उस के बाद पीर साहब ने किताब को शैल्फ में वापस रखा. कागज को देखते हुए वह नफीसा के बिलकुल पास आ कर बैठ गए.

अनलिमिटेड कहानियां आर्टिकल पढ़ने के लिए आज ही सब्सक्राइब करेंSubscribe Now