आज निवेदिता को यह बात समझ में आ गई कि दोस्ती हमेशा अच्छे लोगों से ही करनी चाहिए. आज अपने एक दोस्त के चलते वह मारीमारी फिर रही है. पुलिस उस के पीछे पड़ी है और कभी भी पकड़े जाने का डर है. एक बार पुलिस के हत्थे चढ़ जाने के बाद फिर कितनी परेशानी होगी, यह सोच कर उस का दिल बैठा जा रहा है.

जाधव की तसवीर उस ने आज अखबार में देखी. मोटेमोटे शब्दों में डाक्टर को ब्लैकमेल करने की खबर छपी थी.

जाधव ने डाक्टर बत्रा से एक करोड़ रुपए की रकम मांगी थी. रकम न देने पर उस ने डाक्टर के उस वीडियो को वायरल करने की धमकी दी थी, जिसमें उस की प्रेमिका के साथ उस के रोमांटिक पल गुप्त तरीके से फिल्माए गए थे. सब से बड़ी बात यह थी कि यह फिल्म खुद निवेदिता ने बनाई थी.

एक दिन डाक्टर बत्रा ने किसी बात पर निवेदिता को बुरी तरह डांटा था और उस की नजर में उसे बगैर किसी गलती के डांटा गया था. निवेदिता ने उस समय डाक्टर को कुछ नहीं कहा था, पर उसी समय उस ने फैसला कर लिया था कि वह डाक्टर को आगे से कभी ऐसा करने का मौका नहीं देगी.

निवेदिता को पता था कि डाक्टर बत्रा से मिलने एक औरत आती है. डाक्टर उस के साथ घंटों एकांत में बिताता है. उस के आने पर कई बार वह मरीजों को काफी देर तक इंतजार करवाता है.

नर्स होने के नाते निवेदिता का डाक्टर के केबिन तक प्रवेश था और कई बार उस ने डाक्टर को उस औरत के साथ ऐसी हालत में देखा था, जिस से जाहिर था कि उन दोनों के बीच कुछ है.

डाक्टर बत्रा की डांट से आहत निवेदिता ने उसे सबक सिखाने के लिए अपने मोबाइल फोन से डाक्टर बत्रा की उस औरत के साथ का वीडियो बना लिया था. चूंकि वह काफी दिनों से डाक्टर के क्लिनिक में काम करती थी, इसलिए उस के लिए यह काम मुश्किल न था. उस ने एक खिड़की से दोनों के प्यार के पलों का वीडियो बना लिया था.

डाक्टर बत्रा मस्ती के सागर में गोते लगा रहा था और उसे इस बात की भनक भी न लगी. निवेदिता ने सोच रखा था कि अगली बार अगर डाक्टर उसे कुछ कहेगा तो वह वीडियो क्लिप दिखला कर उसे धमकाएगी.

पर बाद में न कभी डाक्टर बत्रा ने ऐसा कुछ उस के साथ किया और न ही उसे डाक्टर को धमकी देने की जरूरत पड़ी. बात आईगई हो गई, बल्कि वह तो इस बात को भूल सी गई थी. लेकिन जिस क्लिप को उस ने डाक्टर को फंसाने के लिए बनाया था, उस में डाक्टर तो फंसा ही, वह खुद भी फंस गई.

हुआ यों कि निवेदिता का एक जानने वाला जाधव उस के पास अकसर आताजाता रहता था. वह घर पर ही आसपास के लोगों का हलकाफुलका इलाज किया करती थी. छोटोमोटी बीमारियों में जाधव उसी से दवा लिया करता था. धीरेधीरे दोनों की जानपहचान बढ़ गई थी.

जाधव के बारे में निवेदिता जानती थी कि वह गुंडा किस्म का आदमी है, चोरीचकारी भी करता है, पर उस से उस का रिश्ता ठीक ही था. उस के साथ उस का बरताव कभी ऐसा नहीं था, जिस से उसे एतराज होता. वह आता, इलाज करवाता और चला जाता. लेकिन थोड़ी नजदीकियां तो बढ़ ही गई थीं.

एक दिन निवेदिता किसी मरीज को देख रही थी, तभी जाधव आया था. उसे किसी के लिए दवा चाहिए थी.

निवेदिता दूसरे मरीज से बात कर रही थी, तभी जाधव उस के मोबाइल फोन से खेलने लगा. इसी बीच डाक्टर बत्रा की क्लिप पर उस की नजर पड़ गई और उस ने उस क्लिप को अपने मोबाइल फोन में ट्रांसफर कर लिया.

आज अखबार से निवेदिता को मालूम हुआ कि उस क्लिप को दिखला कर जाधव डाक्टर बत्रा से पहले भी एक बार 30 लाख रुपए और एक बार 70 लाख रुपए ले चुका था. डाक्टर ने अपनी इज्जत बचाने की खातिर भारीभरकम रकम उसे दे दी थी. इतनी बड़ी रकम पा कर जाधव का लालच बढ़ता चला गया और इस बार उस ने एक करोड़ रुपए की मांग की और डाक्टर ने इस बार पुलिस की शरण ली.

पुलिस ने टैलीफोन की बातचीत के आधार पर जाधव को पकड़ लिया था और जाधव ने अपने मोबाइल फोन में क्लिप पाने की बात बताई थी.

पुलिस निवेदिता की तलाश में थी. आज नौकरी देने वाले अपने ही डाक्टर को नुकसान पहुंचाने के इरादे और बुरी संगत के फेर में उसे मारामारा फिरना पड़ रहा है.

Tags:
COMMENT