रंजना और उस के घर वाले चाहते थे कि विनोद रंजना का पीछा छोड़ दे. उस से पीछा छुड़ाने के लिए उन्होंने उस पर लूटपाट का झूठा आरोप लगाया था.