रामबन, कश्मीर घाटी का एक संवेदनशील जिला. ऊंचे पहाड़, दुर्गम रास्ते और गहरी खाइयों के बीच स्थित है यह छोटा सा इलाका. भोलेभाले ग्रामीण जो मौसम की मार सहने के तो आदी थे मगर हाल ही में हुईं आतंकी वारदातों की मार के उतने आदी नहीं थे. मन मार कर इस को भी झेलने के अलावा उन के पास कोई चारा न था. सभी अच्छे दिनों की कल्पना को मन ही मन संजो रहे थे इस यकीन के साथ कि दुखों की रात की कभी तो खुशियोंभरी सुबह होगी.

पूरे इलाके में रामबन में ही एक सरकारी स्कूल, छोटा सा डाकखाना और एक अस्पताल था. राष्ट्रीय राजमार्ग से जुड़े होने के चलते कभीकभी इन सेवाओं की अहमियत बढ़ जाती थी. हालांकि स्कूल था मगर शिक्षक नदारद थे, अस्पताल था मगर सुविधाएं ना के बराबर थीं, डाकखाना था जो डाकबाबू के रहमोकरम पर चल रहा था. मगर फिर भी उन की इमारतें उन के होने का सुबूत दे रही थीं.

उस दिन रामबन और आसपास के जिलों में मंत्रीजी का दौरा था. पूरा प्रशासन उन के स्वागत में एकपैर पर खड़ा था. सुरक्षाकर्मियों की नींद उड़ी हुई थी. आएदिन आतंकी घटनाओं ने वैसे भी सुरक्षा एजेंसियों की नाक में दम किया हुआ था, उस पर मंत्रीजी को अपने लावलशकर के साथ इलाके का दौरा करना उन के लिए किसी आपदा से कम न था. अस्पताल वालों को भी मुस्तैद रहने की हिदायत थी और सुरक्षाकर्मियों का वहां भी जमावड़ा था.

मैडिकल डाइरैक्टर अस्पताल के अफसर डाक्टर सारांश को समझा रहे थे कि मंत्रीजी का किस तरह से स्वागत करना है. डाइरैक्टर साहब कहे जा रहे थे और डा. सारांश हैरानी से उन्हें ताकते जा रहे थे.

‘‘सर, यह काम हमारा नहीं है, हमारा काम है मरीजों की तीमारदारी करना, उन का इलाज करना न कि आनेजाने वाले मंत्रियों की सेवा करना,’’ डा. सारांश ने अपनी बात कही तो मैडिकल डाइरैक्टर ने उन्हें समझाइश दी, ‘‘मैं जानता हूं डा. सारांश, मगर करना पड़ता है. यह हमारे सिस्टम का ही हिस्सा है.’’

‘‘तो बदल क्यों नहीं देते यह सिस्टम, सालों से चल रहे ऐसे सिस्टम को तिलांजलि क्यों नहीं दे देते हम,’’ डा. सारांश यह कहते हुए अपने कक्ष की तरफ बढ़ गए.

इधर जहां सारा प्र्रशासन मंत्रीजी की फिक्र में घबराया हुआ सा था, वहीं महज कुछ ही मील दूर सेना की एक टुकड़ी औपरेशन विनाश की तैयारी में थी. फोनलाइन पर सीमापार से हो रही आतंकियों की बातचीत को सुना गया था. सूचना थी कि पाकिस्तान ने आतंकवादियों की एक टोली भारत की सीमा में ढकेल दी थी और आतंकियों ने रामबन के जंगलों में अपना आशियाना बनाया हुआ था. आतंकी पूरे असलहों और साजोसामान से लैस थे. वे एक बड़ी घटना को अंजाम देने की फिराक में थे.

खबर पक्की थी. सो, कमांडिंग अफसर ने कोई जोखिम नहीं लिया और अलगअलग टोलियां बना कर बीहड़ की अलगअलग दिशाओं में भेज दीं. उन्हीं में से एक टोली का नेतृत्व कर रहे थे मेजर बलदेव राज. मेजर बलदेव एक अच्छे खानदान से थे. उन के सारे भाईबहन विदेशों में अच्छी नौकरियों और बिजनैस से जुड़े थे. वतनपरस्ती के जज्बे ने उन्हें विदेशी शानोशौकत के बजाय फौज में पहुंचा दिया था जहां उन की गिनती जांबाज अफसरों में होती थी. लिहाजा, पाकिस्तान से आए 4 आतंकवादियों को पकड़ने के लिए उन्हें खास जिम्मेदारी दी गई थी.

