स्वस्थ रहने की पहली शर्त यह है कि शरीर में बीमारियों से लड़ने की क्षमता हो. शरीर बीमार न पड़े, यह अच्छी बात है, लेकिन ऐसा होता नहीं है. शरीर में मजबूत रोग प्रतिरोधक क्षमता नहीं है तो बीमारी आप को दबोच लेगी. यानी बीमार पड़ने और बीमार न पड़ने के बीच की सब से मजबूत दीवार है रोग प्रतिरोधक क्षमता या बौडी इम्यून. जिस का बौडी इम्यून जितना ताकतवर होगा उस के सेहतमंद रहने और लंबी उम्र तक जीने के उतने ही ज्यादा आसार होंगे.

आज की तेज रफ्तार जीवनशैली ने इंसान की रोग प्रतिरोधक क्षमता को पहले के मुकाबले कमजोर कर दिया है. नियमित ऐक्सरसाइज, संतुलित आहार व समय पर भोजन के चौतरफा सुझाव मिलते हैं ताकि मानसिक व शारीरिक रूप से स्वस्थ रहा जा सके लेकिन मल्टीनैशनल कल्चर के इस दौर में हम अपने खानपान व सेहत संबंधी कार्यक्रमों को जानतेबूझते हुए भी नियमित व अनुशासित नहीं कर पाते. ऐसी स्थिति में शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता या इम्यूनिटी का कमजोर होना स्वाभाविक है. नतीजतन, शरीर में विभिन्न प्रकार के भौतिक व पर्यावरणीय तनावों को सह पाने की क्षमता नहीं होती.

आज अनुशासित जीवन जीना बहुत ज्यादा कठिन है फिर भी अगर बेहतर स्वास्थ्य चाहिए तो इस कठिन अनुशासन को भी अपनाना ही पड़ेगा. ऐसे में यह जरूरी हो जाता है कि हम अपने शरीर को रोग प्रतरोधात्मक क्षमता के नजरिए से ऐसा बनाएं कि वह तमाम रोगों से लड़ सके और उन्हें शरीर में प्रविष्ट न होने दे. इस के लिए जरूरी है कि व्यक्ति अपनी सेहत, जीवनशैली और कार्यस्थल के माहौल पर विशेष ध्यान दे.

ये भी पढ़ें- चोट व जले के दर्द से राहत देता है पान, जानें इसके कई अन्य फायदे

मजबूत प्रतिरोधात्मक क्षमता

दरअसल, जब शरीर की प्रतिरोधात्मक क्षमता कम होती है तो तापमान के गिरने या बढ़ने से या संक्रामक रोगों के फैलने से हम फौरन बीमार पड़ जाते हैं जबकि जिन की प्रतिरोधात्मक क्षमता मजबूत होती है वे कभीकभार ही बीमार पड़ते हैं. यह सही है कि इम्यूनिटी काफी हद तक वंशानुगत यानी जैनेटिक होती है लेकिन हमारे वातावरण में जो कीटाणु यानी जर्म्स होते हैं उन का सामना करने से यह बढ़ जाती है. जितने अधिक प्रकारों के कीटाणुओं का हम सामना करेंगे जाहिर है उतना ही मजबूत हमारा इम्यून सिस्टम हो जाएगा क्योंकि हमारा शरीर न केवल कीटाणुओं को पहचानने लगेगा बल्कि उन का प्रतिरोध भी करने लगेगा. इसलिए टीकाकरण महत्त्वपूर्ण हो जाता है. टीकाकरण के अतिरिक्त कोई और जरिया नहीं है जिस से विरासत में मिली इम्यूनिटी को मजबूत किया जा सके. लेकिन हम अपने वातावरण को जरूर परिवर्तित कर सकते हैं.

इम्यून कोशिकाएं शरीर में त्वचा से ले कर अंदर तक सभी जगह होती हैं. आमतौर से वयस्कों का इम्यून सिस्टम बहुत मजबूत होता है जिस में हजारों कीटाणुओं की मेमोरी होती है. लेकिन पर्यावरण की वजह से इन इम्यून कोशिकाओं का स्तर प्रभावित हो सकता है और अध्ययनों से मालूम हुआ है कि अस्वस्थ जीवनशैली, कान व तनाव भी इम्यूनिटी को कम कर देते हैं. शायद यही वजह है कि मधुमेह या डायबिटीज व हृदय रोगों को ‘जीवनशैली रोग’ कहा जाता है. यह अच्छी बात है कि जीवनशैली रोगों से हम अपनी जीवनशैली में सुधार कर के अच्छी तरह से निबट सकते हैं क्योंकि इस के जरिए हम अपने शरीर की रोग प्रतिरोधात्मक क्षमता को बढ़ा सकते हैं.

सक्रिय जीवनशैली सेहत के लिए हमेशा अच्छी होती है. स्वास्थ्य विशेषज्ञ कहते भी हैं कि आप दिन में कम से कम आधा घंटा कोई न कोई ऐसा काम अवश्य करें जिस से शरीर हरकत में रहे, जैसे

तेज चहलकदमी करना, जिम, स्पोर्ट्स, साइकिलिंग, ऐरोबिक्स इत्यादि. ऐक्सरसाइज का सब से बड़ा फायदा यह है कि पसीने के जरिए शरीर से जहरीले पदार्थ यानी टौक्सिन बाहर निकल जाते हैं और शरीर के भीतर एंड्रोफिन्स हार्मोन जारी होते हैं जो तनाव स्तर को नियंत्रित रखते हैं. ध्यान रहे कि तनाव से इम्यूनिटी बहुत अधिक प्रभावित होती है. ऐक्सरसाइज का चयन हमेशा अपनी आयुवर्ग व खानपान के हिसाब से करें.

