kavita in hindi

रूप को आंख से भी जरा पीया कीजे, नाम उसका कभी लिया कीजे…टूट कर लोग फिर जुड़ें आ कर, आप ऐसी वफा किया कीजे…

'सरस सलिल' पर आप पढ़ सकते हैं 10 आर्टिकल बिलकुल फ्री , अनलिमिटेड पढ़ने के लिए Subscribe Now