बच्ची की चीखें तो उसी दिन दब गई थीं, जब इन वहशियों ने उसे मौत के घाट उतार दिया था. अब भले ही पठानकोट कोर्ट में सांझी राम चीखचीख कर खुद को बेकुसूर कहता रहे, पर कोर्ट ने उसे साजिश रचने के आरोप में मुख्य कुसूरवार पाया है. अब उसे ताउम्र जेल में ही रहना होगा.