पीठ पर वजनी साजोसामान, हाथ में बंदूक और सिर पर भारीभरकम हैलमेट पहने मेजर बलदेव के नेतृत्व में उन की टोली जंगल के चप्पेचप्पे की छानबीन कर रही थी. खबर पक्की थी कि आतंकवादी उन्हीं जंगलों में छिपे थे, इसलिए मेजर बलदेव गुप्त भाषा में अपने सिपाहियों को बारबार आगाह कर रहे थे. शाम का साया धीरेधीरे बादलों पर छा रहा था. तभी पत्तों की सरसराहट हुई और जवानों को आभास हो गया कि आतंकवादी आसपास ही थे.

धीरेधीरे जवान उस ओर बढ़ने लगे जहां से सरसराहट हो रही थी. तभी अचानक दूसरी दिशा से अंधाधुंध फायरिंग शुरू हो गई. मेजर बलदेव को ऐसे ही किसी हमले की आशंका थी, लिहाजा, उन की टोली के कुछ सिपाहियों का रुख दूसरी ओर था.

अगले चंद मिनट आग के गोले, धुएं और शोर के बीच बीत गए. दूसरी ओर से फायरिंग बंद हो गई तो मेजर बलदेव समझ गए कि दुश्मन का खात्मा हो गया है. अगले ही पल धुआं छटा और अपने साथियों को करीब पा कर उन्होंने राहत की सांस ली. ‘‘सर, चारों आतंकवादी मारे गए हैं, आइए उन की लाशें देखिए और हैडक्वार्टर को इत्तला कर दीजिए.’’

मेजर बलदेव ने उठने की कोशिश की मगर उठ नहीं पाए. उन की दायीं टांग लहूलुहान थी, होंठों पर दर्द था मगर आंखों में विजय की मुसकान थी. उन्होंने बड़ी मुश्किल से हैडक्वार्टर को मैसेज भिजवाया और एक बार फिर ब्रिगेडियर साहब से भूरिभूरि प्रशंसा पाई.

मेजर बलदेव के घायल होने की सूचना पा कर एक जीप वहां भेजी गई. पहाड़ी इलाके में वाहन के पहुंचने में लगे समय के दौरान मेजर बलदेव के जिस्म से काफी खून बह चुका था. बड़ी मुश्किल से उन्होंने खुद को संभाला हुआ था.

मामले की नजाकत को समझते हुए उन्हें करीब के सिविल अस्पताल में ले जाने का फैसला लिया गया और थोड़ी देर में जीप रामबन के सिविल अस्पताल के बाहर थी. मैडिकल डाइरैक्टर खुद वहां मौजूद थे. उन्होंने मेजर को वार्ड में पहुंचा कर डाक्टर सारांश को उन का इलाज करने का आदेश दिया.

डाक्टर सारांश ने मेजर बलदेव का चैकअप किया और फौरन मैडिकल डाइरैक्टर के रूम की ओर भागे, ‘‘सर, मेजर साहब बुरी तरह जख्मी हैं, फौरन उन का औपरेशन करना पड़ेगा.’’ मैडिकल डाइरैक्टर मानो इस सवाल के लिए तैयार थे, ‘‘इन्हें फौरन अनंतनाग या उधमपुर भिजवाने का इंतजाम कराओ, वहीं इन का मुकम्मल इलाज हो पाएगा.’’

सरस सलिल विशेष

‘‘मगर सर, इतना वक्त नहीं है हमारे पास. जहर जिस्म में फैलता जा रहा है. अगर फौरन औपरेशन नहीं किया तो टांग काटनी पड़ जाएगी. फौज का एक तंदुरुस्त जवान अपाहिज हो जाएगा. अगर ज्यादा देर हुई तो उन की जान भी जा सकती है.’’

