hindi best story

हमारे नगर में एक दु:खी आत्मा है. विशेषता यह है कि नख से शिख तक दुखी है दु:खी इसलिए है कि मेयर,विधायक, सांसद नहीं बन सके.बड़ी जद्दोजहद की मगर खुश नहीं हो सके.

अनलिमिटेड कहानियां आर्टिकल पढ़ने के लिए आज ही सब्सक्राइब करेंSubscribe Now