भारत में धर्म की आड़ में लोग कुछ भी परोस सकते हैं. उन्हें किसी चीज के पीछे की सचाई या विज्ञान क्या है, उस से तनिक भी मतलब नहीं होता है.