दफ्तर से घर लौटते समय ताराचंद के चेहरे से दुनियाभर की खुशी टपक रही थी. दरवाजे के भीतर कदम रखते ही उन्होंने ऊंची आवाज में अपनी बीवी को पुकारा, ‘‘अरी ओ संतोष, कहां हो?’’

‘‘तुम चिल्लाते क्यों हो जी. कुरतापाजामा वहीं खूंटी पर तो टंगा है. लेकिन ठहरो, अभी तुम कपड़े मत बदलना…’’ संतोष ने भीतर से आते हुए कहा.

‘‘क्यों…?’’ ताराचंद ने पूछा.

संतोष मुसकरा कर बोली, ‘‘क्योंकि तुम्हारी इच्छा चाय पीने की होगी. ऐसा करो तुम दुर्गा ताई के घर हो आओ. ताऊ को कल शाम से बुखार है. वहां चाय के साथ नमकीन भी मिल जाएगी…’’ थोड़ा रुक कर वह फिर बोली, ‘‘कल हम दोनों ही वहां जा कर सुबह की चाय पी लेंगे. आज दिनभर वहां बैठेबैठे मैं तो 2 बार की चाय पी आई थी. लौटते समय 6 संतरे भी साथ ले आई थी.’’

‘‘संतरे?’’ ताराचंद ने पूछा.

संतोष फिर मुसकरा कर बोली, ‘‘हां, ताऊ का हालचाल पूछने जो भी आ रहा था, ज्यादातर संतरे ही ला रहा था. मैं ने ताई के कान में फुसफुसा कर कह दिया था कि किसीकिसी बुखार में संतरा जहर का काम करता है. बस, ताई ने सारे संतरे आसपड़ोस में बांट दिए. मेरे हाथ भी 6 संतरे लग गए.’’

‘‘मिल ही रहे थे, तो पूरे दर्जनभर ले आती,’’ ताराचंद ने कहा.

‘‘ले तो आती, मगर सोचा कि शाम को 6 ही तो खा सकेंगे. बाकी रखेरखे सड़ गए तो फेंकने ही पड़ेंगे. अब कपड़े बदल लो. शाम के लिए कटोरा भर कर आलूपालक की सब्जी सुशीला दे गई है. भूख लग आए तो बता देना. मैं रोटियां सेंक दूंगी,’’ संतोष ने कहा.

‘‘सुशीला के घर की सब्जी में तो मिर्च बहुत होगी,’’ ताराचंद बोले.

‘‘अरे, मुफ्त की तो मिर्च में भी मजा ले लेना चाहिए. तुम्हें तो मुझे शाबाशी देनी चाहिए, जो मौका मिलते ही मुफ्त का जुगाड़ कर लेती हूं,’’ संतोष ने कहा.

ताराचंद हंस कर बोले, ‘‘तुम्हारी खूबी का तो मैं शुरू से ही कायल रहा हूं. कोई सोच भी नहीं सकता कि इस छोटी सी खोपड़ी के भीतर अक्ल का इतना बड़ा भंडार है.’’

तभी ताराचंद को अपनी बात याद आई, ‘‘तुम्हारी तो बात हो गई, लेकिन आज मैं ने भी कुछ कम अक्ल का काम नहीं किया है. मेज पर लिफाफे में 4 आम रखे हैं.’’

‘‘आम,’’ संतोष चौंकी.

‘‘तुम जरा इन की खुशबू तो लो,’’ ताराचंद बोले.

‘‘अब बता भी दो कि कहां से लाए हो…’’ इतराते हुए संतोष ने पूछा.

‘‘आज एक आदमी हमारे खन्ना साहब के लिए तोहफे में थैला भर कर आम ले आया था. साहब ने मुझ से ही कह दिया कि एकएक सब को बांट दो. बस, मैं ने मौका देख कर उन में से 4 आम चुरा लिए,’’ उन्होंने बताया.

‘‘अरे, चुराने ही थे, तो कम से कम 6 तो चुराते,’’ संतोष ने मुंह बिचकाया.

ताराचंद कुछ कहने ही वाले थे कि आवाज सुन कर रुक गए.

‘‘संतोष बहन…’’

आवाज पहचान कर संतोष बोली, ‘‘अरी कमलेश बहन, बाहर से क्या आवाजें दे रही हो, अंदर आ जाओ.’’

‘‘नमस्ते भाई साहब. मैं कह रही थी कि तुम्हारे घर में थोड़ा सा गरम मसाला होगा. मैं तो आज मंगाना ही भूल गई और ये हैं कि बिना गरम मसाले के खाने में स्वाद ही नहीं मानते,’’ कमलेश ने अंदर आ कर कहा.

संतोष दुनियाभर का अफसोस अपने चेहरे पर लाते हुए बोली, ‘‘तुम भी कैसे समय पर आई हो बहन, गरम मसाला मेरे यहां भी सुबह ही खत्म हुआ है. इन से मंगाया तो था, लेकिन मर्दों की भूलने की आदत तुम जानती ही हो, सो ये भी भूल गए. लो, ये 2 आम तुम भी ले जाओ.’’

