रोहरानंद को देख, लंबी-लंबी फलांग भरता, मानौ दौड़ता भागने लगा.रोहरानंद ने पुकारा- “अरे भाई ! रुको ! रुको तो…”

बुद्धिजीवी ने पलट कर देखा और पुनः लंबे-लंबे डग भरता हवा से बातें करने लगा. विवश रोहरानंद पीछे दौडा. सोचा,आज बमुश्किल एक बुद्धिजीवी मिला है, चार बातें कर लूं तो जीवन धन्य हो जाए.

-“भाई साहब ! सुनिए तो…” रोहरानंद ने दौड़ते हुए पास पहुंच मानो गुहार लगाई.

-“क्यों?”बुद्धिजीवी  ने घूर कर देखा

-“कुछ शंका समाधान करना चाहता हूं.”

-“मैं अभी शीघ्रता में हूं, फिर कभी मिलना.”

-” ऐसा अनर्थ न करें,मेरी बस एक-दो ही शंका, कुशंका है.” रोहरानंद ने  लरजते स्वर में कहा.

-“अच्छ, जरा जल्दी पूछो.” बुद्धिजीवी ठहर गए.

ये भी पढ़ें- उड़ान : मोहिनी ने कपिल को कैसे फंसाया

-” धन्यवाद !” रोहरानंद ने  इधर उधर देखा और फिर कहा,- “भाई साहब सामने काफी हाउस है, वहीं बैठते हैं न !”

-“ठीक है !”अब बुद्धिजीवी मुस्कुराया. रोहरानंद को लगा चिड़िया फंसने को तैयार है.

दोनों काफी हाउस में प्रविष्ट हुए . कुर्सियों पर बैठ गए. रोहरानंद ने सधे खिलाड़ी की तरह उंगली पकड़ी और कहा,” भाई साहब और क्या हाल है ?”

बुद्धिजीवी ने गर्म हवा छोडी-” देश तालिबानी संस्कृति की ओर अग्रसर है ! बेहद दुखी है हम.”

रोहरानंद- “तालिबानी अर्थात बर्बर सभ्यता .. नहीं… नहीं हमारा देश तो लोकतंत्र की ताजी हवाओं के झोंके से खुशनुमा है…”

बुद्धिजीवी- “यह सब कहने की बातें हैं. लोकतंत्र तो एक मृगतृष्णा है, हमारा देश अभी बर्बर अवस्था में ही सांसे ले रहा है .”

रोहरानंद ने आश्चर्य से कहा- “भाई साहब ! वह भला कैसे.”

बुद्धिजीवी- “इंटेलेक्यूअल पर्सन को आज देशद्रोही ठहराया जा रहा है, इससे बड़ा काला दिन और क्या होगा. जब बुद्धिजीवियों के साथ सरकार ऐसा दमनकारी कृत्य कर रही है फिर आम लोगों के पीड़ा की आप कल्पना भी नहीं कर सकते.”

रोहरानंद- “मगर भाई साहब ! मुझे लगता है इसमें गलती बुद्धिजीवी की होती है .वह अपनी सीमा का सदैव अतिक्रमण करता है और यह खतरा तो उसे उठाना ही होगा. यह तो हर देश- काल में होता रहा है.”

बुद्धिजीवी – “मगर आज हम क्या करें ? क्या इसका प्रतिकार नहीं करें . सरकार एक कार्टूनिस्ट को राष्ट्रद्रोही बता रही है .यह कैसी व्यवस्था है, कैसा लोकतंत्र है. क्या कलाकार आम आदमी अपनी भावना को प्रकट करने स्वतंत्र नहीं है.”

रोहरानंद-( दोसे का ऑर्डर देने के बाद )-” भाई साहब, मेरी एक सलाह मानेंगे… बुद्धिजीवी की सार्थकता तभी है जब वह लकीर को तोड़े.”

बुद्धिजीवी अब थोड़ा मुस्कुराए और कहा-” ठीक कहते हो, किसी ने कहा है न, लकीर को तोड़ते हैं सिर्फ तीन शायर, सिंह और फकीर.”

ये भी पढ़ें- शन्नो की हिम्मत : बाप और बेटी की अनोखी कहानी

रोहरानंद- “और अगर बुद्धिजीवी देशद्रोही नहीं हुआ तो बुद्धिजीवी क्या खाक हुआ… बुद्धिजीवी का तो अर्थ ही है विद्रोही होना.जेल जाना जेल में मरना, सच्चा इंटेलेक्यूअल तो यही है.”

बुद्धिजीवी के सामने अब दोसा आ चुका था. कांटे से एक टुकड़ा काटते हुए उसने कहा- “तुम ठीक कह रहे हो, दुनिया के सारे शीर्ष बुद्धिजीवी जेल में ठूंसे गए हैं, चाहे राजसत्ता हो या लोकसत्ता .”

रोहरानंद – “और आपको उनका धन्यवाद करना चाहिए अगर राष्ट्रदोही कहकर न सताए बुद्धिजीवी को जेल में नहीं ठूंसेगी तो उसकी प्रतिभा को संसार भला कैसे जानेगा ?”

बुद्धिजीवी के समक्ष अब काफी आ चुकी थी उन्होंने शांत भाव से कप उठाया और होठों से लगा एक घूंट पीकर कहा- “तुम ठीक कहते हो, मगर हम तो नाम मात्र के बुद्धिजीवी रह गए हमारी प्रतिभा को देश-दुनिया ने जाना  ही नहीं. चलो ठीक है हम अपना काम करेंगे हम विद्रोह को कंधे पर उठा उठा प्रदर्शन करेंगे.”

Tags:
COMMENT