सरस सलिल विशेष

तकरीबन हर साल जूनजुलाई  महीने में बिहार के गांवों में कोई न कोई अफवाह फैलती है. किसी साल कोई 'लकड़सुंघवा' बच्चों को लकड़ी सुंघा कर बेहोश कर के चुराता है, तो किसी साल कोई 'मुंहनोचवा' छत पर या बाहर सोए लोगों का रात में आ कर मुंह नोच लेता है, तो किसी साल 'चोटीकटवा' का हल्ला होता है, जिस में सोई हुई लड़कियों के रात में बाल कट जाते हैं और लड़की बेहोश हो जाती है.

इस साल 'कोरोना माई' के बिगड़ने की अफवाह उतरी, बिहार के छपरा, गोपालगंज और सिवान जिले में यह अफवाह फैलाई गई. इस सिलसिले में वीडियो बना कर एंड्रायड मोबाइल फोन से वायरल किया गया. नतीजतन, दलित और निचले तबके की औरतें 'कोरोना माई' की पूजा कर रही हैं. लोगों को यकीन है कि इस से बिगड़ी 'कोरोना माई' का गुस्सा शांत होगा और इस बीमारी में कमी आएगी.

इस संबंध में एक औरत वीडियो के जरीए एक कहानी बताती है कि एक खेत में 2 औरतें घास काट रही थीं. वहीं बगल में एक गाय घास चर रही थी. कुछ देर के बाद वह गाय एक औरत बन गई. इस के बाद घास काट रही औरतें डर कर भागने लगीं.

ये भी पढ़ें- जनता तो अब चंदन ही घिसेगी

तब गाय से औरत ने कहा, 'तुम लोग डरो नहीं. हम कोरोना माता हैं. अभी हम नाराज हैं, जिस का ही प्रकोप आजकल कोरोना के रूप में देखा जा रहा है. देश में मेरा प्रचारप्रसार करो और सोमवार और शुक्रवार को मेरी पूजा करो. इस से हम खुश हो जाएंगे. अगर इसे कोई मजाक में लेता है या हंसता है, तो इस का अंजाम बहुत ही बुरा होगा...'

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • अनगिनत लव स्टोरीज
  • मनोहर कहानियां की दिलचस्प क्राइम स्टोरीज
  • पुरुषों की हेल्थ और लाइफ स्टाइल से जुड़े नए टिप्स
  • सेक्सुअल लाइफ से जुड़ी हर प्रॉब्लम का सोल्यूशन
  • सरस सलिल मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • भोजपुरी फिल्म इंडस्ट्री की चटपटी गॉसिप्स
  • समाज और देश से जुड़ी हर नई खबर
Tags:
COMMENT