सरस सलिल विशेष

16 अक्तूबर, 2016 की दोपहर को यही कोई डेढ़ बजे पुर्निषा उर्फ गुड्डी मम्मी रेखा पालेचा के साथ एक्टिवा स्कूटी से जोधपुर शहर की मानसरोवर कालोनी में रहने वाले अपने मामा रितेश भंडारी के घर पहुंची. बहन और भांजी को देख कर वही नहीं, घर के सभी लोग खुश हो गए. नाश्तापानी और थोड़ी बातचीत के बाद पुर्निषा अपने 5 साल के ममेरे भाई युग को खिलाने लगी.

बेटे युग के अलावा रितेश की एक 10 साल की बेटी भी थी. पुर्निषा जब भी मामा के घर आती थी, अपने ममेरे भाईबहनों के साथ खेलने में मस्त हो जाती थी. वह दोनों को खूब प्यार करती थी. करीब आधे घंटे बाद पुर्निषा युग को अपनी स्कूटी पर बिठा कर चौकलेट दिलाने के लिए ले गई.

पुर्निषा जब भी मामा के यहां आती थी, युग को खानेपीने की चीजें दिलाने या स्कूटी पर घुमाने ले जाती थी. उस के साथ युग के जाने पर किसी को कोई शक वगैरह होने की गुंजाइश भी नहीं थी.

युग और पुर्निषा को घर से गए आधे घंटे से ज्यादा का वक्त हो गया और दोनों लौट कर नहीं आए तो घर वालों का ध्यान उन के ऊपर गया. प्यार से पुर्निषा को सभी गुड्डी कहते थे. घर वालों को चिंता हुई कि गुड्डी युग को ले कर कहां चली गई कि अभी तक लौट कर नहीं आई.

घर के सभी लोग इसी बात पर विचार कर रहे थे कि तभी रितेश के फोन की घंटी बजी. रितेश ने फोन की स्क्रीन देखी तो उस पर उन की भांजी गुड्डी का नंबर था. उन्होंने फोन रिसीव कर के पूछा, ‘‘हां गुड्डी, बताओ, इस समय तुम कहां हो? बहुत देर हो गई, अभी तक घर क्यों नहीं लौटी?’’

इस के बाद दूसरी तरफ से पुर्निषा की कांपती आवाज आई, ‘‘मामा, आप मामी से बात कराइए.’’

रितेश ने मोबाइल अपनी पत्नी को देते हुए कहा, ‘‘गुड्डी का फोन है, बात करो.’

कान पर फोन लगा कर युग की मम्मी बोलीं, ‘‘हां, गुड्डी बोलो, क्या बात है? तुम कहां हो?’’

पुर्निषा कांपती आवाज में बोली, ‘‘मामी, मेरा और युग का कुछ लोगों ने अपहरण कर लिया है. ये लोग 50 लाख रुपए फिरौती मांग रहे हैं. ये बड़े ही खतरनाक लोग लग रहे हैं, इसलिए प्लीज मामी, पुलिस को सूचना दिए बगैर आप 50 लाख रुपए ले कर जल्द आ जाइए, वरना ये लोग हमें मार देंगे.’’

गुड्डी के साथ उन के बेटे का भी अपहरण हुआ था, इसलिए इस खबर से वह एकदम से घबरा गईं. वह जल्दी से बोलीं, ‘‘गुड्डी, तुम हो कहां, युग कहां है? यह तो बताओ कि पैसे कहां पहुंचाने हैं?’’

‘‘मामी, हमें पता नहीं, यह कौन सी जगह है, लेकिन शहर के बाहर कोई बाग है. उसी बाग में इन्होंने हमें बंधक बना रखा है. अच्छा, वे लोग हमारी तरफ ही आ रहे हैं, आप जल्दी पैसों का इंतजाम कर लो. मैं बाद में फोन करूंगी.’’ कह कर पुर्निषा ने फोन काट दिया.

