मौडर्न युग की विद्योत्तमा ने सुहागरात में कालिदास को झिड़का तो उस ने आत्मसमर्पण कर दिया. उसी पल, पति की प्रशंसा में कसीदे पढ़ते हुए उस ने अपनी गोरी बाहों में उसे बांध लिया.