असुरक्षित सेक्स संबंध बनाने से लड़के व लड़कियों दोनों को ही सैक्सुअल डिजीजेस हो सकती हैं. यह वे बीमारियां हैं जो सेक्स करने के दौरान एक व्यक्ति से दूसरे में ट्रांसफर हो जाती हैं. सेक्स के दौरान दोनों व्यक्तियों का शारीरिक जुड़ाव कई बीमारियों का आदानप्रदान करता है जिन की उन्हें जानकारी भी नहीं होती. ये बीमारियां जानलेवा हो सकती हैं. वर्ल्ड हैल्थ और्गेनाइजेशन यानी डबल्यूएचओ के अनुसार ग्लोबली हर दिन 10 लाख व्यक्ति सैक्सुअली ट्रांसमिटेड इनफैक्शंस यानी एसटीआई के शिकार होते हैं. कुछ एसटीआई ऐसे हैं जो एचआईवी का कारण भी बनते हैं.

ऐसे में किसी भी व्यक्ति के लिए यह बहुत जरूरी हो जाता है कि वह जिस के साथ सेक्स कर रहा है उस के बारे में जान ले, खासकर यह कि कहीं उसे कोई बीमारी तो नहीं है. लड़कियां सेक्स को ले कर उतनी सहज नहीं होतीं जितने लड़के होते हैं. यह एक बड़ा कारण है कि लड़कियां जान नहीं पातीं कि उन के बौयफ्रैंड को कहीं किसी प्रकार की कोई सैक्सुअल बीमारी है या नहीं. इस से हट कर वन नाइट स्टैंड या पहली डेट पर ही सेक्स करने पर उन्हें इस बात का कोई अंदाजा नहीं होता कि लड़का पूरी तरह से स्वस्थ है या नहीं. इसी कारण वे अनजाने में कई बीमारियों की चपेट में आ जाती हैं. इस के बाद उन के पास सिवा पछताने के कुछ नहीं होता.

लड़कियों को सेक्स से पहले किन बातों की जानकारी होनी चाहिए और अपने बौयफ्रैंड में बीमारी के लक्षण किस तरह पहचानने चाहिए, इस विषय पर हम ने एक्सैस हैल्थकेयर दिल्ली के हैड औफ द डिपार्टमैंट, सीनियर कंसल्टैंट व फिजियोथेरैपिस्ट डा. सत्यम भास्कर से बात की.

ये भी पढ़ें- आखिर लड़कों से क्यों नहीं पूछी जाती वर्जिनिटी

किसकिस तरह के सैक्सुअल ट्रांसमिटेड इनफैक्शंस व डिजीजेज लड़कियों को लड़कों से हो सकते हैं?

एचआईवी, गोनोरिया, पीआईडी, क्लैमिडिया, ट्रिकोमोनाइसिस, सिफलिस, एचवीपी, जेनिटल हर्प्स आदि,  कुछ सामान्य सैक्सुअल डिजीजेज या कहें बीमारियां हैं. ये बीमारियां व्यक्ति की स्किन, मुंह, होंठ, रैक्टम, एनस, जेनिटल और्गन्स को प्रभावित करती हैं.

लड़कों में ऐसी कौन सी इंटरनल और एक्सटर्नल बीमारियां हैं जो सेक्स करने पर लड़कियों को हो सकती हैं?

मान लीजिए अगर किसी लड़के को किसी भी तरह की सैक्सुअल डिजीज हो या ट्रांसमिटेड डिजीज हो तो वह सेक्स करने पर लड़की को हो सकती है. अगर लड़के के खून में किसी भी तरह की बीमारी के कण हैं और सेक्स के दौरान वह लड़की के संपर्क में आते हैं तो उसे वह बीमारी हो सकती है. जैसे अगर लड़के के शरीर पर कोई कट लगा हुआ है और आप की स्किन या ब्लड उस के संपर्क में आएंगे तो उस से संक्रमण हो सकता है.

ओरल सेक्स आजकल बहुत बढ़ गया है. इस से होने वाली बीमारियों से बचने के लिए किन बातों का ध्यान रखना चाहिए?

अगर आप अपने पार्टनर के साथ ओरल सेक्स करने वाले हैं तो इस से पहले आपस में बात करें. मार्केट में डैंटल डैम कंडोम उपलब्ध है जो बहुत ही बढि़या तरीका है ओरल सेक्स के दौरान बीमारियों से बचने का. अकसर लोग जल्दबाजी में एक्सपायरी डेट चैक करना भूल जाते हैं, इसलिए एक्सपायरी डेट सब से पहले चैक करें. यह कंडोम थोड़ा महंगा आता है लेकिन उपयोगी है. दूसरा, अगर आप ओरल सेक्स कर रहे हैं तो कोई औयली चीज न खाएं. ऐसा इसलिए क्योंकि औयल कंडोम की प्रोटैक्शन लेयर को डैमेज करता है.

क्या सेक्स के दौरान लव बाइट्स और नाखूनों को घोंपने से भी बीमारी हो सकती है?