युग की मम्मी ‘हैलो…हैलो’ करती रह गईं, पर दूसरी ओर से फोन कट चुका था. युग का अपहरण और 50 लाख रुपए की फिरौती की बात बगल में खड़े रितेश भंडारी ने भी सुन ली थी. वह भी घबरा गए. उन्होंने हकलाते हुए पूछा, ‘‘क्या बात है, तुम इतनी परेशान क्यों हो? क्या कह रही थी गुड्डी, युग कहां है?’’

‘‘गुड्डी और युग का अपहरण हो गया है और अपहर्त्ता 50 लाख रुपए फिरौती मांग रहे हैं. पुलिस को सूचना देने पर उन्होंने जान से मारने की धमकी दी है,’’ कहते हुए उन की पत्नी की आंखों में आंसू छलक आए.

पत्नी के मुंह से यह सब सुन कर रितेश भंडारी कांप उठे. अपहर्त्ता फिरौती में जो 50 लाख रुपए मांग रहे थे, वह उन के पास नहीं थे. यह कोई मामूली रकम भी नहीं थी, जिस का इंतजाम वह जल्द कहीं से कर लेते. अपहर्त्ताओं ने पुलिस को खबर न करने की चेतावनी दी थी. उन्हें कुछ सूझ नहीं रहा था कि वह क्या करें.

बेटे के अपहरण से व्याकुल उन की पत्नी का रोरो कर बुरा हाल था. कुछ ही देर में आसपड़ोस में यह खबर फैल गई. लोगों का उन के घर आना शुरू हो गया. कुछ लोगों ने रितेश को सलाह दी कि वह इस की सूचना पुलिस को जरूर दें.

सभी लोगों के कहने पर रितेश पत्नी और कुछ रिश्तेदारों के साथ करीब पौने 3 बजे चौपासनी हाउसिंग बोर्ड थाने पहुंचे और थानाप्रभारी जब्बर सिंह चारण को अपने बेटे और भांजी के अपहरण की जानकारी दे दी. उन्होंने यह भी बताया कि फिरौती का फोन पुर्निषा के ही मोबाइल से आया था.

रितेश भंडारी की बात सुन कर थानाप्रभारी को मामला कुछ संदिग्ध लगा. उन्हें उन की भांजी पुर्निषा पर ही शक हो रहा था. उन्हें कारवाई तो करनी ही थी, इसलिए उन्होंने अज्ञात अपहर्त्ताओं के खिलाफ अपहरण की रिपोर्ट दर्ज करा कर इस की सूचना उच्चाधिकारियों को दे दी.

अधिकारियों के निर्देश पर जब्बर सिंह ने शहर के सभी प्रमुख मार्गों की नाकेबंदी करा दी. इस के बाद जोधपुर के डीसीपी (पश्चिम) समीर कुमार सिंह, एडिशनल डीसीपी विपिन शर्मा, एसीपी (प्रतापनगर) स्वाति शर्मा, एसीपी (केंद्रीय) पूजा यादव, एसीपी (पश्चिम) विक्रम सिंह थाना चौपासनी हाउसिंग बोर्ड पहुंच गए.

सभी ने पीडि़त परिवार से बात की. ऐसे मामले में पुलिस की यही कोशिश रहती है कि जिस का अपहरण हुआ है, उसे सुरक्षित तरीके से जल्द से जल्द बरामद किया जाए. इसलिए डीसीपी ने अपहर्त्ताओं तक जल्द पहुंचने के लिए एक पुलिस टीम बनाई, जिस में एसीपी (प्रतापनगर) स्वाति शर्मा, एसीपी (पश्चिम) विक्रम सिंह, एसीपी (केंद्रीय) पूजा यादव, थानाप्रभारी जब्बर सिंह चारण, थानाप्रभारी (शास्त्रीनगर) अमित सिहाग, तकनीकी विशेषज्ञ भागीरथ सिंघड़, स्वरूपराम, हरीराम, नरेंद्र सिंह, शकील खां, जबर सिंह व बजरंगलाल को शामिल किया गया. टीम का निर्देशन एडिशनल डीसीपी विपिन शर्मा को सौंपा गया.

पुर्निषा ने जब रितेश भंडारी को फोन किया था, बातचीत में चिडि़यों के चहचहाने की आवाजें आ रही थीं. रितेश ने यह बात पुलिस को भी बताई. इस पर पुलिस को लगा कि फोन किसी पार्क से किया गया था. 3-3 पुलिसकर्मियों को ग्रुप में बांट कर अपहर्त्ताओं की तलाश शुरू कर दी गई.