‘‘डाक्टर सारांश, आप से जो कहा जाए वही कीजिए, फैसला लेने का हक मेरा है, न कि आप का.’’

‘‘सुना है आप ने औपरेशन थिएटर और आसपास के कमरे मंत्रीजी को दिए हुए हैं ताकि वे इस सर्द और बरसाती रात में आराम फरमा सकें.’’ मेजर की टोली के एक जवान ने कहा तो एक बार के लिए मैडिकल डाइरैक्टर की पेशानी पर पसीने की बूंदें उभर आईं, लेकिन अगले ही पल उन्होंने बेशर्मी से कहा, ‘‘आप समय बरबाद कर रहे हैं अपना भी, मेरा भी और सब से ज्यादा घायल मेजर का. जल्दी ही इन्हें ले जाने का इंतजाम कीजिए. जरूरत पड़े तो एयरलिफ्ट करवाइए.’’

‘‘आप जानते हैं सर, इस बरसाती रात में एयरलिफ्ट करवाना मुमकिन नहीं है,’’ डा. सारांश ने आखिरी दावं खेला.

‘‘फिर तो आप को फौरन रवाना होना चाहिए. एकएक पल कीमती है आप के लिए,’’ मैडिकल डाइरैक्टर अड़े रहे.

डाक्टर सारांश पसोपेश में पड़ गए. वे घायल सिपाही, अपना फर्ज और लाल फीताशाही के बीच फंसे बेबस से खड़े किसी भी नतीजे पर पहुंच नहीं पा रहे थे.

डाक्टर सारांश ने कुछ ही पलों में मानो फैसला कर लिया. उन्होंने अस्पताल के कुछ कर्मचारियों को बुलाया और उन से रायमशवरा करने के बाद मेजर को टीले के उस ओर ले गए जहां पर बरसात का प्रकोप कम था. वहीं उन्होंने 2 पेड़ों के बीच रस्सी बांध कर मचान बनाया और अस्पताल से लाए औजारों की मदद से गोली निकालने का काम शुरू कर दिया. फौज की जीप की हैडलाइट्स की रोशनी में उन्होंने गोली निकाली और औपरेशन को अंजाम दिया. औपरेशन कामयाब रहा और पौ फटतेफटते मेजर को होश आ गया. फिर थोड़ी ही देर में हैलिकौप्टर मेजर को ले कर उधमपुर की ओर उड़ गया.

डाक्टर सारांश के इस औपरेशन की खबर पूरे जिले में फैल गई और जैसा कि डाक्टर सारांश को अंदेशा था, दफ्तर से आए एक कर्मचारी ने उन्हें सस्पैंशन और्डर थमा दिया. पत्र में उन पर कई तरह के इलजाम लगाए गए थे और उन की शिकायत मैडिकल काउंसिल में कर दी गई थी जिस में सिफारिश की गई थी कि डाक्टर सारांश का मैडिकल लाइसैंस रद्द कर दिया जाए.

डाक्टर सारांश के औपरेशन की खबर कुछ यों फैली कि शाम होतेहोते कई रोगी उन तक पहुंच गए और उन के परिजन हाथ जोड़जोड़ कर उन से रोगियों के औपरेशन की गुहार करने लगे. डाक्टर सारांश के समझानेबुझाने का उन पर कोई असर नहीं हुआ. आखिरकार डाक्टर सारांश ने दूसरी रात भी 4 औपरेशन उसी हालात में कर डाले, जो कामयाब भी हुए. फिर तो यह रोज का सिलसिला हो गया और डाक्टर सारांश की ख्याति दूरदूर तक फैल गई. भारी तादाद में रोगी उन तक पहुंचने लगे.

मैडिकल डाइरैक्टर ने बौखलाहट में डाक्टर सारांश के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवा दी जिस में उन पर गैरकानूनी ढंग से औपरेशन करने और अस्पताल के सामान की चोरी का इलजाम भी शामिल था.

डाक्टर सारांश ने जमानत लेने के बजाय जेल जाना पसंद किया और उन पर कई धाराएं लगा कर उन्हें फौजी जेल में डाल दिया गया. मामले की सुनवाई जिला अदालत में शुरू हो गई.

