एक दिन छम्मक के घर पर…छम्मक, एक बात कहूं. कहो मनोज. अगर मैं तुम्हारे होंठ चूम लूं तो तुम मुझे क्या समझोगी.