इज्जत बचाने के लिए पुलिस उस की तलाश में जीजान से जुट गई. उसी का नतीजा था कि आखिर 32 सालों बाद पुलिस ने आफताब उर्फ नाटे को पकड़ ही लिया.