सुनो शोर धड़कनों का, जब जिंदगी खामोश होती है. सुनो सरगोशी सांसों की, जब सोच बेहोश सी होती है.