कोरोना के खतरे से निबटने के लिए प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी ने 21 दिनों का लौकडाउन लगा रखा है. तो जाहिर है की अब आप भी घर से बाहर नहीं निकलेंगें और जब घर से बाहर नहीं निकलेंगे तो निश्चित ही खाली तो बैठेंगे नहीं. आप कहानियां पढेंगे, टीवी देखेंगे, सोसल मीडिया की ख़ाक छानेंगे, कोरोना के बारे में जाननें के लिए इंटरनेट की दुनियां में खो भी जायेंगे. भले ही आप ने आज तक घर में बीबी के साथ खाना पकाने में मदद न की हो लेकिन इस खाली समय में आप अब खाना भी पकाएंगे. यह सब करनें से तो दिन कटने वाला नहीं हैं. इस लिए बीबी के साथ रोमांस भी तो करेंगे.

लेकिन संभल कर क्यों की अगर आप का परिवार पूरा हो चुका है और अब आप और बच्चे नहीं चाहते हैं या अभी आप नें  बच्चे ही की प्लानिंग ही नहीं की है तो कोरोना लौकडाउन में किये जाने वाले रोमांस के दौरान की छोटी सी भी लापरवाही आप के और आपके साथी के लिए मुसीबत बन सकता हैं. क्यों की रोमांस करने को सरकार ने इमरजेंसी में तो रखा नहीं है. ऐसे में हमबिस्तर से होने वाली अनचाही प्रेगनेंसी से बचनें के लिए आप बाहर निकल कर कंडोम, कौन्ट्रसेप्टिव पिल यानी गर्भनिरोधक गोली जैसी कोई चीज नहीं ले सकतें हैं.

ये भी पढ़ें- #Coronavirus: एक्सपर्ट से जानिए कोरोना का सेक्स कनेकशन

चूंकि आप लौकडाउन के चलते घर में कैद हैं तो कहीं ऐसा न हो की आप की हमबिस्तर होने की चाहत साथी के ऊपर भारी पड़ जाए. तो ऐसे में गर्भनिरोधक की कमी के चलते साथी प्रैग्नेंट भी न हों और लौकडाउन में रोमांस भी हो जाए. इसके लिए इन उपायों को अपना कर आप अनचाही प्रैगनेंसी से बच सकतें हैं.

पुलआउट मैथेड कोरोना के कहर के बीच और लौकडाउन के दौरान अगर आप के पास कंडोम या गर्भनिरोधक गोलियों का स्टाक ख़त्म हो गया है या उपलब्धता नहीं हो पा रही है तो निश्चित ही यह मैथेड आप के लिए प्रभावी हो सकता है. ऐसे स्थिति में सेक्स के दौरान मेल साथी को सेक्स के अंतिम क्षणों में अपने अंग को वेजाइना से बाहर निकालना होता है. जिससे शुक्राणु गर्भाशय तक नहीं पहुंच पाते है. इस वजह से गर्भधारण की संभवना शून्य हो जाती है. लेकिन पुलआउट कंडीशन में सेल्फ कंट्रोल की बड़ी आवश्यकता होती है. ऐसे में जब आप के पास कोई उपाय नहीं है तो आप के सामने यही एक सहारा हो सकता है .

स्वास्थ्य कर्मियों का ले सहारा – लौकडाउन के दौरान भले ही आप के बाहर निकलनें पर पाबन्दी लगी हो लेकिन शहरों से लेकर गाँवों तक में तैनात स्वास्थ्य कर्मियों की इमरजेंसी ड्यूटी लगाईं गई है. जिन्हें परिवार को सीमित करने के साधनों को मुफ्त या बहुत ही मामूली कीमत पर वितरण हेतु उपलब्ध कराया गया है. इन स्वास्थ्य कर्मियों में आशा, ए एन एम जैसे लोग शामिल हैं. जिन्हें महानगरों से लेकर गांवों तक में सभी राज्यों में तैनात किया गया है. इनको आप काल कर घर पर बुला सकते हैं और उनसे आप अनचाही प्रेग्नेसी से बचनें वाले साधनों की मांग कर सकतें हैं. इसके अलावा मेडिकल स्टोर्स के खुलने पर भी पाबंदी नहीं लगाईं गई है और कई जगहों पर मेडिकल स्टोर्स संचालकों को होम डिलेवरी का भी निर्देश दिया गया है. इनको भी आप फोन कर कंडोम , कौन्ट्रसेप्टिव पिल्स मंगा सकतें हैं.

