सरस सलिल विशेष

फतेहपुर सीकरी में 22 अक्तूबर को स्विटजरलैंड के युगल पर हमले के मामले में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सख्त कार्रवाई के आदेश दिए हैं. इस मामले में कल शाम तक पांच हमलावर गिरफ्तार भी कर लिए गए. गिरफ्तार आरोपियों का कहना है कि उन्होंने सनक में पत्थर मार दिए थे. स्मारक से करीब दो किलोमीटर दूर रेलवे लाइन के पास वारदात हुई थी.

पहले दिन पुलिस ने यह कहकर मामले को हल्का कर दिया था कि विदेशी पर्यटक कोई कार्रवाई नहीं चाहते. गुरुवार को मुख्यमंत्री के आगरा दौरे के दौरान यह मामला सुर्खियों में आ गया. विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने योगी सरकार से रिपोर्ट मांगी. खुद मुख्यमंत्री ने घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए तत्काल गिरफ्तारी के आदेश दिए. शाम तक पांच आरोपी मुकुल, राहुल, पंकज, सनी और हनीफ पकड़ भी लिए गए. एसपी देहात पश्चिम अखिलेश नारायण सिंह ने बताया कि आरोपियों ने अपना जुर्म कबूल किया है.

केंद्र ने यूपी से रिपोर्ट तलब की

केंद्र सरकार ने फतेहपुर सीकरी में स्विटजरलैंड के युगल पर हुए हमले की घटना पर गहरी चिंता जताते हुए यूपी सरकार से रिपोर्ट तलब की है. विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और पर्यटन मंत्री केजे अल्फोंस ने इस संबंध में उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर दोषियों पर कार्रवाई करने को कहा है. स्विस नागरिक क्वेंटिन जेरेमी क्लेर्क अपनी प्रेमिका मेरी द्रोज के साथ रविवार 22 अक्तूबर को फतेहपुर सीकरी रेलवे स्टेशन के पास घूम रहे थे, तभी कुछ बदमाशों ने उनपर हमला कर बुरी तरह घायल कर दिया. उपचार के लिए दोनों को अस्पताल में भर्ती किया गया है.

आगरा में है लपकों का आतंक

ताजमहल, आगरा किला, फतेहपुर सीकरी में लपकों का आतंक है. आगरा में पैर रखते ही विदेशी पर्यटक लपकों से घिरने लगते हैं. कमीशनखोरी के इस खेल को एंपोरियम, रेस्टोरेंट और होटल वालों ने बढ़ावा दिया है. बड़ी संख्या में युवाओं ने लपका गिरी को स्थायी पेशा बना लिया है. ताज के पश्चिमी गेट पर लगभग 500 से 700, पूर्वी गेट की ओर शिल्पग्राम में लगभग 400, आगरा किला के बाहर लगभग 300 लपके सक्रिय हैं.

फतेहपुर सीकरी में भी लगभग 500 लपके सैलानियों के साथ जबरदस्ती करते दिखाई देते हैं. आगरा में कैंट स्टेशन पर गतिमान, शताब्दी, ताज एक्सप्रेस के आने पर बड़ी संख्या में लपके आ जाते हैं. दूर से पर्यटक का बैग देखकर हल्ला मचा देते हैं कि यह उसका है. अधिकारियों का निरीक्षण होता है तो रेलवे पुलिस इन्हें खदेड़ देती है. बाद में फिर से उनकी मनमानी चलती है. शहर में कुछ एंपोरियम तो ऐसे हैं जो सिर्फ विदेशियों को लेकर आने का पैसा देता हैं. 70 फीसदी तक छब्बी (कमीशन) का खेल चलता है. यही नहीं स्मारकों के आसपास ये लोग सक्रिय रहते हुए सैलानियों के साथ विभिन्न तरह के सामान खरीदने के लिए दबाव बनाते हैं.

सुषमा ने नाराजगी जताई

विदेश मंत्री स्वराज ने इस घटना पर गहरी नाराजगी जताई है. उन्होंने ट्वीट करके कहा कि इस मामले में राज्य सरकार से पूरी रिपोर्ट मांगी गई है. विदेश मंत्री ने मंत्रलय के अधिकारियों को अस्पताल जाकर स्विस युगल का हालचाल लेने को कहा है. स्विटजरलैंड दूतावास ने भी विदेश मंत्रालय से पूरी घटना का ब्योरा लिया है.

विदेशी युवती के मोबाइल में कैद थे हमलावर

स्विस पर्यटकों पर पथराव करने वालों की पहचान में विदेशी युवती का मोबाइल फोन मदददार बना. हमलावरों के फोटो विदेशी युवती के मोबाइल में कैद मिल गए. उन्होंने पुलिस की राह आसान कर दी.

एसपी देहात पश्चिम अखिलेश नारायण ने बताया कि 23 अक्तूबर को एक दरोगा को दिल्ली भेजा गया था. वहां हॉस्पिटल में दरोगा ने जख्मी विदेशी युगल से बातचीत की. युवती के मोबाइल में कुछ फोटोग्राफ थे. उन्हीं के आधार पर जांच आगे बढ़ाई गई. पीड़ित विदेशी युगल ने सीकरी थाने के दरोगा को बताया कि युवकों की संख्या चार थी. उन्हेंइस बात का अंदाजा नहीं था कि अकेले घूमना इतना खतरनाक साबित हो सकता है.

स्विस युगल के स्वास्थ्य में सुधार

फतेहपुर सीकरी में रविवार को बदमाशों के हमले का शिकार हुए युवा स्विस युगल की सेहत में सुधार हो रहा है. अपोलो अस्पताल में भर्ती युगल का उपचार कर रहे न्यूरोसर्जन डॉक्चर राजेंद्र प्रसाद ने बताया कि जेरेमी क्लेर्क को आईसीयू से सामान्य कक्ष में भेज दिया गया है. वहीं उसकी महिला मित्र मैरी द्रोज की बांह की हड्डी टूट गई है. उपचार के बाद उन्हें भी अस्पताल से छुट्टी मिल गई है. प्रसाद ने कहा, क्लेर्क को अभी सुनने में दिक्कत आ रही है. अभी कहना मुश्किल है कि सुनने की समस्या स्थायी बनी रहेगी या ठीक हो सकती है.