सरकार अब विचारों की स्वतंत्रता का गला घोंटने की पूरी तैयारी कर रही है और देश के एकलव्यों का अंगूठा काटने का इतिहास एक बार फिर दोहराया जाएगा, यह दिख रहा है.