तुम्हारी हया ने, शोखियों ने, हम पर कहर ढाया है, फिर भी तेरी बेरुखी पर, हम को प्यार आया है…