विकृत बच्चे को देख फूलचंद और सुरना की नींद उड़ गई. लेकिन राधा की बातें सुन कर उन की आंखों में खोई हुई चमक लौट आई.