सरस सलिल विशेष

महाराष्ट्र में 7 मार्च से दसवीं की परीक्षा शुरू हो गई है. ‘सैराट’ फिल्म की एक्ट्रेस रिंकू राजगुरु भी इस बार 10 वीं की परीक्षा दे रही हैं. अकलुज के जीजामाता कन्या स्कूल के सेंटर पर रिंकू परीक्षा देने पहुंचीं. इस दौरान केंद्र की प्रमुख मंजुषा जैन ने फूल देकर उनका वेलकम किया.
बता दें कि मराठी फिल्म ‘सैराट’ में काम कर रिंकू रातोंरात सुपरस्टार बन गईं. रिंकू सोलापुर जिले के अकलुज कस्बे की शिक्षक कॉलोनी में रहने वाली एक मिडल क्लास फैमिली से बिलॉन्ग करती हैं. रिंकू के पिता का नाम महावीर है.
‘सैराट’ फिल्म हिट होने के बाद रिंकू को स्कूल छोड़ना पड़ा था. दरअसल, फिल्म के बाद रिंकू जब स्कूल गईं तो उन्हें देखने के लिए भीड़ उमड़ पड़ी. इस वजह से रिंकू ने स्कूल छोड़ दिया और फिर 17 नंबर का फॉर्म (प्राइवेट स्टूडेंट्स के लिए) भरकर दसवीं की परीक्षा देने का फैसला किया था. बता दें कि 9वीं क्लास में रिंकू को 81 परसेंट मार्क्स मिले थे.
‘सैराट’ के कन्नड़ रिमेक में रिंकू ने लीड रोल किया है. उनकी आने वाली फिल्म का नाम ‘मनसु मल्लिगे’ है. पिछले साल दिवाली में इस फिल्म की शूटिंग पूरी हुई थी. इसके बाद दो महीने में उन्होंने दसवीं के लिए पढ़ाई की.
मराठी फिल्म ‘सैराट’ से रातोंरात हिट हुई एक्ट्रेस रिंकू राजगुरु को स्कूल से निकाले जाने की खबर सोशल मीडिया पर वायरल हुई थी. कहा गया कि उनकी अटेंडेंस कम होने के कारण स्कूल मैनेजमेंट ने उन्हें स्कूल से बाहर निकाल दिया था. हालांकि, बाद में रिंकू के पिता और स्कूल मैनेजमेंट ने इसे अफवाह बताया था.
रिंकू, महाराष्ट्र के सोलापुर डिस्ट्रिक्ट में आने वाले अकलुज गांव की रहने वाली हैं. एक्टिंग से लोहा मनवाने वाली एक्ट्रेस केवल 16 साल की हैं, ‘सैराट’ उनकी डेब्यू फिल्म है. उनकी फिल्म ‘सैराट’ मराठी बॉक्स ऑफिस पर इस कदर हिट हुई की रिंकू रातोंरात एक साधारण लड़की से स्टार बन गई. आमिर खान, सुभाष घई, रितेश देशमुख, आयुष्मान खुराना समेत कई बड़े एक्टर्स सैराट फिल्म और रिंकू की एक्टिंग की तारीफ कर चुके हैं. रिंकू को सैराट में एक्टिंग के लिए 63वें नेशनल अवॉर्ड से भी नवाजा गया है.
सैराट फिल्म में रिंकू लीड एक्ट्रेस हैं, जिसका नाम है आर्ची. उन्हें इस रोल के लिए फिल्म के डायरेक्टर नागराज मंजुले ने सिलेक्ट किया था. नागराज किसी काम के सिलसिले में अकलुज गांव गए थे. जब रिंकू को गांव में नागराज के आने की बात पता लगी तो वो अपने दोस्तों के साथ उन्हें देखने पहुंची. इस बीच नागराज की नजर रिंकू पर पड़ी और उन्होंने उसे फिल्म का ऑफर दिया. इसके बाद उन्होंने 10 मिनट का ऑडिशन दिया. कुछ दिन बाद उन्हें फोन आया कि वे फिल्म के लिए चुन ली गई हैं.
रिंकू राजगुरु को नेशनल अवॉर्ड मिलने के बाद बधाई देने के लिए लगातार फोन कॉल्स आने लगे थे. यहां तक कि हैकर्स ने उनका फेसबुक पेज हैक कर उस पर महाराष्ट्र के उद्योगमंत्री सुभाष देसाई का मोबाइल नंबर अपलोड कर दिया. इसके बाद देसाई के फोन पर अनचाहे कॉल आने लगे. इन अनचाही कॉल्स से परेशान देसाई ने पुलिस की साइबर सेल में कम्प्लेंट दर्ज करवाई. मामला मीडिया में आने के बाद रिंकू की फेसबुक वॉल से देसाई का नंबर हटाया गया है. जांच में पता चला है कि फिल्म रिलीज़ होने के बाद रिंकू राजगुरु के नाम से कई फर्जी फेसबुक अकाउंट्स ओपन किए गए हैं.
फिल्म सैराट एक अमीर लड़की और गरीब लड़के की इमोशनल प्रेम कहानी है. लड़का गरीब है, उसे ऊंची जाति वाली जमींदार की लड़की से प्रेम हो जाता है. जमींदार को प्रेम का पता चल जाता है. इसके बाद सोसाइटी और जमींदार से भागते हुए प्रेम और उसके संघर्ष को दिखाया गया है. ‘सैराट’ में रिंकू के अपोजिट आकाश ठोसर ने काम किया है. आकाश की भी ये डेब्यू फिल्म है.
बॉक्स ऑफिस पर 100 करोड़ से ज्यादा की कमाई करने वाली मराठी फिल्म ‘सैराट’ के दोनों लीड एक्टर्स रिंकू राजगुरु और आकाश ठोसर के मोम के पुतले पुणे के वैक्स म्यूजियम में लगाए जाएंगे. फिल्म से पहले दोनों को कोई नहीं जानता था. दोनों साधारण गांव के रहने वाले हैं. म्यूजियम के शिल्पकार सुनील कंडलूर ने खुद रिंकू राजगुरु और आकाश ठोसर के घर जाकर उनकी बॉडी का नाप लिया था.