भारत का मेक इन इंडिया प्रोग्राम मुख्यतया उन देशों के लिए उपयुक्त था जो यूरोप से महंगा सामान नहीं खरीद सकते थे और चीन के एकाधिकार से भयभीत थे.