सुनो शोर धड़कनों का, जब जिंदगी खामोश होती है. सुनो सरगोशी सांसों की, जब सोच बेहोश सी होती है.

'सरस सलिल' पर आप पढ़ सकते हैं 10 आर्टिकल बिलकुल फ्री , अनलिमिटेड पढ़ने के लिए Subscribe Now