चंद ही दिन बीते थे कि एक ऐसी घटना हुई जिस की डाक्टर सारांश को भी उम्मीद न थी. कूरियर से एक लिफाफा उन के नाम आया जिस में उन के नाम का एक प्रशस्तिपत्र और सिंगापुर आनेजाने का टिकट था. डाक्टर सारांश हैरान थे कि यह कैसे हुआ. उन की समझ में कुछ भी नहीं आ रहा था. अगले ही दिन उन्हें अदालत के आदेश से छोड़ दिया गया और दिल्ली होते हुए वे सिंगापुर के जहाज में बैठ गए.

सिंगापुर पहुंचते ही उन का तहेदिल से स्वागत हुआ और एक समारोह में उन की उपलब्धियां गिनाई गईं, वे उपलब्धियां जो भारत में गुनाह समझी गई थीं और उन्हें जेल में डाल दिया गया था. उन्हें मानवता का रखवाला और कई जानें बचाने वाला महामानव बताया गया था. चर्चा हुई और उन से सवालजवाब हुए कि उन्होंने किस तरह संसाधन न होते हुए भी इतने औपरेशन किए जोकि कामयाब रहे. मानवता के नाम पर उठाया गया उन का एक कदम इतनी लंबी छलांग लगा देगा, इस का उन को गुमान न था.

भारतीय मैडिकल काउंसिल जहां उन पर अनुशासनहीनता की कार्यवाही कर रही थी, अदालत उन को मुजरिम की तरह कठघरे में खड़ी कर रही थी, मंत्रालय उन पर सख्त से सख्त कार्यवाही करने का मन बना रहा था, वहीं परदेस में डाक्टर सारांश को डाक्टरों के काम का सर्वोच्च आदर और मान मिल रहा था.

डाक्टर सारांश मंच पर खड़े लोगों के सवालों का जवाब दे रहे थे. तभी कोने से एक व्यक्ति ने वही प्रश्न किया जो उन के दिमाग पर दस्तक दिए जा रहा था. ‘‘क्या आप मानते हैं कि आज भी भारत में सारी व्यवस्था राजनीतिज्ञों के इर्दगिर्द घूमती है और पढ़ालिखा डाक्टर सारांश भी उसी व्यवस्था की भेंट चढ़ जाता है जब उसे एक भारतीय फौजी मेजर बलदेव राज की जान बचाने के लिए अपने कैरियर को जोखिम में डालना पड़ता है और बदले में उसे जिल्लत का सामना करना पड़ता है?’’

डाक्टर सारांश की आंख उस ओर मुड़ गई, उन्हें पहचानने में देर नहीं लगी कि प्रश्न मेजर बलदेव राज का था. ‘‘बात कुछ हद तक  सही भी है मगर मैं सकारात्मक सोच रखता हूं और मुझे यकीन है कि सबकुछ बदल रहा है, हर बदलाव में समय तो लगता ही है. जहां तक मेरा प्रश्न है, मुझे अनगिनत लोगों से प्यार मिला है और उस प्यार के सामने उस जिल्लत की मेरे लिए कई अहमियत नहीं है जो चंद सरकारी लोगों ने मुझे दी. मुझे इस के आगे कुछ नहीं कहना है.’’

समारोह के खत्म होने के बाद डाक्टर सारांश अपने होटल की ओर जा रहे थे. सामने से मेजर बलदेव आते नजर आए, ‘‘आप ने मेरी जान तो बचा ली लेकिन दुश्मन की गोली अपना काम कर चुकी थी. फौज के नियमों के तहत घायल सैनिक को दफ्तर की पोस्ंिटग दी जाती है. भला मुझ जैसा दौड़नेभागने वाला अफसर दफ्तर की चारदीवारी में क्या करेगा, लेकिन चाह कर भी फौज छोड़ न पाया. सेना से तो जीवनमृत्यु का गठबंधन है. कैसे तोड़ पाता यह संबंध. यहां मैं भारतीय दूतावास में हूं. यह दोस्त मुल्क है, इसलिए यहां कुछ ज्यादा करने को नहीं, मगर यहां से दुश्मन मुल्कों को देखना आसान है.’’

