प्रेम की पहली पाती सी, सुकुमार रूमानियत में, डूबी लगती हो आज भी.