‘‘वह तो ठीक है… लौकी के कोफ्ते बना रही थी, मगर अब गरम मसाला…’’

कमलेश की बात पूरी होने से पहले ही संतोष बोल पड़ी, ‘‘लौकी के कोफ्ते तो एक दिन सरोज ने खिलाए थे हमें. कह रही थी कि उस के जैसे कोफ्ते पूरे महल्ले में कोई नहीं बना सकता.’’

कमलेश ने मुंह बनाया, ‘‘अपने मुंह से अपनी तारीफ करना मुझे तो नहीं आता. कल दोबारा बनाऊंगी, तो तुम्हारे यहां भी भिजवा दूंगी. फिर तुम खुद ही देख लेना कि कोफ्ता किसे कहते हैं.’’

कमलेश के बाहर जाते ही संतोष मुसकराई, ‘‘देखा, कल की सब्जी का भी इंतजाम हो गया.’’

‘‘वह तो देखा, लेकिन उसे इतने महंगे आम क्यों दे दिए? देने ही थे तो संतरे दे दिए होते,’’ ताराचंद बोले.

संतोष हंसी, ‘‘अक्ल से काम लेना सीखो. हो सकता है कि दुर्गा ताई ने उसे भी संतरे दे दिए हों.’’

अचानक ताराचंद के चेहरे पर आई उदासी देख कर संतोष को हैरानी हुई. उस ने वजह पूछी, तो ताराचंद परेशान हो कर बोले, ‘‘खन्ना साहब कल रात घर आ रहे हैं, वह भी पत्नी के साथ.’’

यह सुन कर संतोष भी सोच में डूब गई. कुछ देर बाद थोड़ा खुश हो कर वह इतमीनान से बोली, ‘‘आसपड़ोस में मेरा दबदबा तो तुम ने देख ही लिया है. सब्जियों का जुगाड़ हो जाएगा. हमें केवल रोटियों और सलाद का इंतजाम करना पड़ेगा.’’

‘‘सुनो, खन्ना साहब की मिसेज को पिछली बार खीर बहुत पसंद आई थी. खन्ना साहब दफ्तर में भी बहुत दिनों तक उसी की चर्चा करते रहे थे,’’ ताराचंद ने याद दिलाया.

‘‘वह सुशीला के यहां से आई थी,’’ कहते हुए संतोष 2 समोसे और थोड़ी सी बरफी साथ ले कर सुशीला के घर निकल गई.

2 दिन बाद उन्होंने खन्ना साहब को बड़े आदर के साथ अपने घर आने की दावत दी, जिसे खन्ना साहब ने खुशीखुशी मंजूर कर लिया.

शाम को वे दोनों इतमीनान से घर पर खन्ना साहब के आने का इंतजार करने लगे. महल्लेभर से दाल, सब्जी, रायता का एकएक डोंगा शाम को साढ़े 7 बजे से पहले ही उन के घर पहुंच चुका था. बस, सुशीला के घर से खीर आने की कमी रह गई थी.

जब पौने 8 बजे तक खीर नहीं पहुंची तो ताराचंद को थोड़ी चिंता सताने लगी. तभी बाहर खन्ना साहब की कार के रुकने की आवाज सुनाई दी. खन्ना साहब अपनी पत्नी के साथ उन्हीं के घर की ओर बढ़ रहे थे.

‘‘लो, ये लोग तो आ गए. लेकिन तुम्हारी सुशीला अभी तक नहीं आई,’’ ताराचंद फुसफुसाए.

संतोष भी उसी अंदाज में बोली, ‘‘तुम इन लोगों का स्वागत करो. मैं सुशीला के घर से हो कर आती हूं.’’ वह तेजी के साथ सुशीला के घर की ओर चल दी. सुशीला उसे घर में कहीं दिखाई नहीं दी.

संतोष सीधे उस के रसोईघर में पहुंच गई. यह देख कर उसे बड़ी राहत मिली कि सुशीला खीर तैयार करने के बाद ही कहीं गई थी. खीर भरी पतीली सामने ही रखी थी. उस ने फटाफट डोंगा भरा और अपने घर पहुंच गई.

डोंगा रसोईघर में रख संतोष भी उन के बीच चली आई. मिसेज खन्ना बोलीं, ‘‘मिसेज चंद, आप हैं कहां? हमारे पास बैठिए. खाना तो एक बहाना है. हम तो प्यार के भूखे हैं, इसीलिए तो मुंह उठाए किसी भी छोटेमोटे आदमी के यहां जा टपकते हैं.’’

‘जी,’ ताराचंद और संतोष के मुंह से एकसाथ निकल पड़ा. खन्नाजी ने समझाने के अंदाज में कहा, ‘‘इन का मतलब है कि हम किसी को भी छोटा नहीं समझते.’’