सिंपल सी बात है कि यह सैक्सुअल एब्यूज के अंतर्गत आता है. अगर आप का पार्टनर नाखूनों को बहुत ज्यादा पेनिट्रेट कर रहा हो, अंदर तक घोंप रहा हो तो नाखूनों से किसी भी तरह के जर्म्स आप के शरीर में जा सकते हैं. अगर आप के पार्टनर को कोई बीमारी है जो सलाइवा से या दांतों से काटने पर फैल सकती है तो वह भी आप को लव बाइट्स के कारण आसानी से हो जाएगी. साथ ही, अगर आप अपने पार्टनर को स्किन पर काटती हैं, तब भी आप को संक्रमण हो सकता है.

ब्लड ट्रांसमिशन से होने वाली बीमारियों से बचाव कैसे कर सकते हैं?

आप सेक्स से पहले अपने पूरे शरीर पर नारियल का तेल लगा सकते हैं जिस से आप के शरीर पर एक लेयर बन जाए. कुछ चीजें माइंड में रखें जो आप को कंट्रोल में रखनी ही हैं, जैसे लव बाइट्स से बचना है, नाखून अंदर तक घोंपने नहीं हैं. ध्यान दें कि आप एकदूसरे की स्किन पर किसी तरह की चोट देने से बचें.

ये भी पढ़ें- सेक्स और बैडरूम

इस के साथ ही पौस्चर्स पर ध्यान दें. आजकल लड़केलड़कियां कई ऐसे पौस्चर्स में सेक्स करते हैं जिन से उन्हें गंभीर चोटें लगती हैं. पौस्चर्स जिन से आप को दर्द हो, उन्हें न करें.

सेक्स को ज्यादा सेफ बनाने के लिए मार्केट में कौनकौन सी चीजें उपलब्ध हैं?

मार्केट में प्रोडक्ट तो एक ही है कंडोम. मेल और फीमेल दोनों कंडोम अवेलेबल हैं जिन का यूज किया जा सकता है. ओरल के लिए डैंटल डैम कंडोम यूज करें. लड़कियां वैजाइनल टैबलेट्स का इस्तेमाल करें जिस से प्रोटैक्शन बढ़ जाएगा. जिन्होंने पहले कभी इस्तेमाल नहीं किया वे डाक्टर से मिल कर परामर्श ले सकते हैं या जिसे जानकारी हो, उस से बात करें.

लड़कियां इस बात पर ध्यान दें कि मैंस्ट्र ुएशन यानी पीरियड्स के दिनों में सेक्स न करें. पीरियड्स में संक्रमण का खतरा कई गुना बढ़ सकता है. इस में लड़कों को बीमारी होने का खतरा ज्यादा होता है. सिफलिस और गोनोरिया लड़कों को आसानी से हो जाती हैं.

लड़कों के शरीर पर बीमारियों के कौन से लक्षण हैं जो लड़कियों को नोटिस करने चाहिए?

लड़कियां कुछ लक्षण नोटिस कर सकती हैं जैसे सोर थ्रोट, स्किन रैशेज, लड़कों के जौइंट्स में दर्द होता है, पैलविक फ्लोर में तकलीफ होती है, सिर में दर्द रहता है, सांस लेने में तकलीफ हो सकती है, यहां तक कि उन की स्पीच में भी दिक्कत आने लगती है. और ये सभी बीमारियां लड़की को होने की संभावना है, जो समलैंगिक सेक्स में भी हो सकती हैं. लड़के को यदि सिफलिस हो तो उस की स्किन पर रैशेज, चेहरे पर स्पौट्स, कुहनी छू कर देखने पर पता चलेगा कि हलकी सूजन है, कलाई पर सूजन, साथ ही उसे बुखार भी रहता है.

आजकल किस करना तो बेहद नौर्मल है. क्या उस से किसी तरह की कोई परेशानी हो सकती है?

बिलकुल हो सकती है. अगर किसी को लंग्स की कोई बीमारी है तो वह भी ट्रांसफर हो सकती है. हालांकि उतनी प्रौब्लम नहीं होगी लेकिन एयर के जरिए जो बीमारियां फैलती हैं, वे हो सकती हैं. सलाइवा के कारण भी कई बीमारियां हो सकती हैं. माउथ इन्फैक्शन जैसे जिंजीवाइटिस हो सकता है. अगर जीभ पर दाने हों तो वे पार्टनर को भी हो सकते हैं. विटामिन सी की कमी से व्यक्ति के होंठ सूखने लगते हैं, खून आने लगता है, किस करने पर पार्टनर को इन्फैक्शन हो सकता है.

कोई ऐसी चीज जो सेक्स से पहले लड़कियों को पता होनी चाहिए?

पहली चीज जो लड़कियों को पता होनी चाहिए यह है कि उन के पार्टनर के कितने सेक्स पार्टनर्स रहे हैं. मल्टीपल पार्टनर्स के साथ सेक्स करने वाले व्यक्ति में बीमारियों की संभावना होती है. इस के अलावा ऊपरलिखित बातें ध्यान में रखें.

ये भी पढ़ें- आखिर कौनसी सेक्स पोजीशन है सबसे खतरनाक, पढ़ें खबर

Tags:
COMMENT