जसवंत ने किताब क्या लिखी, जिन्ना का जिन्न सक्रिय हो गया. भाजपा में उथलपुथल मचाई तो कहीं सपने में सताया. लेखक ने कल्पना की तो उसे विचारों की उड़ान दे दी. आखिर जिन्न जो बन गया है जिन्ना.