सरस सलिल विशेष

बिहार के महाचर्चित चारा घोटाले का समापन राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव को साढे़ 3 साल की सजा के साथ हुआ जिन्हें हजारीबाग जेल में मालीगिरी का काम सौंपा गया है. अब लालू साढ़े 3 साल जेल की बगिया संजोते क्यारियां बनाएंगे, सागसब्जी और फलफूल लगाएंगे और फिर निराईगुड़ाई भी करेंगे जिस से फसल में खरपतवार न उगे. इन्हीं खरपतवारों में से एक घास भी होती है जिसे चारे के लिए इस्तेमाल किया जाता है.

भा जाए तो जेल गार्डनिंग भी किचन गार्डनिंग की तरह रुचिकर काम है जिस में माली अपने रोपे पौधों को रोज बढ़ते देख खुश होता है. फिर लालू को तो इस बाबत 93 रुपए रोज की दिहाड़ी भी मिलेगी. इस मेहनताने का वे एक अलग सुख भोगेंगे. बस, वे यह ध्यान रखें कि अब कैसे भी हो, चारा न उग पाए और हाईकोर्ट उन्हें रहम खा कर जमानत दे दे.