ये भी पढ़ें- सेक्स फैंटेसी को लेकर लोगों की बदलती सोच, पढ़ें खबर

किन साधनों का करें उपयोग- हमबिस्तर के दौरान वैसे तो आप अपनें मर्जी से परिवार नियोजन के साधनों का उपयोग कर सकतें हैं. अगर आपने बिना किसी गर्भनिरोधक साधन के ही सम्बन्ध बना लिया है तो इसके लिए आप आशा कर्मी से इमरजेंसी कौन्ट्रसेप्टिव पिल्स की मांग कर सकतें हैं. इसे हमबिस्तर होने के 72 घंटों के भीतर महिला को खाना होता है. यह इमरजेंसी कौन्ट्रसेप्टिव पिल्स आशा के पास केंद्र सरकार द्वारा राज्य सरकारों को भरपूर मात्रा में उपलब्ध कराई गई हैं. इनके पास कंडोम भी मुफ्त वितरण के लिए उपलब्ध कराया गया है. इसके अलावा माला डी, माला एन जैसी गोलियों का उपयोग भी किया जा सकता है. यह गोलियां भी स्वास्थ्य कर्मियों को फोन कर घर पर ही मुफ्त में मंगाया जा सकता है. लेकिन माला डी, माला एन जैसी गोलियां स्टीरौयड होने के कारण हौर्मोनल होती हैं.  जिसके शरीर पर साइड इफेफ्ट भी देखे जा सकतें है लेकिन इस लॉक डाउन के दौरान यह भी आप की साथी बन सकती हैं.

छाया सबसे अच्छा साधन – लौकडाउन के बीच लगी पाबंदियों में अनचाहे गर्भ से बच पायें इसके लिए उपलब्ध साधनों में शामिल खाने की गोलियों में छाया को सबसे अच्छा माना गया है. यह नान हार्मोनल गोली है जो सरकार द्वारा मुफ्त वितरण हेतु छाया के नाम से स्वास्थ्य कर्मियों को को उपलब्ध कराई गई है. महिला को इसे माला-एन की तरह प्रतिदिन सेवन नहीं करना पड़ता है. छाया गर्भनिरोधक गोलियों का सेवन तीन माह तक सप्ताह में दो बार और तीन माह पूरा होने के बाद सप्ताह में केवल एक बार ही करना होता है. इसमें स्टीरॉयड न होने से यह नान हर्मोनल गर्भ निरोधक गोली होती है, जिसका कोई साइड इफेक्ट नहीं होता है. हार्मोनल गोलियों की तरह छाया के सेवन से मोटापा, मतली होना, उल्टी या चक्कर आना, अधिक रक्तस्त्राव, मुहांसे जैसे कोई दुष्प्रभाव नहीं होते.  इस कारण यह अधिक सुरक्षित है.
तो आप भी लॉक डाउन के दौरान निश्चिंत होकर घर पर अपने साथी के साथ रोमांस कर सकतें है, हमबिस्तर हो सकतें हैं. बस ऊपर बताई गई बातों का ख्याल आप को रखना होगा. आप यह न सोचें की आप को इस इमरजेंसी में गर्भनिरोधक साधन कहाँ मिलेंगे. आप इसे स्वास्थ्य कर्मियों से मुफ्त में घर मंगा सकतें हैं इसके अलावा सेल्फ कंट्रोल द्वारा पुलआउट मैथेड का प्रयोग भी कर सकतें हैं. इस लिए इन बातों का ध्यान जरुर रखें नहीं तो लॉक डाउन की पाबंदियां अनचाहे गर्भ के रूप में सामने आ सकतीं हैं.
इन उपायों के अलावा भी अनचाही प्रैग्नेसी से बचनें के कई स्थाई और अस्थाई उपाय हैं जिसका उपयोग किया जा सकता है. लेकिन यह समय बाकी के उपायों के अजमाने का नहीं हैं. इसे लिए इन्हीं उपायों के सहारे आप साथी के साथ को हसीन बना सकतें हैं.

ये भी पढ़ें- सेक्स का मजा लेना है तो अपनाएं ये टिप्स

Tags:
COMMENT