यौनजनित एलर्जी व संक्रमण को ले कर अकसर लोग बात करने से झिझकते हैं. जबकि निजी व शर्मिंदगीभरी बात समझ कर छिपाने से कई बार गंभीर रोगों का रूप ले लेता है.