एक दौर था जब भोजपुरी फिल्मों में कौमेडियन की पहचान घुटनों तक कच्छे, लंबे नाड़े और चार्ली चैपलिन टाइप मूंछों से की जाती थी.