अपना घर न बसा कर उस ने छोटे भाई व बहन को पढ़ायालिखाया, उन की शादियां कीं. मां का पूरा खयाल रखा. इसी बीच, काम की थकान उतारने को वह एकांतवास में चली गई तो उस ने महसूस किया कि उस का पुनर्जन्म हो रहा है.