पहला भाग

सावित्री आंखों की जांच कराने दीपक आई सैंटर पर पहुंचीं. वहां मरीजों की भीड़ कुछ ज्यादा ही थी. अपनी बारी का इंतजार करतेकरते 2 घंटे से भी ज्यादा हो गए. तभी एक आदमी तेजी से आया और बोला, ‘‘शहर में दंगा हो गया है, जल्दी से अपनेअपने घर पहुंच जाओ.’’

यह सुन कर वहां बैठे मरीज और दूसरे लोग बाहर की ओर निकल गए. सावित्री ने मोबाइल फोन पर बेटे राजन को सूचना देनी चाही, पर आज तो वे जल्दी में अपना मोबाइल ही घर भूल गई थीं. वे अकेली रिकशा में बैठ कर आई थीं. अब सूचना कैसे दें?

बाहर पुलिस की गाड़ी से घोषणा की जा रही थी, ‘शहर में दंगा हो जाने के चलते कर्फ्यू लग चुका है. आप लोग जल्दी अपने घर पहुंच जाएं.’

सावित्री ने 3-4 रिकशा और आटोरिकशा वालों से बात की, पर कोई गांधी नगर जाने को तैयार ही नहीं हुआ जहां उन का घर था.

निराश और परेशान सावित्री समझ नहीं पा रही थीं कि घर कैसे पहुंचें? शाम के 7 बज चुके थे.

ये भी पढ़ें- बेवफा भाग 2

तभी एक स्कूटर उन के बराबर में आ कर रुक गया. स्कूटर चलाने वाले आदमी ने कहा, ‘‘भाभीजी नमस्ते, आप यहां अकेली हैं या कोई साथ है?’’

‘‘भाई साहब नमस्ते, मैं यहां अकेली आई थी, आंखों की जांच कराने. दंगा हो गया है. घर की तरफ कोई रिकशा नहीं जा रहा है.’’

‘‘इधर कोई नहीं जाएगा भाभीजी, क्योंकि दंगा पुराने शहर में हुआ है. आप चिंता न करो और मेरे साथ घर चलो.

इस तरफ नई कालोनी है, कोई डर नहीं है. आप आराम से रहना. वहां कमला

भी है.’’

‘‘लेकिन…?’’ सावित्री के मुंह से निकला.

‘‘भाभीजी, आप जरा भी चिंता न करें. घर पहुंच कर मैं राजन को फोन

कर दूंगा.’’

‘‘यह दंगा क्यों हो गया?’’ सावित्री ने स्कूटर पर बैठते हुए पूछा.

‘‘अभी सही पता नहीं चला है. मैं एक कार्यक्रम में गया था. वहां दंगा और कर्फ्यू का पता चला तो कार्यक्रम बीच में ही बंद हो गया. मैं घर की ओर लौट रहा था तो यहां मैं ने आप को सड़क पर खड़े हुए देखा.’’

सावित्री स्कूटर वाले शख्स सूरज प्रकाश को अच्छी तरह जानती थीं. सूरज प्रकाश जय भारत इंटर कालेज के प्रिंसिपल रह चुके थे. वे 5 साल पहले ही रिटायर हुए थे. परिवार के नाम पर वे और उन की पत्नी कमला थीं. जब उन के यहां 10 साल तक भी कोई औलाद नहीं हुई, तो उन्होंने अनाथ आश्रम से एक साल की लड़की गोद ले ली थी. जिस का नाम सुरेखा रखा गया था.

देखते ही देखते सुरेखा बड़ी होने लगी थी. वह पढ़नेलिखने में होशियार थी. सूरज प्रकाश सुरेखा को सरकारी अफसर बनाना चाहते थे.

जब सुरेखा 10वीं जमात में पढ़ रही थी, तब एक दिन उसे साइकिल पर स्कूल जाते हुए एक ट्रक ने बुरी तरह कुचल दिया था और उस की मौके पर ही मौत हो गई थी.

सूरज प्रकाश व उन की पत्नी कमला को दुख तो बहुत हुआ था, पर वे कर ही क्या सकते थे? उन्होंने सुरेखा को ले कर जो सपने देखे थे, वे सब टूट गए थे.

सूरज प्रकाश को समाजसेवा में भी बहुत दिलचस्पी थी और वे एक संस्था ‘संकल्प’ के अध्यक्ष थे.

सूरज प्रकाश पहले सावित्री के ही महल्ले गांधी नगर में रहते थे. दोनों परिवार एकदूसरे के घर आतेजाते थे. सूरज प्रकाश और सावित्री के पति सोमनाथ में बहुत गहरी दोस्ती थी.

