इंसान जो बोता है, वही काटता है. मयंक को भी अपनी करनी की सजा मिल गई थी, और ऐसी मिली थी कि खून के आंसू पीने के सिवा वह कुछ नहीं कर सकता था.