आज भी आशिक दीवाने हैं, सीने पर पत्थर खाते हैं, आज भी लैला को मजनू के, खून से लिखे खत आते हैं…
Page 1 of 812345...Last »