ा शानदार लगा था. वहां पहली बार वह अपने दोस्तों के साथ नाइट क्लब में गया था. गोरीगोरी सुंदरियों के साथ उस ने 2-4 डांस स्टैप किए थे. वैसे, शुरू में उसे काफी हिचक हुई थी.

अब जहाज दूसरे पड़ाव दक्षिणी तट के ऐडिलेड पोर्ट पर था. राजेश पुनीत से कह रहा था कि जहाज पर काम करना बहुत मुश्किल है, इसीलिए जब जहाज किनारा छोड़ चुका होता है, रोजाना 4-4 घंटे की 2 शिफ्ट करनी होती हैं. कोई छुट्टी नहीं. अगर कोई समस्या हुई, तो उस का हल उसी समय मुहैया साधनों से जल्दी करना होता है. ऊपर से मौसम की मार और लहरों पर उछलते जहाज पर अपना बैलैंस बनाए रख कर अपना काम करते रहना चाहिए.

खैर, तीसरे दिन वह ऐडिलेड पहुंचा. अपना काम खत्म कर के वह थोड़ा सैर पर निकला और अकेले ही एक बीच पर जा बैठा. वहां गोरीगोरी सुंदरियां वौलीबाल खेल रही थीं, वे भी सिर्फ बिकिनी में. वहीं थोड़ी देर तक इस नजारे का मजा ले कर वह जहाज पर लौट आया और अपने केबिन में सोफे पर लेट गया. 2 घंटे बाद उस की शिफ्ट थी.

आमतौर पर केबिन का दरवाजा अंदर से बंद नहीं किया जाता. तभी दरवाजे पर दस्तक हुई. उस के ‘कम इन’ बोलने पर दरवाजा खुला तो देखा कि एक लड़की खड़ी थी. उस की उम्र 16 साल के आसपास होगी. वह टाइट जींस और टीशर्ट के ऊपर जैकेट पहने थी. पतली कमर, गोरी टांगें, सुनहरे खुले रेशमी बाल यानी वह काफी हसीन थी.

राजेश पहले तो उसे कुछ देर तक हैरानी से देखता रहा, फिर लड़की के  ‘हाय’ का जवाब ‘हाय’ में दिया. बातचीत की पहल उसी लड़की ने की, ‘‘मैं मारिया, आप कैसे हैं?’’

‘‘मैं राजेश. मैं ठीक हूं, थैंक्स, अंदर आओ और बैठो,’’ सोफे की ओर इशारा कर के राजेश बोला.

‘‘मुझे विदेशी नोट व सिक्के जमा करने का शौक है. साथ ही, भारत के बारे मेंकुछ ज्यादा ही दिलचस्पी है. मैं इस के बारे में कुछ किताबें भी पढ़ चुकी हूं. कलकत्तामें मेरी एक पैनफ्रैंड भी है. मैं आप से भारतीय करंसी मिलने की उम्मीद करती हूं,’’ मारिया एकसाथ सब बोल गई.

इस बीच राजेश सहज हो चुका था. वह बोला,  ‘‘ठीक है, वह तो आप को मिल जाएगी. कुछ लोगी? मैं तो नहीं लेता, पर दोस्तों के लिए रखता हूं.’’

‘‘नहीं. थैंक्स. वैसे, मैं बीयर लेती हूं, पर वह भी कभी खास मौके पर,’’ मारिया बोली.

‘‘मैं भी सीनियर्स के काफी कहने पर पार्टी में 2-4 घूंट बीयर ले लेता हूं. मैं रुपए निकाल रहा हूं, तब तक तुम कोल्ड ड्रिंक पी लो,’’ एक कोल्ड ड्रिंक उस की ओर बढ़ाते हुए राजेश बोला और अलमारी में रखे पर्स से नोट निकालने लगा.

फिर वह 5 और 10 रुपए का 1-1 नोट और कुछ सिक्के ले कर आया और बोला,  ‘‘ये लो इंडियन करंसी. अभी तुम्हारा एक डौलर मेरे 8 रुपए के बराबर है.’’थोड़ी देर तक वे दोनों आपस में बातें करते रहे. कुछ देश की, तो कुछ परिवार की.

राजेश ने पूछा, ‘‘अभी तुम ने कहा था कि तुम्हें भारत में दिलचस्पी है और तुम भारत के बारे में कुछ पढ़ भी चुकी हो. तो तुम क्या जानती हो भारत के बारे में?’’

‘‘जी, बहुत सी बातें. जैसे नमस्ते, धन्यवाद, आप कैसे हैं वगैरह बोल लेती हूं. आप अतिथियों का सत्कार करते हैं, यह भी जानती हूं. वहां की कुछ छोटी कहानियां, कुछ गौड्स के बारे में भी पढ़ा है. पर और भी जानना चाहती हूं,’’ मारिया बोली.

‘‘ठीक है, ऐसा करो कि कल तुम सपरिवार मेरे जहाज पर आना. तुम्हें कुछ और किताबें दूंगा. तुम्हारे मातापिता से मिलनाजुलना भी होगा और साथ में डिनर करेंगे. मुझे तुम अपने घर का फोन नंबर दो. मैं उन से डिनर पर आने के लिए कहूंगा,’’ राजेश बोला.

‘‘ठीक है, मैं मम्मीपापा से बात कर के बता दूंगी, पर आप इस नोट पर अपना साइन कर के इंडिया का पता पैंसिल से लिख दें.

‘‘आप से मिल कर बहुत खुशी हुई. आप बहुत अच्छे हैं और आप से भारतीयों के बारे में जो सुना, वह सही है,’’ इतना कह कर मारिया ने राजेश के हाथ पर एक चुंबन जड़ दिया और केबिन के बाहर जाने के लिए खड़ी हुई.

