सिगरेट पीने से ना सिर्फ आपके लंक्स खराब होते है बल्की इसके चलते आपको कई घातक बीमारियों से भी दो चार होना पड़ता है. सिगरेट पीने से सबसे ज्यादा देखी जाने वाली बीमारी है क्रौनिक औब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज.

क्या है क्रौनिक औब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज

क्रौनिक औब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज (COPD) एक क्रौनिक इंफ्लेमेटरी लंग डिजीज है, जो फेफड़ों से हवा के बहाव को बाधित करती है. लक्षणों में सांस लेने में कठिनाई, खांसी, बलगम (थूक) का उत्पादन और घरघराहट शामिल हैं. यह लंबे समय तक एक्सपोजर गैसों या सूक्ष्म कणों के कारण होता है, जो कि ज्यादातर सिगरेट के धुएं से होता है. सीओपीडी वाले लोगों में निमोनिया, हृदय रोग, फेफड़ों के कैंसर और कई अन्य स्थितियों के विकास का खतरा होता है. एम्फिसीम (वातस्फीति) और क्रोनिक ब्रोंकाइटिस दो प्रकार के क्रौनिक औब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज हैं और दोनों ही आमतौर पर धूम्रपान के कारण होते हैं. धुएं में विषाक्त पदार्थों के कारण, फेफड़े के ऊतक क्षतिग्रस्त हो जाते हैं और सांस की हवा से औक्सीजन को रक्त प्रवाह में स्थानांतरित करने की अपनी क्षमता खो देते हैं।

क्या है सीओपीडी के लक्षण

सीओपीडी एक ऐसी घातक बीमारी है जिसका शुरुआती समय में पता ही नहीं चलता. इसके लक्षण अक्सर तब तक प्रकट नहीं होते हैं जब तक कि पूरी तरह से फेफड़ों खराब ना हो जाएं. हालांकि वे आमतौर पर समय के साथ खराब हो जाते हैं, खासकर अगर धूम्रपान करना आप जारी रखते है तो. क्रोनिक ब्रोंकाइटिस के के मुख्‍य लक्षण में रोजाना की खांसी और बलगम का उत्पादन शामिल है यह लगातार दो साल तक या कम से कम तीन महीने तक होता है.

ये भी पढ़ें- घबराहट में क्यों आता है पसीना

कैसे पहचाने सीओपीडी

  1. सांस की तकलीफ, खासकर शारीरिक गतिविधियों के दौरान
  2. घरघराहट
  3. सीने में जकड़न
  4. आपके फेफड़ों में अतिरिक्त बलगम
  5. होंठ या नाखूनों का नीलापन (सायनोसिस)
  6. बार-बार श्वसन संबंधी संक्रमण
  7. शक्ति की कमी
  8. वजन में कमी (बाद के चरणों में)
  9. टखनों, पैरों या पैरों में सूजन

सीओपीडी के कारण

विकसित देशों में सीओपीडी का मुख्य कारण तंबाकू धूम्रपान है. विकासशील देशों में, सीओपीडी अक्सर खराब हवादार घरों में खाना पकाने और हीटिंग के लिए जलने वाले ईंधन से धुएं के संपर्क में आने वाले लोगों में होता है.

केवल 20 से 30 प्रतिशत लोग जो लंबे समय से धूम्रपान कर रहे हैं उनमें स्‍पष्‍ट रूप से सीओपीडी विकसित हो सकता है. हालांकि लंबे धूम्रपान इतिहास वाले लोगों में धूम्रपान से फेफड़ों के कार्यों में बाधा पैदा करते है.

ये भी पढ़ें- लड़कों को क्यों जरुरी है अपने प्राइवेट पार्ट की ग्रूमिंग 

किन लोगों को हो सकता है सीओपीडी रोग 

  1. धूम्रपान करने वालों के संपर्क में रहने वालों को ये समस्‍या हो सकती है।
  2. जो लोग अस्‍थमा से पीडि़त हैं और स्‍मोक करते हैं।
  3. ऐसे लोग जो केमिकल और धुएं युक्‍त फैक्ट्रियों के आस-पास रहते हैं।

Tags:
COMMENT