जहां अपने ही घर के लोग, अपनों की भूख प्यास न जानें. शासक करते हों ऐश, जनता मरती हो दाने दाने.