उन दिनों मोबाइल फोन का जमाना नहीं था. राजेश भी उस के साथ बाहर गैंगवे पर रखे फोन का नंबर नोट कर उसे देते हुए बोला, ‘‘डिनर के बारे में इस नंबर पर बता देना.’’

वह मारिया के साथ नीचे तक आया और हाथ मिला कर विदा किया. उन दिनों जहाज के पोर्ट पर लगने पर एक फोन मिलता था, ताकि अफसर व कारोबारी से बातचीत हो सके.

राजेश ने मारिया के जाते ही उस के घर पर फोन कर के कल अपने जहाज पर डिनर पर आने का न्योता दिया.

काफी मिन्नत के बाद वे तैयार हुए. तकरीबन 2 घंटे बाद मारिया ने भी फोन कर के बताया कि अगले दिन शाम को वह सपरिवार डिनर पर आ रही है.

राजेश ने तुरंत चीफ स्टुअर्ड यानी पैंट्री मैनेजर को फोन कर के कल अपने मेहमानों के लिए कुछ स्पैशल भारतीय खाना खाने के लिए उस की राय ली और फिर बनाने को कहा.

राजेश ने अगले दिन 4 लोगों का डिनर अपने केबिन में ही मंगवा लिया. उसे उम्मीद थी कि मारिया के मातापिता तो शराब लेते होंगे और यह सब डाइनिंग हाल में मुमकिन नहीं था.

अगले दिन शाम के 6 बजे मारिया सपरिवार पहुंची. राजेश ने सभी का गर्मजोशी से स्वागत किया, फिर मारिया ने अपने मातापिता से राजेश का परिचय कराया.

कुछ देर बाद स्नैक्स और ड्रिंक्स शुरू हुआ. एक घंटे तक गपशप चलती रही, फिर सब मेहमानों ने भारतीय खाने की काफी तारीफ की.

जब चलने की बारी आई, तो मारिया ने झट से कहा, ‘‘आप ने मुझे किताबें देने का वादा किया था.’’

राजेश भी इस के लिए तैयार था. कुछ अपनी और कुछ दोस्तों से ली हुई भारत से संबधित किताबें इकट्ठी कर ली थीं. सो, उसे सौंप दीं.

वह उन लोगों को विदा करने जहाज के नीचे तक आया. उन्होंने भी उस से अगले दिन डिनर पर आने का वादा ले लिया, क्योंकि जहाज को 36 घंटे बाद जाना था.

कार स्टार्ट हुई और राजेश खड़ा हाथ हिला रहा था, तभी अचानक कार बंद हुई और मारिया की मां ने राजेश को बुलाया, फिर कार से बाहर आ कर एक गिफ्ट पैकेट उसे देते हुए बोलीं, ‘‘हमें अफसोस है कि यह गिफ्ट कार में रह गया था. बुरा न मानना, एक छोटा सा तोहफा हमारी ओर से.’’

राजेश ने पैकेट लेते हुए उन्हें धन्यवाद के साथ विदा किया.

अगले दिन शाम को राजेश ने मारिया के घर चलने के लिए अपने दोस्त को साथ ले लिया था, क्योंकि उसे अकेले जाने में हिचक हो रही थी. साथ में एक गिफ्ट, जो उस ने सिंगापुर से अपने देश ले जाने के लिए लिया था, मारिया के लिए रख लिया.

एक टैक्सी ली और वे दोनों चल पड़े. मारिया और उस की मां ने उन का स्वागत किया. उस के पिता बाद में आए. मारिया की मां ने बातोंबातों में कहा कि मारिया ने फैसला किया है कि उस का पति एक भारतीय ही होगा.

खैर, खानापीना, गपशप खत्म कर के वे चलने के लिए बाहर निकले. उन्होंने टैक्सी बुला रखी थी.मारिया राजेश को टैक्सी तक छोड़ने आई और उस का हाथ पकड़ कर बोली,  ‘‘तुम कब तक यहां हो? यह मुलाकात हमेशा याद रहेगी,’’ उस की आंखों में हलकी सी उदासी झलक रही थी.

राजेश ने जब बताया कि कल दोपहर बाद उस का जहाज रवाना होगा, तो वह झट से बोली,  ‘‘मैं एक बार फिर मिलने की कोशिश करूंगी. अगर मैं नहीं आ सकी, तो भी आप मेरे दोस्त बने रहना.’’

राजेश हाथ मिला कर टैक्सी में बैठ गया. उस के दोस्त ने रास्ते में कहा,  ‘‘देखना, वह जरूर आएगी.’’

मारिया सचमुच जहाज खुलने से 2 घंटे पहले उस के केबिन में थी. दोनों ने कौफी पी, फिर मारिया ने कहा,  ‘‘देखो, आगे कब मिलना होगा या शायद नहीं भी हो. वैसे, तुम्हारे जहाज का क्या प्रोग्राम है? वापसी में भी यहां आना मुमकिन है क्या?’’

राजेश ने जब जहाज का प्रोग्राम बताया और वापसी में भी वहां आना ही होगा कहा, तो वह खुशी से उछल पड़ी और बोली,  ‘‘तब तो एक और मुलाकात होनी तय है. तुम्हारा अगला पड़ाव मैलबौर्न में है. मेरी आंटी वहीं रहती हैं. वे कुछ दिनों से बीमार चल रही हैं.’’

इस के बाद वह गले मिली और हाथ मिला कर जहाज से नीचे उतर गई.

(क्रमश:)

 मारिया कौन थी और राजेश से क्या चाहती थी? क्या उन दोनों की दोबारा मुलाकात हो पाई? पढ़िए अगले अंक में…