पुरानी कहावत पूरी तरह से सही है कि ‘हम जैसा खाएंगे अन्न वैसा ही बनेगा मन और शरीर.’ अगर हम पौष्टिक व संतुलित आहार लेते हैं तो शरीर में ऐसे लोगों के मुकाबले ज्यादा बेहतर रोग प्रतिरोधक क्षमता होगी जो संतुलित व पौष्टिक भोजन नहीं लेते.

संतुलित आहार

पौष्टिक और संतुलित भोजन हमें रोगों से लड़ने की क्षमता प्रदान करता है. संतुलित आहार का अर्थ है वह भोजन जिस में सब्जियों और प्रोटीन का अच्छा मिश्रण होता है. पौष्टिक आहार का अर्थ है, ऐसा भोजन जिस में पर्याप्त मात्रा में विटामिंस व खनिज मौजूद हों ताकि शरीर की प्रतिरोधात्मक क्षमता को मजबूत किया जा सके. जिन फूड्स में विटामिन ए, बी, सी व ई, फोलेट और कैरोनाइड्स व खनिज जैसे जिंक, क्रोमियम व सेलिनियम होते हैं वे न केवल इम्यूनिटी बढ़ाते हैं बल्कि स्वस्थ इम्यून सिस्टम के लिए भी जरूरी हैं. प्रोटीन के लिए चिकन, फिश और दाल (विशेष रूप से मूंग व मसूर) खाएं ताकि शरीर को ईंधन मिले. विटामिन सी के लिए संतरा, मौसमी, आंवला, नीबू आदि लें और अपनी इम्यूनिटी का स्तर बढ़ाएं.

शरीर की इम्यूनिटी बढ़ाने में 5 खाद्य  पदार्थों को 5 वंडर फूड्स की संज्ञा दी गई है. इस में दही को पहले नंबर पर इसलिए रखा गया है कि वह प्रोबायोटिक्स, अच्छे बैक्टीरिया जो पाचन में मदद करते हैं, का अच्छा स्रोत है. बाकी अन्य 4 फूड्स हैं – संतरा, पालक, मछली व नट्स.

वहीं, यह भी आवश्यक है कि जो भी फूड्स हम लें वे ताजे अवश्य हों. रैफ्रिजरेटर में रखे या प्रोसैस्ड फूड सांस व पेट की परेशानियां पैदा कर सकते हैं. दमा या कुछ प्रकार की एलर्जियां पहले विरासत में मिले रोग समझे जाते थे लेकिन अब ये जीवनशैली रोगों में शामिल हो गए हैं क्योंकि हम ऐसी चीजें खाने लगे हैं जिन में कृत्रिम रंग या प्रिजर्वेटिव्स होते हैं.

ये भी पढ़ें- सांस की तकलीफ को नाकरें अदेखा, हो सकती है 

संतुलित जीवन

इम्यूनिटी का मन व शरीर से गहरा संबंध है. अगर हम तनावग्रस्त होंगे तो बहुत आसानी से हमें संक्रामक रोग पकड़ लेंगे. डिप्रैशन या तनावग्रस्त होने पर हम अपने आहार और जीवनशैली पर भी ध्यान नहीं दे पाते. मानसिक थकान की वजह से नींद नहीं आती और हम रोगों से लड़ने के लायक नहीं रहते. इसलिए यह बहुत जरूरी है कि तनाव को नियंत्रित रखें या तनावमुक्त रहें. तनावमुक्त रहने के लिए यह सुनिश्चित करें कि रोजमर्रा की स्थितियों पर हमारी प्रतिक्रिया संतुलित हो. हास्य, ऐक्सरसाइज व सैक्स के जरिए हम अपने मस्तिष्क में अच्छे रसायनों का स्तर बढ़ा सकते हैं और तनावमुक्त रह सकते हैं.

बहरहाल, ऐक्सरसाइज, संतुलित व पौष्टिक आहार और तनावमुक्त रहने से हम अपने शरीर की रोग प्रतिरोधात्मक क्षमता या इम्यूनिटी को मजबूत कर लेते हैं और इस तरह हमारा शरीर ऐसा कवच बन जाता है जो हमें रोगों से दूर रखता है, फिर चाहे मौसम का मिजाज कितना ही बदलता रहे.

ये भी पढ़ें- लड़कों को क्यों जरुरी है अपने प्राइवेट पार्ट की ग्रूमिंग 

विशेषज्ञों का कहना है कि दिन में 3 बार पेट भर कर खाने से बेहतर है छोटेछोटे मील दिन में 4 या 5 बार लिए जाएं जिन में विशेष रूप से फल, सब्जियां, ओमेगा-3 युक्त मछली, थोड़ा सा जैतून का तेल विशेष रूप से शामिल हो. अदरक व लहसुन को नियमित सप्लीमैंट के तौर पर लेना चाहिए. यह भी सुनिश्चित कर लें कि हमें पर्याप्त मात्रा में ऐंटीऔक्सिडैंट विटामिन सी और ई मिल रहे हैं. सक्रिय जीवनशैली भी बहुत जरूरी है.

Tags:
COMMENT