अगर आप की पार्टनर लंबे समय से सैक्स के लिए न कह रही है, तो यह चिंता की बात हो सकती है. यह संभव है कि आप की पार्टनर सैक्स के प्रति रुझान न होने की समस्या से जूझ रही हो. इसे महिला यौन अक्षमता भी कहा जाता है. इस शब्द का उपयोग उस व्यक्ति को परिभाषित करने के लिए किया जाता है, जो अपने साथी को सैक्स के दौरान सहयोग नहीं करता. महिलाओं में एफएसडी यानी फीमेल सैक्सुअल डिसफंक्शन होने के कई कारण हो सकते हैं, जैसे सैक्स के दौरान दर्द या मनोवैज्ञानिक कारण. ऐसे में डाक्टर से सलाह लेना बेहद जरूरी है.

इस समस्या के निम्न मुख्य कारण हैं:

मनोवैज्ञानिक कारण:  पुरुषों के लिए सैक्स एक शारीरिक मुद्दा हो सकता है, लेकिन महिलाओं के लिए यह एक भावनात्मक मुद्दा है. पिछले बुरे अनुभवों के चलते कुछ महिलाएं भावनात्मक रूप से टूट जाती हैं. वर्तमान में बुरे अनुभवों के कारण मनोवैज्ञानिक मुद्दे या फिर अवसाद इस का कारण हो सकता है.

और्गेज्म तक न पहुंच पाना: एफएसडी का दूसरा भाग ऐनौर्गेस्मिया कहलाता है. यह स्थिति तब होती है जब व्यक्ति को या तो कभी और्गेज्म नहीं होता या वह कभी इस तक पहुंच ही नहीं पाता. और्गेज्म तक पहुंचने में असमर्थता भी एक मैडिकल कंडीशन है. सैक्स में रुचि की कमी और और्गेज्म तक पहुंचने में असमर्थता दोनों ही स्थितियां गंभीर हैं.

ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि महिलाएं अधिक फोरप्ले पसंद करती हैं. अगर ऐसा नहीं होता है तो और्गेज्म तक पहुंचना मुश्किल है.

ये भी पढ़ें- वर्जिनिटी को लेकर कोई भ्रम न पालें

इस का मनोचिकित्सा के माध्यम से इलाज किया जा सकता है. महिलाओं को अपने रिश्ते में सैक्स के साथ समस्याएं होती हैं. यदि आप को भी ऐसी कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है, तो आप को जल्द से जल्द ऐंड्रोलौजिस्ट से मिलना चाहिए ताकि समस्या संबंधों को प्रभावित न करे.

फीमेल सैक्सुअल डिसफंक्शन का इलाज और उपचार: जहां तक एफएसडी इलाज के घरेलू उपचार का सवाल है तो वास्तव में यह बहुत प्रभावी नहीं होता. बाजार में कई तरह की महिला वियाग्रा मौजूद हैं, लेकिन ये आमतौर पर मनचाहे नतीजे नहीं दे पातीं. महिलाएं लेजर के साथ योनि कायाकल्प ट्राई कर सकती हैं. आप चाहें तो प्लेटलेट रिच प्लाज्म (पीआरपी) थेरैपी भी अपना सकती हैं. इस क्षेत्र में ब्लड सर्कुलेशन में सुधार करने के लिए योनि के पास इंजैक्शन दिया जाता है. इसे ओशौट के रूप में जाना जाता है.

यदि आप यौन संबंध का आनंद नहीं ले पा रही हैं तो डाक्टर से मिलें. दोनों भागीदारों के लिए डाक्टर का यौन परामर्श उपयोगी हो सकता है. दिनचर्या बदलने और अलगअलग आसन अपना कर इसे और अधिक आनंदायक बनाया जा सकता है. योनि क्रीम का उपयोग भी किया जा सकता है.

ये भी पढ़ें- सेक्स के लिये सुरक्षित नहीं होता ‘सुरक्षित दिन’

ज्यादातर महिलाएं, विशेष रूप से जब उम्रदराज हो जाती हैं तो उन्हें संभोग से पहले अधिक फोरप्ले की आवश्यकता होती है. ज्यादातर महिलाओं को योनि प्रवेश के साथ संभोग के दौरान ज्यादा आनंद नहीं आता है. उन्हें अपने को संभोग करने में सक्षम बनाने के लिए अपने साथी से अपने यौनांगों को सहलाने के लिए कहना चाहिए. हस्तमैथुन या मौखिक सैक्स यौन गतिविधियां अपनाई जा सकती हैं.

-डा. अनूप धीर

अपोलो हौस्पिटल, नई दिल्ली द

Tags:
COMMENT