डाक्टर सारांश इसी के शिकार बने थे, लेकिन उन की उपलब्धियों और कुछ कर गुजरने का जज्बा उन्हें हर हदों को तोड़ता हुआ कहां से कहां ले गया.