संतोष ने कुछ ही देर में खाना मेज पर सजा दिया. ढेर सारी चीजें देख कर मिसेज खन्ना बोलीं, ‘‘अरे, इतना सबकुछ करने की क्या जरूरत थी…’’

‘‘यह तो कुछ भी नहीं है, आप शुरू करें,’’ संतोष ने एक डोंगा उन की तरफ बढ़ाया. वे सब खाने में जुट गए. बीच में संतोष ने ताराचंद को इशारा किया कि वह खन्ना साहब से अपने प्रमोशन की बात छेड़ दें.

‘‘सर, आप बुरा न मानें तो…’’ ताराचंद हकलाने लगे.

‘‘अरे, अब कह भी डालिए,’’ खन्ना साहब ने कुछ तेजी के साथ कहा.

ताराचंद सकपका गए और बोले, ‘‘मेरा मतलब है सर, आप ने यह बैगन का भरता तो छुआ ही नहीं है. थोड़ा यह भी लीजिए न.’’

सरस सलिल विशेष

‘‘ओ… जरूर लेंगे, जरूर लेंगे. लेकिन इस में इतना हकलाने की क्या बात थी,’’ खन्ना साहब बोले.

‘‘भाई साहब, अब यह खीर तो लीजिए. आप लोगों के लिए खासतौर से बनवाई है,’’ कुछ देर बाद संतोष ने खन्ना साहब से कहा.

‘‘भई, खीर तो हमारी श्रीमतीजी की पसंद है. वे जी भर कर खा लें,’’ खन्ना साहब बोले.

‘‘आप लीजिए न, मैं तो 2 कटोरी ले चुकी हूं,’’ मिसेज खन्ना ने खीर का डोंगा खन्ना साहब के सामने सरका दिया.

वे बड़े चाव से खीर खा ही रहे थे कि अचानक सुशीला वहां चली आई और बोली, ‘‘संतोष बहन, जो खीर तुम मेरे घर से उठा लाई थीं, वह तुम ने खाई तो नहीं? उसे खाना मत. वह कौशल्या है न, उस का कुत्ता आज पता नहीं कैसे खुला रह गया और मेरी रसोई में घुस कर उस खीर में मुंह मार गया.

‘‘मैं ने तो खीर अलग रख दी थी कि रामकली की गाय को खिला दूंगी, मगर इस बीच तुम उसे उठा लाईं. मैं उस समय कौशल्या की खबर लेने चली गई थी.’’

अचानक सुशीला की नजर खाने की मेज पर पड़ी और वह ठिठक गई. मेहमानों को देख कर उस ने वहां रुकना ठीक नहीं समझा और उलटे पैर वापस चली गई.

उस के जाते ही वहां कुछ देर के लिए सन्नाटा छा गया. फिर मिसेज खन्ना अचानक चीखीं, ‘‘खीर कुत्ते की जूठी थी.’’ इस के साथ ही उन्होंने एक उबकाई ली और सारा खायापीया वहीं मेज पर उगल दिया.

‘‘डार्लिंग… डार्लिंग…’’ खन्ना साहब ने घबरा कर कहा और अचानक ताराचंद की ओर देखते हुए दहाड़े, ‘‘यू… मिस्टर ताराचंद… तुम्हारी यह हिम्मत, हमें भिखारी समझते हो. भीख में मांगा हुआ खाना हमें खिलाते हो, वह भी कुत्ते का जूठा…

‘‘हम तुम्हें दरदर का भिखारी बना देंगे. ऐसा भिखारी जिसे कुत्ते का जूठा भी कभी नसीब नहीं होगा, समझे तुम.’’

‘‘सर… सर, माफ कर दीजिए सर, कुछ नहीं होगा सर. कुत्ते को इंजैक्शन लगे हुए हैं सर,’’ ताराचंद के दिमाग ने काम करना बंद कर दिया था.

तभी मिसेज खन्ना की उबकाइयां बढ़ती गईं. ‘‘अपनेआप को संभालो डार्लिंग,’’ कहते हुए खन्ना साहब फिर से उन्हें संभालने लगे.

ताराचंद के मुंह से खन्ना साहब के अंदाज में ही निकला, ‘‘हांहां, डार्लिंग, अपनेआप को संभालो.’’

‘‘मिस्टर ताराचंद, तुम्हारी यह मजाल कि तुम हमारी बीवी को डार्लिंग कह रहे हो, वह भी हमारे ही सामने…’’ खन्ना साहब चीखे.

वह शायद ताराचंद के कपड़े भी फाड़ देते, लेकिन मिसेज खन्ना फिर उबकाई लेने लगीं.

अपनी बातों के तीरों से ताराचंद को अच्छी तरह से छलनी करने के बाद वे लोग चले गए.

ताराचंद और संतोष काटो तो खून नहीं की हालत में खड़े रह गए. कुछ देर बाद ताराचंद संतोष पर बिफर पड़े, ‘‘भाड़ में गई तुम्हारी खूबी, तुम्हारे चलते डूब गई न नैया…’’

इतना सुनना था कि संतोष रोने लगी और भीतर जा कर ताराचंद नाक रगड़रगड़ कर माफी मांगने के अभ्यास में जुट गए.

Tags:
COMMENT