‘‘अगर मैं गलत नहीं सोच रहा तो, मुझे यहां तक लाने में आप का ही हाथ है,’’ डाक्टर सारांश ने कहा.

‘‘हां, डाक्टर साहब, मैं आप को फौलो कर रहा था. यहां काउंसिल में मैं ने आप के बारे में जानकारी दी. इन्होंने भारत सरकार की मदद ली और आप को यहां तक ले आए. मैं जानता हूं आप ने कितनी तकलीफ झेली. आप चाहते तो अपने उसूलों से हट सकते थे. मुझे उधमपुर या जम्मू भेजना आप के लिए बहुत आसान था, लेकिन यह भी तय था कि मैं वहां तक नहीं पहुंच पाता. हां, तिरंगे में लपेटा हुआ एक सैनिक जरूर पहुंचता, जिस पर कुछ दिन सियासत होती, फिर भुला दिया जाता. आप के उपकार के एवज में मैं ने जो भी कुछ किया वह कुछ नहीं था.’’

डाक्टर सारांश ने एक ठंडी सांस ली और मेजर को धन्यवाद दिया. इस बीच, मेजर साहब ने डाक्टर सारांश के हाथ में एक लिफाफा पकड़ा दिया.

‘‘यह क्या है?’’ डा. सारांश ने पूछा.

‘‘यहां के सब से बड़े अस्पताल का आप के नाम प्रशस्तिपत्र.’’ डाक्टर सारांश ने लिफाफा अपने ब्रीफकेस में डाल दिया.

‘‘बेहतर होता कि आप इस पर एक नजर डाल लेते,’’ मेजर साहब ने कहा तो डाक्टर सारांश ने लिफाफा खोल कर पत्र पढ़ना शुरू किया. एक ही सांस में पत्र पढ़ कर उन्होंने फिर से उसे अपने ब्रीफकेस में डाल दिया और होटल की ओर चल पड़े.

‘‘आप ने डाक्टर सारांश को हमारा पत्र दे दिया?’’ यह सिंगापुर के अस्पताल के डाइरैक्टर एक भारतीय डाक्टर निकुंज का फोन था.

‘‘हां, दे दिया, उन्होंने इनकार नहीं किया, बल्कि कुछ कहा भी नहीं.’’

‘‘सबकुछ कहा नहीं जाता मेजर, कुछ चीजें समझी जाती हैं. आप कह रहे थे डाक्टर सारांश पत्र पढ़ कर उसे रद्दी की टोकरी के हवाले कर देंगे, मगर मैं जानता था कि इतना अच्छा औफर कोई पागल ही ठुकरा सकता है.’’ डा. निकुंज ने कहा तो मेजर ने फौरन कहा, ‘‘डाक्टर सारांश पागल ही हैं सर.’’

दूसरे दिन हवाईअड्डे पर डाक्टर सारांश को छोड़ने आए वीआईपी लोगों में सिंगापुर अस्पताल के निदेशक और मेजर बलदेव मौजूद थे.

‘‘मुझे आप का प्रस्ताव मंजूर है,’’ डाक्टर सारांश ने कोट की जेब से एक लिफाफा पकड़ाते हुए कहा, ‘‘इस में कुछ शर्ते हैं जिन के बारे में आप को सोचना है.’’

‘‘हमें आप की सारी शर्तें मंजूर हैं, बस, आप की हां चाहिए. मैं आज ही काउंसिल की मीटिंग में इन पर विचार कर के आप को जवाब भेज दूंगा.’’

मेजर बलदेव को डाक्टर सारांश से शायद कुछ और ही उम्मीद थी. उन के चेहरे पर निराशा के भाव थे. डाक्टर सारांश का हवाई जहाज उड़ चुका था. मेजर बलदेव अनमने से हवाई अड्डे पर ही खड़ेखड़े कौफी की चुस्कियों के साथ कुछ सोच रहे थे, ‘इंसानी जरूरतें, भारत में डाक्टर सारांश के साथ हुई बेइंसाफी, ऐसे में अगर उन्होंने सिंगापुर का औफर स्वीकार कर लिया तो क्या बुरा किया. उन की जगह कोई भी होता तो यही करता जो उन्होंने किया.’

