अकसर ओल्डर कलीग का ज्यादा एक्सपीरियंस्ड होना, सपोर्टिव होने, फाइनैंशियल स्टेबल होने आदि के कारण लड़कियां उन की तरफ अट्रैक्ट हो जाती हैं. उन के साथ औफिस में 7-8 घंटे का साथ, काम के दौरान डिस्कशन, शेयरिंग, केयरिंग बढ़ावा देता है सेक्सुअल टैंशन को. लेकिन यह किसी भी तरह से सही नहीं है.

सैक्सुअल टैंशन का मतलब है जब आप किसी के साथ सेक्स करने की इच्छा रखते हों, लेकिन सेक्स न कर पा रहे हों. इसे इस तरह भी सम झा जा सकता है कि आप को किसी को देख कर उस के करीब आने का मन करता हो लेकिन आप की यह चाह मन में ही दबी रहने से आप के लिए अपनी तलब को कंट्रोल करना मुश्किल हो जाता है. इस का मतलब है कि आप सैक्सुअल टैंशन महसूस कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें- सेक्स फैंटेसी को लेकर लोगों की बदलती सोच, पढ़ें खबर

वर्कप्लेस पर अकसर ही लड़कियां सैक्सुअल टैंशन महसूस करती हैं और जब यह सैक्सुअल टैंशन सीनियर कोवर्कर या कहें ओल्डर कलीग के साथ हो तो सैक्सुअल टैंशन लगातार बढ़ती जाती है, क्योंकि सेक्स तक पहुंचना मुश्किल हो जाता है. इस सिचुएशन में सेक्स इसलिए मुश्किल है क्योंकि आप चाहे अविवाहित हों लेकिन उम्र में बड़ा सीनियर शादीशुदा हो सकता है.

कलीग का शादीशुदा होना यानी कि उस के साथ सेक्स करना या रिलेशनशिप में आना मुश्किल होता है. ऐसे में सैक्सुअल टैंशन वक्त के साथ बढ़ती जाती है. आप अगर अपनी उम्र से बड़े कलीग से सेक्स करने की इच्छा रखती हैं यह जानते हुए कि उस के साथ सेक्स करना मुश्किल है तो आप यकीनन सैक्सुअल टैंशन महसूस कर रही हैं.

सैक्सुअल टैंशन की निशानी

  • जब भी वह व्यक्ति आसपास से गुजरता है तो आप दोनों की नजरें एकदूसरे से टकरा जाती हैं. नजरें टकरा कर एकदूसरे पर कुछ सैकंड के लिए ठहर जाने का मतलब है कि आप दोनों एकदूसरे में इंट्रैस्टेड हैं.
  • आप के कलीग को जितना मौका मिलेगा आप की सीट की तरफ आने का या आप से बात करने का, वह नहीं छोड़ेगा. कुछ ऐसा ही आप भी करती हैं जब आप को मौका मिलता है.
  • दोनों एकदूसरे से फ्लर्ट करते हो यह जानते हुए भी कि आप दोनों रिलेशनशिप में नहीं आ सकते.
  • आप दोनों एकदूसरे से हाथ मिलाते हो तो आप को सामान्य से कुछ अलग महसूस होता है. लगता है जैसे हाथ पकड़े ही खड़े रहें देर तक.

ये भी पढ़ें- नहीं चाहते अपनी सेक्स लाइफ में कोई प्रोब्लम, तो जरूर अपनाएं ये टिप्स

  • आप को अपने कलीग को देख कर उसे किस करने का या गले लगाने का मन करने लगता है.
  • दोनों जानबू झ कर एकदूसरे से टकराने की कोशिश करने लगते हो.
  • आप अपने कलीग को ले कर डेड्रीम यानी दिवास्वप्न देखने लगते हो. आप अपनी कल्पना में उस कलीग के साथ सेक्स करने लगते हो.
  • एकदूसरे को देखने पर या बात करने पर हमेशा लगता है कि कुछ है जो दोनों कह नहीं पा रहे हैं, जिस से सैक्सुअल टैंशन इंगित होती है.
  • एकदूसरे के करीब आने पर हार्ट रेट बढ़ जाता है और शरीर में सैंसेशन सी महसूस होने लगती है.
  • सैक्सुअल टैंशन महसूस होने का मतलब यह नहीं है कि आप को अपने ओल्डर कलीग से प्यार है. यह नौर्मल है और बिना स्ट्रौंग फीलिंग्स के भी हो सकती है.

क्यों होती है सैक्सुअल टैंशन

ओल्डर कलीग के साथ सैक्सुअल टैंशन होने के बहुत से कारण है जिन में पहला तो यही है कि आप उन की तरफ आकर्षित हैं. आकर्षण या अट्रैक्शन होना लाजिमी है क्योंकि कलीग चाहे उम्र में बड़ा हो लेकिन कहते हैं न ‘मेन एज लाइक फाइन वाइन.’ लुक्स के अलावा भी बहुत से कारण हैं जिन से लड़कियों को खुद से सीनियर और ओल्डर कलीग के लिए सैक्शुअल टैंशन महसूस होती है.