टीमों ने मंडोर उद्यान, नेहरू पार्क, पब्लिक पार्क व अन्य सुनसान जगहों पर खोजबीन की. रितेश भंडारी और उन की पत्नी भी पुलिस के साथ थीं. पुलिस ने रितेश के मोबाइल से पुर्निषा के मोबाइल पर फोन करवाया. फोन किसी युवक ने उठाया.

फोन उठाने वाले युवक ने कहा कि रुपए ले कर जल्द आ जाओ, वरना हम इन दोनों को मार देंगे. रितेश ने युग से बात कराने को कहा तो उस ने युग से उन की बात करा दी. युग ने कहा कि वह दीदी के साथ है और टौफी बिस्कुट खा रहा है. बेटे से बात कर के रितेश को तसल्ली हुई कि वह सकुशल है.

एक पुलिस टीम जब नेहरू उद्यान पहुंची तो वहां एक कोने में बैठी पुर्निषा और युग को रितेश ने पहचानते हुए कहा, ‘‘वो रहे युग और पुर्निषा.’’

पुलिस ने नजर दौड़ाई तो पुर्निषा और युग के पास झाड़ी की ओट में 2 युवक बैठे दिखाई दिए. पुलिस ने अनुमान लगाया कि वही अपहर्त्ता होंगे. भनक लगने पर अपहर्त्ता युग और पुर्निषा को नुकसान पहुंचा सकते थे, इसलिए पुलिस ने चालाकी दिखाते हुए फुरती से उन दोनों युवकों को दबोच कर पुर्निषा और युग को सुरक्षित अपने कब्जे में ले लिया.

सूचना पा कर अन्य पुलिस टीमें भी नेहरू उद्यान पहुंच गई थीं. पुलिस गिरफ्त में आते ही दोनों युवक कांपने लगे. यही हाल पुर्निषा का भी था. उन की निशानदेही पर पुलिस ने स्विफ्ट कार व पुर्निषा की एक्टिवा स्कूटी बरामद कर ली.

थाने ला कर जब दोनों युवकों से पूछताछ की गई तो उन्होंने अपने नाम मयंक मेहता व मयंक सिंदल बताए. उन्होंने बताया कि युग के अपहरण की मास्टरमाइंड पुर्निषा थी.

यह सुन कर रितेश और उन की पत्नी हैरान रह गई कि यह कैसे हो सकता है, भला वह अपने भाई का अपहरण क्यों करेगी? पर पुलिस पूछताछ में जब पुर्निषा ने मयंक की बात की पुष्टि कर दी तो रितेश और उन की पत्नी की आंखें खुली की खुली रह गईं. उन्होंने सोचा भी नहीं था कि जिस भांजी को वह इतना ज्यादा प्यार करते थे, वही उन का अहित कर सकती है.

अपहर्त्ताओं के गिरफ्तार होने की जानकारी डीसीपी (पश्चिम) समीर कुमार सिंह को मिली तो वह भी थाने पहुंच गए. उन के सामने अभियुक्तों से पूछताछ की गई तो युग के अपहरण की जो कहानी उभर कर सामने आई, वह इस प्रकार थी—

जोधपुर शहर की मानसरोवर कालोनी में रितेश भंडारी पत्नी शिवानी, एक बेटी व बेटा युग के साथ रहते थे. उन का सरदारपुरा, जोधपुर में फाइनैंस का कारोबार था, जिस से उन्हें बहुत अच्छी आमदनी होती थी. कभीकभी अपनी कमाई का लाखों रुपए वह अपनी सगी बहन रेखा पालेचा के पास रखते थे. वह सरदारपुरा में ही रहती थी. पुर्निषा रेखा की बेटी थी. वह मांबाप की लाडली थी. उस पर मांबाप आंख मूंद कर भरोसा करते थे. पुर्निषा पढ़ाई में होशियार थी. वह एमकौम कर रही थी. पढ़ाई के साथ वह एक निजी स्कूल में पढ़ाती भी थी.