सरस सलिल विशेष

कौफी पीने के बाद थोड़ा आगे बढ़े तो डाक्टर निकुंज मिल गए. ‘‘मेजर साहब, अपने डाक्टर सारांश का जवाब पढ़ना नहीं चाहेंगे,’’ यह कहते हुए उन्होंने डाक्टर सारांश का पत्र मेजर के सामने कर दिया.

मेजर बलदेव ने एक सांस में ही पत्र पढ़ लिया था. डाक्टर सारांश ने प्रस्ताव तो मंजूर किया था मगर शर्त यह रखी थी कि अस्पताल कश्मीर के रामबन इलाके में ही बने, जहां मैडिकल सुविधाएं न के बराबर हैं. लोगों को इलाज के लिए श्रीनगर या जम्मू जाना पड़ता है.

‘‘डाक्टर सारांश ने एक तरह से हमारी पेशकश ठुकरा दी है. मगर मैं हार मानने वाला नहीं हूं. मैं काउंसिल से अस्पताल वहीं बनाने की सिफारिश करूंगा, जहां डाक्टर सारांश चाहते हैं,’’ डा. निकुंज ने कहा.

मेजर बलदेव कुछ समझ नहीं पा रहे थे कि इस पर वे क्या प्रतिक्रिया दें एक पल उन्होंने सोचा और कहा, ‘‘डाक्टर निकुंज, मेरी एक राय है. आप इस बात को यहीं खत्म कर दें. काउंसिल में अधिकतर विदेशी हैं, मैं नहीं चाहता कि अपने देश का नाम नीचे हो.’’

‘‘यह कैसी बातें कर रहे हैं मेजर साहब. इस से तो हमारे देश का नाम ऊंचा होगा. डाक्टर सारांश को भी वह सम्मान मिलेगा जिस के वे सही माने में हकदार हैं.’’

‘‘आप ठीक कह रहे हैं मगर आप भी एक भारतीय हैं. माना कि आप बरसों से यहां बसे हुए हैं मगर हमारे देश की कार्यप्रणाली को नहीं भूले होंगे. माना कि बदलाव आ रहा है मगर अभी भी बहुतकुछ पहले जैसा ही है, समय लगेगा. आप का प्रस्ताव बरसों दफ्तरों के चक्कर लगाता रहेगा. फाइलें इधर से उधर घूमती रहेंगी. राज्य सरकार और केंद्र सरकार के बीच खेल शुरू हो जाएगा. विरोधी दल सियासत करेंगे. जम्मू और कश्मीर के खास दर्जे पर चर्चा होगी. सबकुछ होगा मगर अस्पताल का प्रोजैक्ट पास नहीं होगा. सोचिए, क्या गुजरेगी डाक्टर सारांश पर और क्या सोचेंगे आप के विदेशी साथी और सहयोगी.’’

‘‘शायद आप ठीक कह रहे हैं,’’ डाक्टर निकुंज ने ठंडी आह भरते हुए कहा, ‘‘सिर्फ एक डाक्टर सारांश के आगे आने से काम नहीं चलेगा. आवश्यकता है कि सरकार के मंत्री और सरकारी कर्मचारी दोनों ही अपनी सोच को बदलें. तभी सही मानों में बदलाव आएगा. बहुत जरूरी है कि देश में वीआईपी कल्चर, लालफीताशाही और जिम्मेदारी से दाएंबाएं होने का खेल सरकारी दफ्तरों से खत्म हो. तभी विदेशों में हमारी छवि और लोगों की हमारे बारे में सोच बदलेगी. वे हमें गंभीरता से लेंगे.’’

डाक्टर सारांश का हवाई जहाज जब दिल्ली पहुंचा तो उन के स्वागत के लिए कई लोग हवाई अड्डे पर मौजूद थे. भीड़ में सब से आगे मंत्री महोदय और मैडिकल डाइरैक्टर थे. उन के चेहरों पर कुटिल मुसकान अभी भी मौजूद थी.

Tags:
COMMENT