घर के बाहर स्कूटर रोकते ही सूरज प्रकाश ने कहा, ‘‘आइए भाभीजी.’’

स्कूटर से उतर कर सावित्री सूरज प्रकाश के साथ घर में घुसीं. सावित्री को देखते ही कमला ने खुश हो कर कहा, ‘‘अरे दीदी आप? आइएआइए, बैठिए.’’

सावित्री सोफे पर बैठ गईं. सूरज प्रकाश ने बता दिया कि वे सावित्री को कर्फ्यू लगने के चलते यहां ले आए हैं.

‘‘दीदी, आप जरा भी चिंता न करें. यहां आप को जरा भी परेशानी नहीं होगी. पता नहीं, क्यों लोग जराजरा सी बात पर लड़नेमरने को तैयार रहते हैं. लोगों में प्यार नहीं नफरत भरी जा रही है. लोगों की नसों में जातिवाद का जहर भरा जा रहा है.

ये भी पढ़ें- हल भाग 2: क्या पति को छोड़ पाई इरा?

‘‘वैसे, हमारी कालोनी में दंगे का असर कम ही होता है, पुराने शहर में ज्यादा असर होता

है. उधर मिलीजुली आबादी जो हैं.

सूरज प्रकाश ने राजन के मोबाइल का नंबर मिलाया. उधर से राजन की आवाज सुनाई दी, ‘हैलो, नमस्ते अंकल.’

‘‘नमस्ते बेटे… तुम्हारी मम्मी डाक्टर दीपक के यहां आंखों की जांच कराने गई थीं न…’’

‘हांहां, गई थीं. क्या हुआ मम्मी को? दंगे में कहीं…’

‘‘नहींनहीं बेटे, वे बिलकुल ठीक हैं. तुम्हारी मम्मी को मैं अपने साथ घर ले आया हूं. तुम जरा भी चिंता न करना. वे बिलकुल ठीक हैं.’’

‘चलो, यह बहुत अच्छा किया जो आप मम्मी को अपने साथ ले आए. हमें तो चिंता हो रही थी, क्योंकि वे अपना मोबाइल फोन यहीं भूल गई थीं.’

सूरज प्रकाश ने सावित्री को मोबाइल देते हुए कहा, ‘‘लो भाभी, राजन से बात कर लो.’’

सावित्री ने मोबाइल ले कर कहा, ‘‘हां राजन, मैं बिलकुल ठीक हूं. कर्फ्यू खुलेगा तो तू आ जाना.’’

‘ठीक है मम्मी,’ राजन ने कहा.

तभी कमला एक ट्रे में चाय व खाने का कुछ सामान ले आईं.

रात को खाना खा कर वे तीनों काफी देर तक बातें करते रहे.

11 बज गए तो कमला व सूरज प्रकाश उठ कर दूसरे कमरे में चले गए.

सावित्री के पति सोमनाथ एक सरकारी महकमे में बाबू थे. बेटे राजन की शादी हो चुकी थी.

सोमनाथ के रिटायर होने के बाद वे दोनों ऐतिहासिक नगरों में घूमनेफिरने जाने लगे थे. जिंदगी की गाड़ी बहुत अच्छी चल रही थी कि एक दिन… सावित्री और सोमनाथ आगरा से ट्रेन से लौट रहे थे. रात का समय था. सभी मुसाफिर सो चुके थे. अचानक ट्रेन का ऐक्सीडैंट हो गया. सावित्री अपनी बर्थ से गिर कर बेहोश हो गई थीं. अस्पताल में जब उन्हें होश आया तो पता चला कि सोमनाथ बच नहीं सके थे.

कुछ दिनों तक राजन व उस की पत्नी भारती सावित्री की भरपूर सेवा करते रहे. उन्हें जरूरत की हर चीज बिना कहे ही मिल जाती थी, पर धीरेधीरे उन के बरताव में बदलाव आने लगा था. उन्होंने सावित्री की अनदेखी करनी शुरू कर दी थी.

एक दिन भारती जब बाहर से लौटी तो अपने बेटे राजू के सिर पर पट्टी बंधी देख कर वह बुरी तरह चौंक उठी थी.

