‘‘मुस्ताक मियां, लो, एक पैग तुम भी लो,’’ ठेकेदार ने कारीगरों की टोली के मुखिया मुस्ताक की तरफ रम का पैग बढ़ाते हुए कहा