मैं एक दिन शाम को मंत्रालय के सामने से गुजर रहा था तभी आवाज आई, ‘‘रुकिए, क्या आप मंत्रालय में काम करते हैं? मेरा काम करा देंगे?’’