3 राज्यों की चुनावी हार ने यह साफ कर दिया है कि लोकसभा चुनाव में वहां भाजपा के लिए पूरे देश में 2014 जैसे हालात नहीं हैं.