वे हर चीज के लिए क्लियर होते हैं : ओल्डर मेन अपने कैरियर, लाइफ और थिंकिंग को ले कर बहुत क्लियर होते हैं. उन्हें पता है कि वे क्या चाहते हैं और क्या नहीं. वे वर्कप्लेस में सीनियर होते हैं और इसलिए उन की वहां धाक जमती है.

ये भी पढ़ें- सेक्स या मुहब्बत

उन के पास ऐक्सपीरियंस होता है : चाहे औफिस के अंदर के काम हों या बाहर के, चाहे प्रोफैशनल चीजें हों या पर्सनल, उन के पास ऐक्सपीरियंस होता है. वे नौसिखिए नहीं होते. लड़कियां यह जानती हैं कि ओल्डर कलीग न तो उन के एक्सबौयफ्रैंड की तरह कनफ्यूज्ड घूमेगा और न ही बैड पर बुरा परफौर्म करेगा, क्योंकि ऐक्सपीरियंस होता है. जाहिर तौर पर उन्होंने ज्यादा दुनिया देखी है, उन्हें पता है किस काम को कैसे करना है या किस जगह जाना है, क्या खाना है, क्या खरीदना है और सेविंग्स कैसे करनी है आदि.

फाइनैंशियल स्टेबिलिटी होती है : लड़कियां उन लड़कों की तरफ या कहें आदमियों की तरफ ज्यादा आकर्षित होती हैं जो फाइनैंशियली स्टेबल होते हैं. औफिस में काम करने वाली लड़कियां स्कूलकालेज की तरह खाली जेब वाले बौयफ्रैंड में इंट्रैस्ट नहीं रखतीं क्योंकि वे खुद अच्छाखासा कमा रही होती हैं. ऐसे में जब कोई उन से ज्यादा कमाने वाला उन के तरफ रुचि दिखाता है तो उन्हें भी उस में रुचि आने लगती है.

वे सपोर्टिव होते हैं : 22-23 साल की लड़कियों के अपनी उम्र के बौयफ्रैंड्स अपनी लाइफ को ले कर ही इतने उल झे हुए होते हैं कि सपोर्ट देने के बजाय वे, बस, लेना जानते हैं. उन से बिलकुल उलट ओल्डर कलीग होता है जिस की अपनी लाइफ बहुत शौर्टआउट है और इसीलिए वे सपोर्ट देना जानते हैं. औफिस में बौस से किस प्रेजैंटेशन के बारे में किस तरह बात करनी है से ले कर काम को और बेहतर कैसे बनाना है तक वे सब सम झाते हैं, बताते हैं.

सैक्सुअल टैंशन को खत्म करना जरूरी

ओल्डर कलीग के साथ सेक्स करने में बुराई नहीं है लेकिन जब आप को पता हो कि वह व्यक्ति शादीशुदा है और आप का उस के साथ सेक्स करना आप के कैरियर, रैपुटेशन और नौकरी के लिए खतरा बन सकता है तो इस सैक्सुअल टैंशन को खत्म करना बहुत जरूरी हो जाता है.

ये भी पढ़ें- लव बाइट: सेक्स बनाए रोमांचक

  • मन में सोच लें कि आप को अपने ओल्डर कलीग के साथ सेक्स नहीं करना है, तो नहीं करना है. अगर कभी मौका मिलता भी है एकदूसरे के करीब आने का या एकदूसरे को छूने का, किस करना का, तो पीछे हट जाएं.
  • खाली जगह पर उस कलीग के साथ जाने से बचें. खाली लिफ्ट, औफिस का खाली कोना, उस की कार में बैठ कर जाना या भरी मैट्रो में एकदूसरे के बहुत करीब खड़े होने जैसी सिचुएशन से जितना खुद को दूर रख सकते हैं, रखें.
  • एकदूसरे का हाथ पकड़ना, देर तक नजरें मिलाना, घूरना और किसी भी तरह से छूना बंद कर दें.
  • किसी और को डेट करने की कोशिश करें. कोई और जिस के साथ आप सेक्स करना चाहें तो कर सकें. इस से आप की अपने ओल्डर कलीग के साथ सैक्सुअल टैंशन खत्म हो जाएगी और शायद इंट्रैस्ट भी.
  • जितना हो सके उतना कम समय एकदूसरे के साथ बिताएं.
  • फ्लर्ट पर और फ्लर्टी टैक्सटिंग पर रोक लगाएं. फ्लर्ट सैक्सुअल टैंशन का बड़ा कारण है.
  • सेक्सुअल टैंशन को रिलीज करने के लिए सेक्सुअलएनर्जी को डाइवर्ट करने की कोशिश करें. कोई ऐसा काम या ऐक्टिविटी करना शुरू कर दीजिए जिस से मन में सेक्स को ले कर खयाल ही कम आने लगें या न आएं. खुद को औफिस में ही इतना बिजी कर लीजिए कि अपने ओल्डर कलीग पर ध्यान देने का आप को समय ही न मिले.

ये भी पढ़ें- जानें क्यों सेक्स करते समय छेड़छाड़ करना है जरूरी, पढ़ें खबर

Tags:
COMMENT