लेखक- अनुराग वाजपेयी

वे तो इस बात पर अड़े हुए थे कि दूल्हा घोड़ी पर नहीं बैठेगा. हमारे प्रदेश में हर साल ऐसी 10-20 घटनाएं होती हैं, जब बड़ी जातियों के लोग अपने गांव में जाति की इज्जत बचाए रखने के लिए दलित जाति के दूल्हे को घोड़ी से उतार देते हैं.

किले ढह गए, महल बिक गए, खेत बंट गए, लड़के शराबी बन गए, पर मूंछें नहीं झुकीं. इन लोगों को भरोसा है कि अगर बड़प्पन बचाए रखना है, तो एक ही तरीका है कि दलित जाति के दूल्हे की बरात ही मत निकलने दो.

इस गांव में भी यही हो रहा था. कई दिनों से दलित दूल्हे को घोड़ी से उतारने की तैयारी चल रही थी.

मैं ने एक से कहा, ‘‘भाई, दूल्हा तो वैसे ही दलित होता है, सामने दिखती आफत को गले लगाने के बावजूद वह गाजेबाजे के साथ निकलने को तैयार हो जाता है. उस से ज्यादा दलित, पीडि़त और कौन होगा? फिर अलग से इन्हें दलित दूल्हा कहने की क्या जरूरत है?’’

वह बोला, ‘‘हम भी इन दूल्हों को यही बात तो समझाना चाहते हैं कि शादी के बाद जिंदगी में वैसे ही दलित हो जाओगे तो अच्छा है कि अभी से धरती पर रहो.’’

खैर, यह बात तो हंसने की है, लेकिन जब सारा देश अयोध्या में मंदिरमसजिद, सीएए, पाकिस्तान और ऐसे ही खास मुद्दों में उलझा हुआ था, तब इस गांव में सब से बड़ा मुद्दा यह था कि दलित दूल्हा घोड़ी पर बैठ सकेगा या नहीं.

मैं ने दूल्हे के  पिता से पूछा, ‘‘भाई, क्या तैयारी हो रही है शादी की?’’

वह बेचारा चौक में जूते गांठने का काम करता था. बोला, ‘‘बाबूजी, तैयारी क्या है, आप लोगों का आशीर्वाद है. किसी तरह शादी हो जाए बस.’’

ये भी पढ़ें- किस गुनाह की सजा

उस ने अपने 2 बेटों में से इसी बेटे को स्कूल भेजा था. वह कालेज तक पढ़ा था और अब घोड़ी पर चढ़ कर बरात निकालने को तैयार था.

मैं ने उस से पूछा, ‘‘भाई, तुम क्यों जिद कर रहे हो घोड़ी पर ही बैठ कर ससुराल जाने की?’’

उस 19 साल के लड़के ने, जिस की हलकीहलकी मूंछें उग आई थीं और जिस ने बड़े चाव से शहर के दर्जी से गुलाबी रंग का सूट सिलवाया था, बड़े भोलेपन से मुझ से ही सवाल पूछा, जिस का जवाब किसी शास्त्र में नहीं है.

उस ने पूछा, ‘‘भाई साहब, मैं क्यों नहीं बैठ सकता घोड़ी पर?’’

इस सवाल पर आज तक सारा समाज बगलें झांक रहा है.

इस सवाल में न कोई राजनीति थी, न किसी को बहकाने की नीयत, न अपने किसी खोए हुए हक को पाने की लड़ाई. यह शहर में पढ़ रहे एक 19 साल के लड़के का सहज सवाल था.

यह सवाल भले ही सहज हो, पर इस का जवाब सहज नहीं है.

मैं ने लड़के से पूछा, ‘‘पर यह बताओ, इस गांव में तुम्हारा बड़ा भाई, पिता या तुम्हारी जाति का बड़े से बड़ा कोई भी आदमी आज तक घोड़ी पर चढ़ कर शादी करने नहीं गया, तो फिर तुम ही क्यों जाना चाहते हो?’’

वह बोला, ‘‘दरअसल, जो लोग मुझे घोड़ी से उतारना चाहते हैं, उन के सारे परिवार के लोग घोड़ी पर चढ़ कर शादी करने जाते हैं. मैं देखना चाहता हूं कि घोड़ी में ऐसा क्या है, जो आदमी को दूसरों से ऊंचा बना देती है.’’

मैं ने कहा, ‘‘घोड़ी में कुछ नहीं है भैया, आजकल वे कार में भी जाते हैं. पहले घोड़ी ताकत और पैसे की निशानी थी, अब कार है. अगर तुम ताकत और पैसे में उन के बराबर हो जाओगे तो वे बरदाश्त करेंगे.’’