सरस सलिल विशेष

भारती के पूछने से पहले ही सावित्री ने कहा था, ‘इसे एक मोटरसाइकिल वाला टक्कर मार कर भाग गया. यह चौकलेट खाने की जिद कर रहा था. मैं ने बहुत मना किया, पर माना नहीं. चौकलेट ले कर लौट रहा था तो टक्कर हो गई. मैं डाक्टर से पट्टी करा लाई हूं. मामूली सी चोट लगी है. 2-4 दिनों में ठीक हो जाएगी.’

भारती के मन में तो जैसे ज्वालामुखी धधक रहा था. वह घूरते हुए बोली, ‘इसे ज्यादा चोट लग जाती तो… हाथपैर भी टूट सकते थे. अगर मेरे राजू को कुछ हो जाता तो हमारे घर में अंधेरा हो जाता. मैं 2-3 घंटे के लिए घर से गई और आप राजू को संभाल भी न सकीं.’

तभी राजन भी ड्यूटी से लौट आया. वह राजू की ओर देख कर चौंक उठा और बोला, ‘इसे क्या हो गया?’

‘पूछो अपनी मम्मी से, यह इन की ही करतूत है. मैं एक सहेली के घर शोक मनाने गई थी. उस के जवान भाई की हादसे में मौत हो गई है. मुझे आनेजाने में 3 घंटे भी नहीं लगे. मेरे पीछे राजू को चौकलेट लाने भेज दिया. सोचा होगा कि चौकलेट आएगी तो खाने को मिलेगी.

‘सड़क पर राजू को किसी बाइक ने टक्कर मार दी. पता नहीं, इस उम्र में लोगों को क्या हो जाता है?’

‘सठिया जाते हैं. सोचते हैं कि किसी बहाने कुछ न कुछ खाने को मिल जाए. मम्मी, यह आप ने क्या किया?’ राजन ने उन की ओर देख कर पूछा.

ये भी पढ़ें- दर्द भाग -2

‘मैं ने तो बहुत मना किया था, पर मेरी सुनता ही कौन है?’ सावित्री ने दुखी मन से कहा था.

‘जिन्हें मरना चाहिए वे परिवार की छाती पर मूंग दल रहे हैं और जिन को जीना चाहिए वे अचानक ही बेमौत मर रहे हैं,’ भारती बुरा सा मुंह बना कर बोली थी.

सावित्री चुपचाप सुनती रहीं. थोड़ी देर बाद वे वहां से अपने कमरे में आ गईं और बिस्तर पर गिर कर रोने लगीं.

इसी तरह दिन बीतते रहे. सावित्री को लग रहा था कि अपना घर, बेटा

और पोता होते हुए भी वे बिलकुल अकेली हैं.

कर्फ्यू की अगली सुबह जब सावित्री की नींद खुली तो 7 बज रहे थे. जब वे नहाने के लिए जाने लगीं तो कमला ने कहा, ‘‘दीदी, आप मेरे ही कपड़े पहन लेना.’’

‘‘हांहां क्यों नहीं,’’ सावित्री ने कहा और कमला से उस के कपड़े ले कर बाथरूम में नहाने चली गईं.

नाश्ता करने के बाद वे तीनों एक कमरे में बैठ गए. टैलीविजन चला दिया और खबरें सुनने लगे.

दंगे की वजह पता चली कि नगर में धार्मिक शोभा यात्रा निकल रही थी. दूसरे समुदाय के किसी शरारती तत्त्व ने पत्थर मार दिए. भगदड़ मच गई. देखते ही देखते लूटमार व आगजनी शुरू हो गई. प्रशासन ने तुरंत कर्फ्यू की घोषणा कर दी.

सूरज प्रकाश ने कहा, ‘‘भाभीजी, राजन व बहू के बरताव में कुछ सुधार हुआ है या वैसा ही चल रहा है?’’

‘‘सुधार क्या होना है भाई साहब… देख कर लगता ही नहीं कि यह अपना बेटा राजन ही है जो शादी से पहले हर काम मुझ से या अपने पापा से पूछ कर ही करता था. शादी के बाद यह इतना बदल जाएगा, सपने में भी नहीं सोचा था,’’ सावित्री ने दुखड़ा सुनाया.

‘‘पता नहीं, बहुएं कौन सा जादू कर देती हैं कि बेटे मांबाप को बेकार और फालतू समझने लगते हैं…’ सूरज प्रकाश ने कहा.

ये भी पढ़ें- दर्द भाग- 1

(क्रमश:)

शहर में कर्फ्यू कब खुला? क्या राजन अपनी मां को लेने पहुंच पाया? पढि़ए अगले अंक में… 

Tags:
COMMENT