पुर्निषा की एक साल पहले मयंक मेहता से दोस्ती हुई. थोड़े दिनों बाद यह दोस्ती प्यार में बदल गई. मयंक जोधपुर की चौपासनी हाउसिंग बोर्ड में रहता था. उस का एक दोस्त मयंक सिंदल था, वह भी वहीं रहता था. ये दोनों जोधपुर के जीत कालेज में कंप्यूटर साइंस के छात्र थे.

पुर्निषा व मयंक मेहता का प्रेमप्रसंग चल रहा था. दोनों घर वालों से छिपछिप कर मिलते थे. मोबाइल पर भी घंटों बातें किया करते थे. दोनों के सपने बहुत ऊंचे थे, मगर आर्थिक तंगी के कारण इन के शौक पूरे नहीं हो रहे थे. टीवी चैनल के क्राइम शो देख कर पुर्निषा के दिमाग में हलचल मच गई. उस ने एक दिन बातोंबातों में अपने प्रेमी मयंक मेहता से कहा कि अगर वह उस के मामा रितेश के बेटे युग का अपहरण कर ले तो कम से कम 50 लाख रुपए की फिरौती मिल सकती है.

पुर्निषा ने बताया था कि उस के मामा के पास हर समय लाखों रुपए रहते हैं. बस फिर क्या था, दोनों ने रुपयों का लालच दे कर मयंक सिंदल को भी अपनी योजना में शामिल कर लिया. पुर्निषा ने कहा था कि फिरौती के 50 लाख रुपए मिलने पर उस में से उसे 15 लाख रुपए दिए जाएंगे.

मयंक सिंदल झांसे में आ गया और उन की योजना में शामिल हो गया. पूरी योजना बनाने के बाद रविवार 16 अक्तूबर की दोपहर को पुर्निषा अपनी मम्मी के साथ मामा रितेश के घर जा पहुंची. युग को चौकलेट दिलाने के बहाने वह स्कूटी से घर से बाहर ले आई और अपने साथी मयंक मेहता और मयंक सिंदल को अपनी स्कूटी देते हुए कहा कि इसे कहीं सुनसान जगह खड़ी कर युग को ले कर नेहरू उद्यान आ जाओ.

पुर्निषा टौफी, बिस्कुट, कुरकुरे ले कर युग के साथ मयंक मेहता की स्विफ्ट कार में बैठ गई तो मयंक मेहता कार ले कर सीधे नेहरू उद्यान पहुंच गया. मयंक सिंदल इन से पहले वहां पहुंचा हुआ था. पार्क से ही पुर्निषा ने मामा रितेश को फोन कर के अपने और युग के अपहरण होने की बात कह कर 50 लाख रुपए फिरौती दे कर अपहर्त्ताओं से जल्द से जल्द युग और उसे छुड़ाने की बात कही. इस के बाद रितेश भंडारी अपनी पत्नी के साथ थाने पहुंचे और पुलिस को सूचना दी.

पुलिस ने मात्र ढाई घंटे में अपहर्त्ताओं को दबोच कर युग को सकुशल बरामद कर लिया था. पुर्निषा, मयंक मेहता व मयंक सिंदल के वे मोबाइल फोन भी पुलिस ने बरामद कर लिए थे, जिन से रितेश को फिरौती के लिए फोन किया गया था. आर्थिक तंगी के चलते पुर्निषा व मयंक मेहता ने अपहरण कर के फिरौती मांगने जैसा अमानवीय कृत्य किया था, जबकि तीनों ही गरीब परिवारों से नहीं थे, इन की महत्त्वाकांक्षा उन्हें ले डूबी थी.

पुलिस ने पूछताछ कर के 17 अक्तूबर, 2016 को पुर्निषा, मयंक मेहता और मयंक सिंदल को जोधपुर के कोर्ट नंबर-8 में न्यायाधीश वैदेही सिंह के समक्ष पेश किया, जहां से तीनों आरोपियों को केंद्रीय कारागार जोधपुर भेज दिया गया. कथा लिखे जाने तक इन की जमानतें नहीं हुई थीं.

– कथा पुलिस सूत्रों पर आधारित