लड़का बोला, ‘‘बात पैसे की है, तो भाई साहब जैसे वे किराए की घोड़ी लाते हैं, वैसे ही मैं लाया हूं. अगर बात ताकत की है, तो आज वोट की ताकत हमारे पास भी है. मैं तो घोड़ी पर चढ़ कर ही बरात ले जाऊंगा.’’

लड़का लड़ाई को न्योता दे रहा था. उस के बड़ेबुजुर्ग समझाबुझा कर हार गए कि इस से कुछ नहीं मिलने वाला. तुम एक दिन घोड़ी पर चढ़ कर भी जाओगे तो क्या होगा? कल से तुम्हारे बाप को वहीं चौक पर बैठ कर जूते गांठने हैं.

लड़का बोला, ‘‘जूते गांठने में क्या दिक्कत है, जो मुझे रोकते हैं? वे तो दारू पी कर हल्ला मचाते हैं. उन के लड़के पढ़ेलिखे भी नहीं हैं. मैं उन से क्यों डरूं?’’ समझाने का दौर सुबह से चलता रहा और शाम हो गई.

मैं ने सोचा कि जरा दूसरे पक्ष का भी हाल देख आऊं. उधर माहौल बड़ा ही गरम था. एक दलित लड़के की बरात घोड़ी पर निकलने वाली है, यह बात इतनी गंभीर थी कि मानो बमों से लैस कोई हवाईजहाज उन के घरों पर बमबारी के लिए उड़ान भरने वाला हो.

ये भी पढ़ें- शैतान भाग 3 : रानिया के जिस्म से खेल पाया अरलान

मैं ने एक से पूछा, ‘‘चढ़ने क्यों नहीं देते उस लड़के को घोड़ी पर? क्या हो जाएगा?’’

वह बोला, ‘‘वाह भाई साहब, वाह, आज घोड़ी पर चढ़ने दें, कल हमारे साथ खाना खिला दें, परसों आप कहिएगा कि उन से रिश्ता भी कर लें…’’

मैं ने कहा, ‘‘पर, इतनी दूर तक जाने की क्या जरूरत है? लड़के की जिद है तो आप लोग ही सम्मान करिए. आप लोगों ने इतने लोगों को घोड़ी पर चढ़ा कर क्या पा लिया?’’

वह बोला, ‘‘आप उस का पक्ष न लें. यह लड़का शहर में चार अक्षर क्या पढ़ लिया है, इस के तो पंख उग आए हैं. पिछले साल हम ने इन को तालाब से पानी भरने की छूट दे कर नतीजा देख लिया. ससुरे उस में हमारे साथ नहाने की मांग करने लगे.’’

मैं ने कहा, ‘‘पर, तालाब तो पंचायत का है, सब का है.’’

उस ने पूछा, ‘‘और पंचायत किस की है भाई साहब?’’

मैं चुप हो गया. वहां लोग तैयार थे, दुनिया इधर से उधर हो जाए, पर यह बरात घोड़ी पर नहीं निकलेगी.

इसी माहौल में रात हुई. बरात सजी, घोड़ी आई और लड़का उस पर बैठ गया. हजारों साल में इस गांव में पहली बार यह ऐतिहासिक घटना हुई. चंद्रमा पर पहुंचने से भी बड़ी घटना थी यह.

बरात चली और जब अपने महल्ले को पार कर दूसरे महल्ले में पहुंची, तो सबकुछ तयशुदा कार्यक्रम से हुआ. 100-150 आदमी आए, उन्होंने दूल्हे को घोड़ी से उतारा, पीटा, उस के बाप को भी पीटा और चले गए.

गांव में पुलिस चौकी भी थी और प्रशासन भी सतर्क था. उस ने चारों ओर घेरा बनाया और बरात को दूल्हे व घोड़ी समेत ससुराल तक पहुंचा दिया.

ऐसा ही होता है, बीसियों बार हो चुका है. पुलिस निश्चिंत हुई, तभी लोग फिर पहुंचे, अब की उन्होंने पत्थरों और लाठियों से हमला किया, पुलिस भाग गई, दूल्हे को फिर उतार दिया गया और वह अपने बापदादा की तरह पैदल शादी करने पहुंचा.

ये भी पढ़ें- वे 3 दिन

अगले दिन प्रशासन ने दावा किया कि दूल्हा घोड़ी पर ही गया था. अखबारों में छपा कि ऐसा नहीं हुआ था. अखबार शाम तक पुराना हो गया.

एक ऐतिहासिक घटना होतेहोते रह गई. इसी अखबार में एक खबर और थी कि देश के वैज्ञानिकों ने लंबी दूरी तक मार करने वाले एक मिसाइल का कामयाब परीक्षण किया था.

इस पर प्रधानमंत्री ने खुशी जाहिर करते हुए कहा था कि देश अब तरक्कीशुदा देशों की कतार में खड़ा हो गया है.

Tags:
COMMENT