जय के साथ आए उस के चाचा सर्वेश ने भी लाश की पहचान अपने भाई सत्येंद्र तिवारी के रूप में कर दी थी.